Skip to content
Rajiv Bajaj

राजीव बजाज के साथ बात-चित में राहुल गाँधी ने कहा, असफल लॉकडाउन के बाद सरकार ने पैर पीछे खींचे

News Desk

लॉकडाउन को लेकर कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने एक बार फिर केंद्र सरकार पर निशाना साधा है. बजाज ऑटो के एमडी राजीव बजाज से बातचीत के दौरान राहुल ने कहा कि नाकाम लॉकडाउन के बाद केंद्र सरकार ने अपने पैर पीछे खींच लिए. कठोर लॉकडाउन से अर्थव्यवस्था को काफी नुकसान पहुंचा है.

Advertisement

Also Read: झारखंड में 250 किलो सोने की खान को मिली नीलामी की अनुमति, राज्य सरकार को 120 करोड़ का होगा फायदा

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी के साथ वीडियो कांफ्रेंसिंग में राजीव बजाज ने यह भी कहा कि बहुत सारे अहम लोग बोलने से डरते हैं और ऐसे में हमें सहिष्णु और संवेदनशील रहने को लेकर भारत में कुछ चीजों में सुधार करने की जरूरत है. लॉकडाउन से संबंधित सवाल पर उन्होंने कहा कि दुर्भाग्यवश हमने खासकर सुदूर पश्चिम की तरफ देखा और पूर्व की तरफ नहीं देखा.

Also Read: रघुवर राज में बड़े ठेके लेने वाले रामकृपाल कंस्ट्रक्शन का नक्सलियों से कनेक्शन, नक्सलियों को फंडिंग करने का खुलासा

उन्होंने कहा, ‘‘हमने कठिन लॉकडाउन लागू करने का प्रयास किया जिसमें खामियां थीं. इसलिए मुझे लगता है कि हमें आखिर में दोनों तरफ से नुकसान हुआ. इस तरह के लॉकडाउन के बाद वायरस मौजूद रहेगा. आप इस वायरस की समस्या से नहीं निपट पाए…. लेकिन इसके साथ अर्थव्यवस्था तबाह हो गई. मुझे लगता है कि पहली समस्या लोगों के दिमाग से डर निकालने की है. इसे लेकर स्पष्ट विमर्श होना चाहिए.’’

Also Read: दिल्ली बीजेपी अध्यक्ष पद से हटाया गये मनोज तिवारी, आदेश गुप्ता नए अध्यक्ष नियुक्त

सरकार की ओर से घोषित आर्थिक पैकेज पर बजाज ने कहा कि दुनिया के कई देशों में जो सरकारों ने दिया है उसमें से दो तिहाई लोगों के हाथ में गया है. लेकिन हमारे यहां सिर्फ 10 फीसदी ही लोगों के हाथ में गया है.

राहुल गांधी और राजीव बजाज के बीच देश के माहौल पर भी बातचीत हुई. इस दौरान राहुल ने कहा, “यह काफी अजीब है. मुझे नहीं लगता कि किसी ने कल्पना की थी कि दुनिया को इस तरह से बंद कर दिया जाएगा. मुझे नहीं लगता कि विश्व युद्ध के दौरान भी दुनिया बंद थी. तब भी चीजें खुली थीं. यह एक अनोखी और विनाशकारी घटना है.

बजाज ऑटो के एमडी राजीव बजाज से बातचीत के दौरान राहुल ने कहा कि नाकाम लॉकडाउन के बाद केंद्र सरकार ने अपने पैर पीछे खींच लिए. कठोर लॉकडाउन से अर्थव्यवस्था को काफी नुकसान पहुंचा है.

Advertisement

Leave a Reply

Popular Searches