Skip to content

नीतीश कैबिनेट में नहीं है कोई मुस्लिम चेहरा, विपक्ष हुआ हमलावर

amirtnk

बिहार में एक बार फिर नीतीश कुमार सत्ता में वापसी कर चुके हैं मंगलवार को नीतीश मंत्रिमंडल का पूरी तरह से गठन हो चुका है मंत्रियों को उनका विभाग भी बांट दिया गया है लेकिन नीतीश कुमार के सामने एक नया सवाल खड़ा हो गया है कि आखिर उन्होंने अपने मंत्रिमंडल में किसी भी मुस्लिम चेहरे को क्यों शामिल नहीं किया है इसे लेकर विपक्ष हमलावर है

Also Read: नीतीश सरकार के मंत्रियों को मिला विभाग, जानिए किसे मिला कौनसा मंत्रालय

Advertisement

राष्ट्रीय जनता दल के प्रवक्ता सारिका पासवान ने नीतीश कैबिनेट मैं किसी भी अल्पसंख्यक को जगह नहीं देने पर सवाल खड़े किए हैं उन्होंने कहा कि नीतीश सरकार में मंत्री बनाए गए मेवालाल चौधरी पर भ्रष्टाचार के आरोप हैं फिर भी उन्हें मंत्री बनाया गया है लेकिन किसी भी अल्पसंख्यक को मंत्री पद नहीं दिया गया. इस पर पलटवार करते हुए जनता दल यूनाइटेड के प्रवक्ता अजय आलोक ने कहा की जनता दल यूनाइटेड अल्पसंख्यक ओं का विशेष ध्यान रखती है साथ ही नीतीश कुमार अल्पसंख्यक ओं के प्रति संवेदनशील है परंतु इस बार चुनाव में अल्पसंख्यकों का ठेका महागठबंधन और ओवैसी लेकर घूम रहे थे

अजय आलोक ने महागठबंधन सहित असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी एआईएमआईएम को लेकर भी बड़ी बात कही है उन्होंने एमआईएम के जीतने वाले पांच विधायकों का कसूरवार महागठबंधन को ठहराया है अजय आलोक ने कहा कि महागठबंधन की गलती के कारण ही हैदराबाद से मुस्लिम लीग का फिर से उदय होगा. इधर ए आई एम आई एम के प्रदेश अध्यक्ष और अमोल विधायक अख्तरुल इमान ने एनडीए के सवाल करते हुए कहा कि मुकेश सैनी भी चुनाव हार चुके हैं लेकिन उन्हें मंत्री पद दिया गया?

नीतीश कैबिनेट में इस बार 14 लोगो को मंत्री बनाया गया है जिनमें 4 पिछड़ा वर्ग, 3 अति पिछड़ा वर्ग, 4 सवर्ण और 3 दलित मंत्री शामिल हैं.

Leave a Reply