Skip to content

झारखंड के सरकारी स्कूलों में नौवीं और दसवीं के विद्यार्थियों को मिलेगी नि:शुल्क किताबें

झारखंड के सरकारी स्कूलों में विद्यार्थियों को कक्षा 1 से लेकर 8वीं तक नि:शुल्क किताबें दी जाती है. लेकिन राज्य सरकार की तरफ से यह योजना बनाई जा रही है कि अब नौवीं और दसवीं के विद्यार्थियों को भी निशुल्क किताबें दी जाएंगे.

झारखंड के सरकारी विद्यालयों में पढ़ने वाले नौवीं और दसवीं के विद्यार्थियों को भी इस वर्ष से नि:शुल्क किताबें दी जाएंगी. इस संबंध में माध्यमिक शिक्षा निदेशालय ने जेसीईआरटी से प्रस्ताव मांगा है. विभाग इस प्रस्ताव को योजना विकास विभाग के पास भेजेगा सरकार से स्वीकृति मिलने के बाद विद्यार्थियों को किताबों का वितरण किया जाएगा. तकरीबन 3 लाख विद्यार्थियों को यह किताबें नि:शुल्क दी जाएंगे. जिसमें नौवीं और दसवीं के विद्यार्थी शामिल होंगे.

Also Read: 9वीं व 11वीं का परीक्षा फॉर्म जमा करने का अंतिम मौका 28 तक

यदि इस पर अनुमति मिल जाती है तो नौवीं कक्षा और दसवीं कक्षा के विद्यार्थियों के करीब तीन लाख विद्यार्थियों को नि:शुल्क किताबें मिलेंगी. उन पर 19 करोड रुपए का खर्च आएगा. बता दें कि अब तक राज्य में पहले से आठवीं तक के विद्यार्थियों और नौवीं और दसवीं के छात्राओं को ही नि:शुल्क किताबें दी जाती रही हैं.

Also Read: इंडियन आर्मी में धर्म शिक्षक (मौलवी, पंडित, पादरी, ग्रंथी) के लिए निकली भर्ती

नौवीं और दसवीं के विद्यार्थियों को नि:शुल्क किताबें देने के लिए शिक्षा मंत्री जगरनाथ महतो ने साल 2020 में विभाग के पदाधिकारियों को यह निर्देश दिया था. जिसके बाद शिक्षा विभाग द्वारा प्रस्ताव बनाया गया था. प्रस्ताव योजना विकास विभाग को भेजा गया था लेकिन कोरोना संक्रमण की वजह से आधा सत्र से अधिक समय बीत जाने के कारण गत वर्ष छात्रों को किताबें देने के प्रस्ताव को स्वीकृति नहीं दी गई. अब सत्र 2021-22 के लिए नए सिरे से प्रस्ताव मांगा गया है.