Skip to content
WhatsApp Image 2022-08-07 at 7.45.58 PM
Advertisement

बडे सामाजिक बदलाव का वाहक बना है स्वास्थ्य मेला- उपायुक्त खूँटी

tnkstaff

अड़की प्रखण्ड के चलकद ग्राम में ‘स्वास्थ्य मेला ते दोला’ स्वास्थ्य मेला का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में लगभग 3 हजार से अधिक संख्या में ग्रामीणों ने इलाज कराया। विशेषज्ञ चिकित्सकों ने सुगम रूप से मरीजों का इलाज किया। साथ ही मोबाईल यूनिट के माध्यम से भी चिकित्सीय उपचार सुनिश्चित किया गया। कार्यक्रम का शुभारंभ मुख्य अतिथि माननीय न्यायाधीश, उच्च न्यायालय झारखंड, रांची, डॉ एस. एन पाठक, प्रधान जिला एवं सत्र न्यायाधीश व अन्य उपस्थित अतिथियों द्वारा दीप प्रज्ज्वलन कर किया गया।

Advertisement

कार्यक्रम में माननीय न्यायाधीश, उच्च न्यायालय झारखण्ड, डॉ एस. एन पाठक द्वारा अपने अभिभाषण में इस पहल की सराहना की गई। उन्होंने कहा कि धरती आबा बिरसा मुंडा की पावन भूमि पर स्वास्थ्य मेला निश्चित ही कार्यक्रम की सफलता दिखाता है। भगवान बिरसा मुंडा के पथ पर चलते हुए स्वास्थ्य के क्षेत्र में लोगों का मार्गदर्शन करना चाहिए। इस तरह के आयोजन से स्वास्थ्य के क्षेत्र में व्यापक स्तर पर परिवर्तन प्रदर्शित होगा।

साथ ही उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य विभाग को इस प्रकार के स्वास्थ्य मेलाओं को गांवों तक ले जाना होगा ताकि स्वस्थ एवं विकसित झारखंड का निर्माण हो। उन्होंने अपने सम्बोधन में कहा कि खूंटी जिला पर्यटन के दृष्टिकोण से भी बेहतर संभावनाएं बटोरे हुए है। आकर्षण का केंद्र खूंटी जिला निश्चित ही राष्ट्र के लिए उदाहरण बन कर उभरेगा।

स्वास्थ्य कैम्प में उपस्थित प्रधान जिला एवं सत्र न्यायाधीश द्वारा जनसमूह की संबोधित करते हुए कहा गया कि शिविर में सभी लोगों को मिला स्वास्थ्य लाभ सराहनीय है। उन्होंने सभी जिला प्रशासन, स्वास्थ्यकर्मियों, पारामेडिकल कर्मी की सराहना की।  
उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य के क्षेत्र में एक नया आयाम कायम हो रहा है। साथ ही उन्होंने ग्रामीणों को अपने अधिकारों के प्रति अजग रहने को लेकर भी जागरूक होने की बात कही। उन्होंने कहा कि सभी प्रकार की समस्याओं का उचित निराकरण किया जाना आवश्यक है।

बडे सामाजिक बदलाव का वाहक बना है स्वास्थ्य मेला: उपायुक्त

कार्यक्रम के दौरान उपायुक्त ने चलकद के ग्रामीणों का उत्साहवर्धन किया। उन्होंने कहा कि इस स्वास्थ्य के क्षेत्र में बेहतर प्रयास हमारी प्राथमिकता है। एक ही परिसर में मातृत्व शिशु स्वास्थ्य, हृदय रोग, कैंसर , न्यूरो से संबंधित गंभीर रोगों का इलाज किया गया है। साथ ही ग्रामीणों के बीच चश्मा का भी वितरण किया गया एवं निःशुल्क दवाएं भी उपलब्ध कराई गई। कैम्प में दिव्यांग जनों के बीच विभिन्न उपकरणों का वितरण भी किया गया है। लोगों को स्वास्थ्य सुविधाएं दी गयी हैं। उन्होंने कहा कि इसके साथ ही खूँटी जिला को पर्यटन के आकर्षण केंद्र के रुप में भी विकसित किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि प्रगतिशील विचारों का परिचायक खूंटी जिला नए आयाम बनाएगा। आगे उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य के साथ-साथ शिक्षा, कृषि व अन्य क्षेत्रों में भी उचित व सक्रिय कार्य किये जा रहे हैं। खूंटी जिला विकास की असीम संभावनाएं बटोरे हुए है और स्वास्थ्य मेला जैसे प्रयास ही इन्हें सार्थकता प्रदान करते हैं।

इस दौरान कार्यक्रम में उपस्थित एडिशनल एडवोकेट जनरल महोदया द्वारा भी अपने सम्बोधन में सुदूर क्षेत्रों के विकास को लेकर विभिन्न बिंदुओं पर चर्चा की गई। उन्होंने कहा कि अड़की के सुदूर चलकद के ग्रामीण इतने सजग हैं ये देखकर प्रसन्नता हो रही है। ऐसे ग्राम सभा और ग्रामीणों के सामूहिक प्रयासों से ही ये आयोजन सफल बनते हैं। उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य विकास का अहम मानक है जिसे बेहतर बनाने की दिशा में ये प्रयास सराहनीय है। कार्यक्रम के दौरान मेडिका अस्पताल के डॉ विजय मिश्रा ने कहा कि निश्चित ही इस कार्यक्रम में भागीदार बनना सौभाग्य रहा। ऐसे कार्यक्रम उदाहरण है कि किस प्रकार स्वास्थ्य जैसी मूलभूत आवश्यकता लोगों तक पहुंच रही है।

व्यवस्थित रूप से उपलब्ध कराई गई स्वास्थ्य सुविधाएं:

सामन्य स्क्रीनिंग के लिए 20 स्टाल (ANM, सहिया और volunteer के साथ) स्थापित किये गए। BP, तापमान, ऊंचाई एवं वजन की जांच की गयी।

सामान्य जांच डॉक्टर की उपलब्धता के लिए सामान्य चिकित्सको प्रतिभागियों की प्राथमिक जांच की। डॉक्टर से परामर्श (अलग-अलग जोन में) विशेषज्ञों के माध्यम से विभिन्न प्रकार के स्वास्थ्य परामर्श उपलब्ध कराए गए। उक्त डॉक्टरों की आवश्यकता को मद्देनज़र रखते हुए उपकरणों एवं यंत्रों की आपूर्ति सुनिश्चित की गयी।

इस दौरान सामान्यडॉक्टर, पंजीकरण), सामान्य स्क्रीनिंग , पैथोलोजी , दवा खाना , विशेषज्ञ की सुविधा के साथ चश्मा वितरण  व दवाइयों का वितरण किया गया।

साथ ही विशिष्ठ रूप से JSLPS कैंप, ALIMCO कैंप, आयुष्मान कैंप, कृषि व पशुपालन विभाग , UDID कैंप, एवं जिला समाज कल्याण के द्वारा कैंप लगाया गया।

शिविर में विभिन्न बीमारियों के विशेषज्ञ चिकित्सक मरीजों के इलाज के लिए उपस्थित रहें। इस मेगा हेल्थ कैंप में जिला के अस्पतालों के चिकित्सक के साथ मेडिका की टीम ने मरीजों का इलाज किया।

उक्त स्वास्थ्य शिविर में शिशु रोग, महिला रोग, दांत रोग, कैंसर रोग, हड्डी रोग, हृदय रोग, चर्म रोग, पेट रोग, न्यूरो रोग, नेत्र रोग, यूरो रोग, मधुमेह रोग, रक्त रोग आदि रोगों के विशेषज्ञ चिकित्सक मौजूद रहें। शिविर में सामान्य रोगों की भी जांच कर निःशुल्क दवाईयां दी गयी।

शिविर में परिसम्पत्तियों का वितरण भी किया गया:

स्वास्थ्य मेला के दौरान प्रधानमंत्री आवास योजना ग्रामीण, कृषि विभाग, मत्स्य एवं पशुपालन विभाग, JSLPS, जिला समाज कल्याण विभाग के द्वारा मुख्यमंत्री कन्यादान योजना, प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना एवं मुख्यमंत्री सुकन्या योजना के तहत लाभ दिया गया। इस दौरान ALIMCO की ओर से दिव्यांजनों के लिए उपकरणों का वितरण भी किया गया।
साथ ही आंगनबाड़ी सेविकाओं के बीच ड्रेगन फ्रूट के पौधों का वितरण किया गया। ड्रेगन फ्रूट की खेती को लेकर खूंटी जिले के सभी आंगनबाड़ी केंद्रों में ड्रेगन फ्रूट लगाए जाएंगे। खूंटी जिले को ड्रेगन फ्रूट कैपिटल बनाने का प्रयास जिला प्रशासन द्वारा किया जा रहा है।

ग्रामीणों का रहा अहम योगदान:

चलकद, बारूडीह समेत कई गांवों के ग्रामीणों ने स्वास्थ्य मेला के सफल आयोजन में अहम भूमिका निभाई है। हेल्थ कैंप में आने वाले तीन हजार लोगों के लिए भोजन की व्यवस्था जिला प्रशासन द्वारा की जा रही है। भोजन बनाने और परोसने का काम ग्रामसभा ने किया। भोजन पकाने की अन्य सारी व्यव्स्था भी गांव के लोगों ने की। मुंडारी बहुल क्षेत्र से आने वाले मरीजों और चिकित्सकों के मध्य अनुवादक के रूप में स्थानीय सहिया और युवक-युवतियां रही। मेगा हेल्थ कैंप की सफलता में सेवा वेलफेयर सोसाईटी के द्वारा महत्वपुर्ण योगदान दिया जा रहा है।

Leave a Reply