jac logo

JAC के 10वीं और 12वीं बोर्ड की परीक्षा में इस बार 1 अंक वाले होगे 30% प्रश्न

amarsid
Share on facebook
Share on twitter
Share on email
Share on pocket

कोरोनावायरस महामारी के कारण राजेश सहित देशभर में उत्पन्न हुए स्थिति के कारण स्कूलों को बंद रखा गया था जिस वजह से विद्यार्थियों की पढ़ाई बाधित हो रही है विद्यालय सहित विद्यार्थियों के सामने सिलेबस पूरी करने की सबसे बड़ी चुनौती है लेकिन झारखंड सरकार के द्वारा ऑनलाइन क्लासेस शुरू करके सिलेबस को पूरा करने का प्रयास किया गया है

Advertisement

झारखंड एकेडमिक काउंसिल की तरफ से दसवीं बोर्ड और बारहवीं बोर्ड के सिलेबस में 40% की कटौती हुई है पाठ्यक्रम में कटौती के बाद अब प्रश्न पत्र के पैटर्न में बदलाव का प्रारूप भी फाइनल कर लिया गया है. प्रश्न पत्र पैटर्न में बदलाव को लेकर स्कूली शिक्षा एवं साक्षरता विभाग के सचिव राहुल शर्मा ने झारखंड एकेडमिक काउंसिल के अध्यक्ष डॉ अरविंद प्रसाद सिंह और जैक सचिव महीप कुमार सिंह की बैठक भी हुई है बैठक में प्रश्न पत्र के पैटर्न के बदलाव पर सहमति बनी कोरोनावायरस को देखते हुए प्रश्न पत्र को और अधिक स्टूडेंट फ्रेंडली बनाने का निर्णय लिया गया है

साल 2021 में होने वाली मैट्रिक और इंटरमीडिएट की बोर्ड परीक्षा के लिए विभाग के द्वारा सीबीएसई सहित अन्य राज्यों के परीक्षा पैटर्न में किए गए बदलाव का आकलन करने के बाद झारखंड एकेडमिक काउंसिल के द्वारा भी परीक्षा के प्रश्न पत्र के पैटर्न में बदलाव की तैयारी जोरों शोरों से चल रही है विभाग के प्रस्ताव के अनुरूप मैट्रिक और इंटर बोर्ड की परीक्षा में बहुविकल्पीय रिक्त स्थान भरें अति लघु उत्तरीय प्रश्न की संख्या बढ़ाई जाएगी विभिन्न विषयों में 20 से 30 फ़ीसदी तक प्रश्न 1 अंक के होंगे 1 अंक वाले प्रश्नों में अधिकतर बहुविकल्पीय होंगे जबकि कुछ प्रश्न रिक्त स्थान भरे और कुछ प्रश्नों का जवाब परीक्षार्थियों को एक वाक्य में देने के लिए कहा जाएगा.

Advertisement

Leave a Reply

Share on facebook
Share on twitter
Share on pocket
Share on whatsapp
Share on telegram

Related News

Popular Searches