Skip to content

HEMANT SOREN : 12 अक्टूबर से हेमंत सरकार फिर से करेगी ‘आपकी योजना आपकी सरकार आपके द्वार’ की शुरुआत

Bharti Warish

HEMANT SOREN : झारखंड सरकार 12 अक्टूबर से ‘आपकी योजना आपकी सरकार आपके द्वार’ कार्यक्रम शुरू कर रही है। इस योजना के नाम से ही जाहिर है कि सरकार जनता की योजनाओं का लाभ देने के लिए उनके घर तक पहुंचेगी।

यह पहली बार नहीं सरकार ने इससे पहले भी ‘आपके अधिकार आपकी सरकार आपके द्वार’ कार्यक्रम का सफल आयोजन किया था जिसमें लोगों की समस्या और योजनाओं को लेकर सरकार ने एक वृहद कार्यक्रम चलाया था।

हेमंत सरकार के तीन साल पूरा होने के मौके पर यह वृहद आयोजन किया जा रहा है। कार्यक्रम 12 अक्टूबर से शुरू किया होगा जो 14 नवंबर तक चलेगा। इसे दो चरण में आयोजित किया जायेगा पहला चरण 12 से 22 अक्टूबर तक और दूसरा चरण 1 से 14 नवंबर तक होगा।


इस आयोजन के माध्यम से सरकार ‘आपकी योजना आपकी सरकार आपके द्वार’ कार्यक्रम के तहत पंचायत स्तर पर शिविरों का आयोजन किया जायेगा।

राज्य सरकार की लोक कल्याणकारी योजनाओं को ग्रामीणों के बीच रखा जाएगा। शिविर से ही आम लोगों की समस्याओं को दूर करने की कोशिश होगी। सरकार उन पंचायतों पर फोकस कर रही है जहां पिछले साल शिविर नहीं लगाया जा सका था।

ग्रामीणो को उनके लाभ के लिए दिये जाने वाली योजनाओं की जानकारी भी इस कार्यक्रम के माध्यम से ग्रामीणो तक पहुंचाने की कोशिश होगी।

Also read: कोडरमा जिले के मरकच्चो प्रखंड में किया गया “सरकार आपके द्वार” का आयोजन, जनता की सुनी गयी फरियाद

झारखंड राज्य खाद्य सुरक्षा योजना के अंतर्गत 5 लाख नए ग्रीन राशन कार्ड, सावित्री बाई फुले किशोरी समृद्धि योजना, मुख्यमंत्री पशुधन विकास योजना, सर्वजन पेंशन योजना के, किसान क्रेडिट कार्ड सहित कई योजनाओं के लिए आवेदन भी इसी कार्यक्रम के द्वारा आमंत्रित किये जा सकेंगे।

इस कार्यक्रम में लोग यह भी शिकायत कर सकेंगे कि उन्हें कौन सी योजना का लाभ नहीं मिल रहा है

हेमंत सरकार ने दो साल पूरा होने भी ‘आपके अधिकार आपकी सरकार आपके द्वार’ कार्यक्रम का आयोजन किया गया था। राज्य सरकार के आंकड़ों के अनुसार, इस कार्यक्रम के तहत विभिन्न योजनाओं का लाभ लेने के लिए मिले कुल 35.95 लाख आवेदनों में से 35.56 लाख का निष्पादन किया गया था। इस कार्यक्रम की सफलता के बाद सरकार एक बार फिर इसे सफलता पूर्व संचालित करने की रणनीति बना रही है।

Leave a Reply