1562232548

फेसबुक ने रिलायंस जियो में 43,574 करोड़ निवेश किया, 9.99 प्रतिशत हिस्सेदारी खरीदी

Shah Ahmad
Share on facebook
Share on twitter
Share on email
Share on pocket

भारत की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी रिलायंस जियो में फेसबुक ने 43,574 करोड़ का निवेश किया है. इसके साथ ही रिलायंस जियो में फेसबुक अब 99.99 प्रतिशत यानी तक़रीबन 10 प्रतिशत का हिस्सेदार बन गया है.

Advertisement

फेसबुक के रिलायंस जियो में इतनी बड़ी रकम के निवेश के पीछे की कहानी ये कहती है की फेसबुक के फाउंडर मार्क ज़ुकरबर्ग भारत में और अधिक अपना दबदबा कायम करना चाहते है. तो वही रिलायंस जियो के ऊपर जो कर्ज था इस पैसे का इस्तेमाल अब उसे चुकता करने में किया जायेगा। कंपनी ने बुधवार को इसकी घोषणा की है. उपयोगकर्ताओं आधार के लिहाज से भारत इस समय भी सबसे बड़ा बाजार है

Also Read: कोरोना पीड़ित की पहचान भाजपा सांसद निशिकांत दुबे ने की सार्वजनिक, क्या ये गाइड लाइन का उल्लंघन नहीं??

व्हाट्सप्प भारत डिजिटल भुगतान की शुरुआत करनी की योजना बना रहा है. भारत में पहले से कई डिजिटल भुगतान के लिए एप मौजूद है लेकिन व्हाट्सप्प भी पीछे नहीं रहना चाहता है. मालूम हो की व्हाट्सप्प भी फेसबुक का ही हिस्सा है. भारत में हर किसी के पास जो इंटरनेट का इस्तेमाल करता है उसके फ़ोन में व्हाट्सप्प को देखा जा सकता है.

Also Read: भारत में प्रत्येक उपयोगकर्ता प्रत्येक महिने 11.2GB डेटा का कन्‍जूयम करता है, जानिए पूरी रिपोर्ट

रिलायंस के एक बयान में कहा, ‘‘आज हम रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड के जियो प्लेटफार्म्स लिमिटेड में 5.7 अरब अमेरिकी डॉलर या 43,574 करोड़ रुपये निवेश करने की घोषणा कर रहे हैं, जिससे फेसबुक इसका सबसे बड़ा अल्पांश शेयरधारक बन जाएगा।’’ बयान में कहा गया है कि ​जियो प्लेटफार्म्स में फेसबुक की हिस्सेदारी 9.99 प्रतिशत होगी।

जियो प्लेटफार्म्स, रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड (आरआईएल) के पूर्ण स्वामित्व वाली सहायक कंपनी है, जो तमाम प्रकार की डिजिटल सेवाएं प्रदान करती है। इसके ग्राहकों की संख्या 38.8 करोड़ से अधिक है। आरआईएल द्वारा अपने कर्ज को कम करने के प्रयासों के तहत फेसबुक के साथ यह सौदा किया गया है। इसके लिए आरआईएल अपने व्यवसायों में रणनीतिक भागीदारी की तलाश कर रही है। समूह अपने तेल-रसायन कारोबार में 20 प्रतिशत हिस्सेदारी बेचने के लिए सऊदी अरामको के साथ बातचीत भी कर रही है। समूह ने अगले साल तक कर्ज मुक्त होने का लक्ष्य तय किया है। जियो में हिस्सेदारी के लिए कथित तौर पर गूगल से भी बातचीत की जा रही थी, लेकिन उन बातचीत के नतीजे के बारे में जानकारी फिलहाल नहीं है। ताजा सौदा जियो और फेसबुक दोनों के लिए फायदेमंद है क्योंकि चीन के बाद भारत दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा इंटरनेट बाजार है।

Advertisement

Leave a Reply

Share on facebook
Share on twitter
Share on pocket
Share on whatsapp
Share on telegram

Popular Searches