अजमेर शरीफ ने 1200 लोगो को अपने खर्च पर भेजा घर, रेलवे को चुकाए टिकट और खाने के पैसे

Share on facebook
Share on twitter
Share on email
Share on telegram
Share on reddit

राजस्थान का मशहूर अजमेर दरगाह कमिटी ने लॉकडाउन की वजह से फंसे तीर्थयात्रियों और फंसे मजदूरों को अपने खर्च पर उनके घर भेजा। दरगाह ने रेलवे और बसो को इसके लिए एक बड़ी रकम भी चुकाई है. 25 मार्च को लॉकडाउन होने के कारण प्रसिद्ध अजमेर शरीफ दरगाह, जहां सूफी संत ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती की दरगाह है. उन्होंने बंगाल के तक़रीबन 1200 लोगो को उनके घर अपनी खर्च पर भेजा है. जिसमे तीर्थयात्री और मजदूर शामिल है. लॉकडाउन होने की वजह से वे सभी यहाँ फंसे हुए थे.

Also Read: झारखण्ड लौट रहे मजदूरों के लिए CM हेमंत सोरेन ने 3 योजनाओं की शुरुआत की है, जानिए क्या खास

जहाँ एक तरफ सोशल मीडिया पर धार्मिक स्थलों को लेकर आलोचना की जा रही है की धार्मिक स्थलों में दान किये गए पैसो का इस्तेमाल कोरोना से लड़ने में किया जाए. ऐसे वक्त में ये खबर सामने आयी है.

दरगाह कमिटी के अध्यक्ष अमीन पठान ने कहा की हमने लोगो को उनके घरो तक पहुँचाने के लिए सरकार से अनुमति मांगी थी. सरकार से अनुमति मिलने के बाद रेलवे ने हमें ट्रेन उपलब्ध कराया। यात्रियों के खाने और टिकट के लिए हमने 8.28 लाख रुपये का मसौदा जारी किया। ट्रेन यात्रियों को अजमेर से लेकर बंगाल के दनकुनी के बीच चली. इस ट्रेन को चलाने के लिए बात तब शुरू हुई थी जब सरकार ने श्रमिक स्पेशल ट्रैन को चलाने का फैसला नहीं लिया था.

Also Read: क्या आपको भी नहीं मिल रहे जनधन खाते में 500 रूपये, बंद खाते को ऐसे करे एक्टिव

दरगाह समिति के अध्यक्ष मने कहा की मुगलसराय स्टेशन पर यात्रियों को खाना-पानी देने के लिए हमने रेलवे को पैसे चुकाए है. साथ ही उन्होंने कहा की इसके अलावा भी हमने मास्क और सेनिटाइजर देने के लिए भी पैसे चुकाए है. पठान ने कहा कि बंगाल के अलावा अन्य राज्यों के फंसे तीर्थयात्रियों और श्रमिकों को बसों में घर भेजा जाएगा और इस पूरी कवायद में समिति को 50 लाख रुपये का खर्च आएगा।

Also Read: जनधन खाते में 500 रुपये की दूसरी किस्त इस दिन आएगी..

आगे दरगाह के अध्यक्ष ने कहा की तीर्थयात्रियों में सबसे ज्यादा संख्या बंगाल के लोगो की थी इसलिए हमने ट्रेन पर विशेष ध्यान दिया। आंध्रप्रदेश और गुजरात सहित अन्य राज्यों के लोगो को घर भेजने के लिए बसों की व्यवस्था की जा रही है. बता दें की जबसे लॉकडाउन हुआ है दरगाह समिति ने फंसे हुए लोगो को खाना और रहने के लिए स्थान भी अपने खर्च पर उपलब्ध करवा रहा था.

Also Read: अमेरिका की ओलंपिक स्वर्ण पदक विजेता बनाना चाहती है झारखंड में लड़कियों के लिए स्कूल

यात्रियों को भेजने से पहले उनका मेडिकल किया गया. उसके बाद ही उन्हें सफर करने का आदेश जारी हुआ. इस यात्रा में कई ऐसे लोग थे जिनके पास टिकट खरीदने के लिए भी पैसे नहीं थे उन सभी ने दरगाह समिति का आभार जताया। बता दें की अजमेर से बंगाल पहुंचे यात्रियों का मेडिकल किया गया जिसके बाद उन्हें बसों के जरिये उनके घरो तक पहुँचाया जायेगा।

Source: HT

Leave a Reply

In The News

क्या आपको भी नहीं मिल रहे जनधन खाते में 500 रूपये, बंद खाते को ऐसे करे एक्टिव

भारत सरकार महिलाओं के जन धन खाते में हर महीने 500 रूपये भेज रही है, जिसको आप अपने नजदीकी CSC…

उत्तराखंड भाजपा के मंत्री में कोरोना की पुष्टि, CM के साथ कैबिनेट बैठक में रहे थे मौजूद

उत्तराखंड में कोरोना तेजी से पैर पसार रहा है. राज्य के कैबिनेट मंत्री सतपाल महाराज कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं.…

मनोज तिवारी को दिल्ली पुलिस ने लिया हिरासत में, केजरीवाल की खिलाफ कर रहे थे प्रदर्शन

दिल्ली भाजपा प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी समेत कई भाजपा नेताओं को पुलिस ने हिरासत में लिया है। दिल्ली भाजपा प्रदेश…

पीएमओ ने PM Cares फंड के विवरण का खुलासा करने से किया इनकार

PM Care फंड RTI एक्ट के तहत सार्वजनिक प्राधिकरण नहीं है: पीएमओ News Desk: भारत में कोरोना वायरस महामारी के…

जारी हुई अनलॉक-1 की गाइडलाइंस, जानें किसमें रहेगी छूट और किसमें पाबंदी

लॉकडाउन के चौथे चरण के ख़त्म होने से एक दिन पहले 30 मई को केंद्र सरकार ने अनलॉक-1 के लिए…

31 मई को खत्म हो रहा लॉकडाउन 4.0, 1 जून से मिल सकती हैं ये सारी छूट

लॉकडाउन 4.0 पूरा होने वाला है। 31 मई को मन की बात कार्यक्रम है, उसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी लॉकडाउन 5.0…

Get notified Subscribe To The News Khazana

Follow Us

Popular Topics

Trending

Related News

जोहार 😊

Popular Searches