Skip to content
Advertisement

विश्व आदिवासी महोत्सव में सखी मंडल की ग्रामीण महिलाओं द्वारा निर्मित उत्पादों की रहीं धूम, किया 10 लाख से ज़्यादा का कारोबार

zabazshoaib

रांची: बिरसा मुण्डा स्मृति उद्यान में दो दिवसीय झारखण्ड आदिवासी महोत्सव-2023 का आज समापन हुआ। इस दो दिवसीय आयोजन में ग्रामीण विकास विभाग के अंतर्गत झारखण्ड स्टेट लाइवलीहुड प्रमोशन सोसाइटी (जेसएलपीएस) द्वारा पलाश एवं आदिवा ज्वेलरी के स्टॉल लगाकर सखी मंडल की महिलाओं के उत्पादों की प्रदर्शनी की गयी। इसके साथ ही ‘आजीविका दीदी कैफे’ के जरिये महोत्सव में आए लोगो को पारंपरिक आदिवासी भोजन भी उपलब्ध कराये गए।

पलाश ब्रांड के अंतर्गत 13 स्टॉल में राज्य के विभिन्न जिलों से आई सखी मंडल के महिलाओं द्वारा तैयार किये गये करीब 23 तरह के उत्पादों को बिक्री के लिए महोत्सव में रखा गया था। जिसमें शुद्ध सरसों तेल, अचार, मधु , मड़ुआ आटा, मसाले, लोबिया, लेमनग्रास एवं साबुन की काफी डिमांड थी। वहीं, पलाश के अचार भी लोगों के लिए आकर्षण का केंद्र था।

महोत्सव में राखी के त्यौहार के मद्देनज़र आदिवा ज्वेलरी की बहुत मांग रही। सखी मंडल की बहनों द्वारा निर्मित आदिवासी पारंपरिक ज्वेलरी ब्रांड आदिवा के तहत चाँदी एवं अन्य धातुओं से बने ज्वेलरी, जैसे झुमका, बाली इत्यादि लोगो ने बहुत चाव से ख़रीदा।

आदिवासियों के पारंपरिक पकवान भी आकर्षण के केंद्र रहे जहां सखी मंडल की महिलाओं द्वारा संचालित ‘आजीविका दीदी कैफे’ के तहत 6 स्टॉल में करीब 40 तरह के पारंपरिक व्यंजन परोसें गए। इस दो दिवसीय महोत्सव के दौरान करीब 10 लाख रुपये के पलाश उत्पादों की बिक्री हुईग्रामीण विकास विभाग के अंतर्गत जेएसएलपीएस द्वारा लगाए गए पलाश, आदिवा ज्वेलरी और आजीविका दीदी कैफ़े ने करीब 10 लाख रुपए का कारोबार किया.

Also read: Jharkhand Adivasi Mahotsav: आदिवासी महोत्सव 2023 में झारखण्ड की परंपराओं, संघर्षों और इतिहास जानने का अवसर देगा फिल्म फेस्टिवल

Advertisement
विश्व आदिवासी महोत्सव में सखी मंडल की ग्रामीण महिलाओं द्वारा निर्मित उत्पादों की रहीं धूम, किया 10 लाख से ज़्यादा का कारोबार 1