झारखण्ड की नदियां

tnkstaff
Share on facebook
Share on twitter
Share on email
Share on pocket
jharkhand-rivers (1)

Article @JharkhandGyan: झारखण्ड की नदियां बरसाती नदियां है | दूसरी शब्दों में झारखण्ड की नदियां बरसात के महीनो में पानी से भर जाती हैं जबकि गरमी के महीने में सूख जाती हैं | झारखण्ड की नदियां पानी के लिए मानसून पर निर्भर करती हैं | कठोर चटानी  जगह से होकर गुजरने के कारण झारखण्ड की नदियां नाव चलाने के लिए उपयोगी नहीं हैं | (अपवाद मोर/मयूराक्षी नदी ) मोर/मयूराक्षी नदी एकमात्र नदी है जिसमें वर्षा ऋतू में नाव चला करती हैं |

प्रवाह की दिशा के अनुसार झारखण्ड की नदियों को दो भागों में बाँटा गया है :- 

उतरवर्ती नदियां एवं दक्षिणवर्ती नदियां |

उतरवर्ती नदियां :- उन नदियां को उतरवर्ती नदियां कहा जाता है जो पठारी भाग से निकलकर उतर की ओर बहति हुई गंगा मे मिल जाती है ; जैसे – सोन , उतरि कोयल ,पुनपुन , फल्गु , सकरी , चानन आदि |

झारखण्ड के प्रमुख नदियों का नाम तथा उनकी उद्गम स्थान की पूरी सूची नीचे दी गयी है | इस सूची में आप को पूरी जानकारी विस्तार पूर्वक मिल जएगी 

उतरवर्ती नदियां का परिचय :

1.सोन नदी : उदगम – मैकाल पर्वत का अमरकंटक की पहाडी   

  • सहायक नदी: उत्तरी कोयल       
  • मुहाना: गंगा नदी
  • अपवाह क्षेत्र: पलामु व गढवा 

2.उत्तरी कोयल :  उदगम – रांची पठार का मध्य भाग  

  • सहायक नदी: औरंगा व अमानत
  • मुहाना: सोन नदी, अपवाह क्षेत्र : पलामु , गढवा, लातेहार आदि  

3.पुनपुन नदी :  उदगम – उतरी कोयल प्रवाह क्षेत्र के उत्तर से 

  • सहायक नदी: दारघा व मोरहर 
  • मुहाना: गंगा नदी,  उपनाम: कीकट, बमागधी   

 
4.फल्गु नदी: उदगम – छोटानागपुर पठार का उत्तरी भाग 

  • सहायक नदी: निरंजन (लीलाजन) व मोहना 
  • मुहाना: ताल क्षेत्र के निकट गंगा नदी में  
  • उपनाम: अंत: सलिला,  विशेषता: पिंड दान 

5.सकरी नदी: उदगम – छोटानागपुर का पठार 

  • सहायक नदी : किउल व मोरहर  
  • मुहाना : गंगा का ताल क्षेत्र  उपनाम : सुमागधी (रामायण) 
  • विशेषता: मार्ग बदलने के लिए कुखियत 

6.चानन/पंचाने नदी: उदगम – पांच जलधाराओ के मेल से विकसित (छोटानागपुर का पठार)

  • मुहाना : सकरी नदी    
  • दक्षिणवर्ती नदियां: इन नदियों को “दक्षिणवर्ती नदियां” कहा जाता है जो पठार के दक्षिण भाग से निकलकर पूरब या दक्षिण की ओर बहती है |
  • जैसे :- दामोदर, स्वर्ण रेखा, बराकर, दक्षिणी कोयल, शंख, अजय, मोर / मयूराक्षी, ब्राह्मणी, गुमानी, बंसललोई आदि | 
झारखण्ड की नदियां 1
झारखण्ड नदियों का मानचित्र

1.दामोदर नदी: उदगम – छोटानागपुर का पठार “लातेहार जिला का टोरी क्षेत्र”

  • सहायक नदी : बराकर, बोकारो, कोनार, जमुनिया, कतरी आदि
  • मुहाना : हुगली नदी
  • अपवाह क्षेत्र : (12,800km) हजारीबाग, गिरिडीह, धनबाद, बोकारो, लातेहार, रांची, लोहरदगा
  • उपनाम : देवनदी , बंगाल का शोक [ झारखण्ड की सबसे बड़ी , लंबी , ओर प्रदूषित नदी ]  झारखण्ड में यह 290 km लंबी दुरी तय करती है वैसे इसकी कुल लम्बाई 524 km है.

2.स्वर्णरेख नदी: उदगम – छोटानागपुर का पठार (रांची का नगड़ी गाँव)

  • सहायक नदी : कोकरो, काँची, खरकई
  • मुहाना : बंगाल की खाड़ी (स्वतंत्र रूप से बंगाल की खाड़ी में गिरती है)
     
  • अपवाह क्षेत्र: (11,868 km) रांची,सिंहभूम जिला (रांची से 28 km उत्तर-पूर्व दिशा में हुंडरू जलप्रपात, नदी की रेत में सोने का अंश मिलना)

3.बराकर नदी: उदगम – उत्तरी छोटानागपुर का पठार

  • मुहाना: दामोदर नदी
  • अपवाह क्षेत्र: (11,868 km) हजारीबाग, गिरिडीह, धनबाद 

4.दक्षिणी कोयल नदी: उदगम –  छोटानागपुर का पठार (रांची का नगरी गाँव)     

  • सहायक नदी: कोरो      
  • मुहाना: शंख नदी (उड़ीसा)
  • अपवाह क्षेत्र: (11,009 वर्ग km) लोहरदगा, गुमला, पशिचमी सिंहभूम व राँची 

5.शंख नदी: उदगम –  चैनपुर प्रखंड  (गुमला जिला)  

  • मुहाना: दक्षिणी कोयल नदी
  • अपवाह क्षेत्र : (4,107 वर्ग km) गुमला  

6.अजय नदी: उदगम – मुंगेर  (बिहार)

  • सहयेक नदी: पथरो, जयन्ती 
  • मुहाना: भागरथी नदी बंगाल   
  • अपवाह क्षेत्र : (3,612 वर्ग km) देवघर ,दुमका

7.मोर / मयूराक्षी: उदगम –  त्रिकुट पहाड़ी (देवघर)

  • सहायक नदी: घोवाई, टिपरा, पुसरो भामरी आदि  
  • मुहाना: गंगा ( पश्चिम बंगाल )  
  • अपवाह क्षेत्र : दुमका, साहेबगंज, देवघर, गोड्डा 
  • विशेषता : झारखण्ड की एकमात्र नौगम्य नदी 

8.ब्रहमाणी नदी: उदगम –  दुधवा पहाड़ी 

  • सहायक नदी: गुमरो व ऐरो 
  • मुहाना: गंगा नदी (पश्चिमी बंगाल) 

9. गुमानी नदी: उदगम – राजमहल की पहाड़ी 

  • सहायक नदी: मेरेल 
  • मुहाना: गंगा नदी (पश्चिमी बंगाल) 
  • अपवाह क्षेत्र: 1313 वर्ग km  

10.बांसलोई: उदगम –  बांस पहाड़ ( गोड्डा जिला )

  • मुहाना : गंगा नदी ( पश्चिमी बंगाल )

Leave a Reply

In The News

गया जिला ज्ञान और मुक्ति का द्वार! गया जिला का नाम गया कैसे पड़ा?

वैसे तो पूरा बिहार धर्म और कर्म दोनों के लिए जाना जाता है गया जिला ज्ञान और मुक्ति का द्वार…

मैं खेलेगा (Story)

बात है 1989 की एक क्रिकेट मैच हो रहा था इंडिया और पाकिस्तान के बीच में इंडिया almost हारने वाला…

पर्यावरण दिवस पर CM हेमंत सोरेन की जनता से अपील, पौधा लगाए और सींच कर पेड़ बनाए

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने राज्य की जनता से अपील करते हुए कहा की अपने हिस्से का पौधा लगाए और उसे…

नियमो को ताक पर रख चलाई जा रही बारूद फैक्टरी, हो सकती है बड़ी दुर्घटना

बोकारो जिला के चंदनक्यारी अंतर्गत भाड़ाजूरी में बारूद भंडारण की एक फैक्टरी संचालित है. AKS EXPO-CHEM PRIVATE LIMITED नामक कंपनी…

झारखंड पहुँच सकता है टिड्डी, स्थिति से निपटने के लिए अलर्ट हुआ प्रशासन

कोरोना महामारी से एक तरफ जहाँ पूरा देश ग्रसित है वही दूसरी तरफ एक नया खतरा टिड्डी मंडरा रहा है.…

झारखण्ड में कोरोना पॉजीटिव की संख्या बढ़ कर 9 हुई, सबसे ज्यादा मामले हिंदपीढ़ी से सामने आये है

झारखण्ड में कोरोनावायरस का प्रकोप बढ़ता जा रहा है. कुछ दिनों पहले तक झारखण्ड कोरोनावायरस के प्रकोप से बचा हुआ…

जोहार 😊

Popular Searches