सरकारी नौकरियों के लिए होगी एक ही भर्ती परीक्षा, साल में 2 बार CET कराएगी NRA , जानें पैटर्न और फायदे

Share on facebook
Share on twitter
Share on email
Share on telegram
Share on reddit

News Desk: बुधवार को हुए केंद्रीय कैबिनेट ने कई अहम फैसले किए, अब केंद्र सरकार सरकारी नौकरियों के लिए एक ही परीक्षा कराएगी। केंद्रीय मंत्रिमंडल ने भर्ती के लिए नेशनल रिक्रूटमेंट एजेंसी (एनआरए) के गठन को मंजूरी दे दी है। एनआरए केंद्र सरकार की सरकारी नौकरियों के लिए एक कॉमन एलजिबिलिटी टेस्ट (सीईटी) कराएगी। इससे करीब ढाई करोड़ उम्मीदवारों को एक से अधिक परीक्षाओं में बैठने से छुटकारा मिलेगा। इसकी शुरुआत रेलवे, बैंकिंग और एसएससी की आरंभिक परीक्षाओं को मर्ज करने से होगी। बाद में अन्य परीक्षाएं भी इसमें शामिल की जाएंगी। इस साल बजट में ही इस एजेंसी के गठन का ऐलान कर दिया गया था।

साल में दो बार होंगी परीक्षा :
कैबिनेट के फैसलों की जानकारी देते हुए सूचना एवं प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने बताया कि एनआरए साल में दो बार कामन सीईटी का आयोजन करेगी। अभी रेलवे भर्ती बोर्ड (आरबीएस) इंस्टीट्यूट आफ बैंकिंग पर्सनल सलेक्शन (आईबीपीएस) तथा कर्मचारी चयन आयोग (एसएससी) द्वारा आयोजित की जाने वाली आरंभिक परीक्षाओं को मर्ज किया जाएगा। इन परीक्षाओं में ग्रुप बी और सी के 1.25 लाख पदों के लिए करीब ढाई करोड़ उम्मीदवार बैठते हैं। लेकिन अभी उन्हें हर परीक्षा के लिए प्रारंभिक परीक्षा भी अलग-अलग देनी पड़ती है।

तीन साल तक मान्य रहेगी मेरिट सूची :
कार्मिक राज्य मंत्री डा. जितेन्द्र सिंह ने बताया कि नए फैसले के मुताबिक सीईटी में सफल उम्मीदवारों की एक मेरिट लिस्ट तैयार होगी, जो तीन साल तक मान्य रहेगी। हालांकि जो उम्मीदवार अपना स्कोर बेहतर करना चाहेंगे वे पुन परीक्षा में बैठ सकेंगे। जो उम्मीदवार प्रारंभिक परीक्षा में सफल होंगे उन्हें बैंक, रेलवे या एसएससी की दूसरे चरण की परीक्षा में शामिल होने के अवसर प्राप्त होंगे। उन्होंने साफ किया कि सिर्फ आरंभिक परीक्षा एक होगी बाकी अन्य औपचारिकताएं और नियम पूर्व की भांति रहेंगे।

क्या होगा फायदा 
-उम्मीदवारों को अलग-अलग आरंभिक परीक्षाओं से मुक्ति मिलेगी
– परीक्षाओं की तारीखें एक साथ आ जाने से एक परीक्षा छोड़नी पड़ती थी, जो अब नहीं होगी
– परीक्षा केंद्र अलग-अलग शहरों में पड़ते थे। अब यह समस्या खत्म हो जाएगी
-परीक्षाओं के लिए अब हर जिला मुख्यालय पर एक केंद्र होगा। दूर नहीं जाना होगा
– एक ही परीक्षा के लिए फीस भरनी होगी। यात्रा पर होने वाले खर्च में भी कमी आएगी
– रेलवे भर्ती बोर्ड, कर्मचारी चयन आयोग और आईबीपीएस के प्रतिनिधि संचालक मंडल में शामिल होंगे
– अभी परीक्षा के आवेदन से लेकर रिजल्ट आने में 12-18 महीने लगते हैं। सीईटी से यह समय घटेगा.

Leave a Reply

In The News

JEE,NEET परीक्षा आयोजन के समर्थन में सीएम योगी

जेईई मेन (JEE Main) और नीट (NEET) परीक्षाओं को लेकर देशभर में विरोध हो रहा है तो वहीँ उत्तर प्रदेश…

शिक्षा मंत्रालय ने साफ किया कि मंत्रालय NEET और JEE को लेकर पुनर्विचार नहीं करने जा रहा है

शिक्षा मंत्रालय (Ministry of Education) के उच्च पदस्थ सूत्रों ने बताया कि NEET और JEE एक्जाम को लेकर कोई पुनर्विचार…

JAC 10वीं और 12वीं के सिलेबस में कर सकता है भारी कटौती, तैयार किया जा रहा है रिपोर्ट

पुरे देश में फैले कोरोना महामारी कि वजह से झारखंड के सरकारी विद्यालयों में पढने वाले बच्चों को काफी दिक्कतों…

JAC Compartment Exam 2020 से सम्बंधित आवश्यक सुचना

News Desk: झारखण्ड अकादमिक कौंसिल की मेट्रिक और इंटरमीडिएट JAC Compartment Exam 2020 परीक्षा कौंसिल के ऑफिसियल वेबसाइट jac.jharkhand.gov.in पर…

बिहार प्रवासी मज़दूर की बेटी केरल के विश्वविद्यालय में हुई टॉप

पायल कुमारी ने केरल के महात्मा गांधी विश्वविद्यालय में अंतिम वर्ष की परीक्षा में टॉप करके अपने माता-पिता को गौरवान्वित…

JEE (Mains) और NEET की परीक्षा स्‍थगित नहीं करना चाहती है सरकार: सूत्र

सूत्रों के हवाले से सरकार जेईई (मेंस) और नीट की परीक्षा स्थगित नहीं करना चाहती है. गौरतलब है कि इस बारे…

Get notified Subscribe To The News Khazana

Follow Us

Popular Topics

Trending

Related News

जोहार 😊

Popular Searches