Skip to content
muslim-women-accepted-lingayat

शादी के बाद मुस्लिम युवती ने अपनाया लिंगायत धर्म

tnkstaff
muslim-women-accepted-lingayat

कर्नाटक के हुक्केरी में एक मुस्लिम युवती ने लिंगायत धर्म को अपनाया, विरक्ता मठ के शिवाबसवा स्वामी जी ने युवती के लिंगायत धर्म अपनाने के दौरान सभी औपचारिकताएं पूरी कीं. दरअसल, एक लिंगायत युवक को मुस्लिम युवती से प्यार हो गया था. हाल ही में दोनों ने शादी भी कर ली. दोनों की शादी बेलगाम जिले में पंजीकृत है.

Advertisement

Also Read: मदर्स डे के दिन सामने आयी कातिल माँ, महिला ने पति समेत बच्चे को भी उतरा मौत के घाट

युवक और युवती दोनों के परिवार वाले इस शादी के खिलाफ भी नहीं थे., शादी के बाद दोनों शिवाबसवा स्वामी जी से मिले और युवक ने स्वामी जी से अपनी पत्नी के लिंगायत धर्म अपनाने की बात कही. स्वामी जी की स्वीकृति के बाद मुस्लिम युवती ने लिंगायत धर्म को अपना लिया. दीक्षा लेने के बाद युवती को इष्टलिंग, एक चौका और एक केसरिया शॉल भेंट की गई.

स्वामी जी के अनुसार, युवक उनके पास आया और कहा कि उसे एक मुस्लिम युवती से प्यार हो गया है और वे उसे लिंगायत धर्म में परिवर्तित करना चाहता हैं. युवती के लिंगायत धर्म अपनाने के दौरान वहां तीन लोग मौजूद थे.

Also Read: राहुल गाँधी ने कहा, पीएम केयर फण्ड के खर्च का हिसाब सार्वजनिक किया जाना चाहिए

क्या है लिंगायत धर्म?

लिंगायत समाज को कर्नाटक की अगड़ी जातियों में गिना जाता है. कर्नाटक की आबादी का 18 फीसदी हिस्सा लिंगायत हैं. पास के राज्यों जैसे महाराष्ट्र, तेलंगाना और आंध्र प्रदेश में भी लिंगायतों की अच्छी खासी आबादी है. लिंगायत और वीरशैव कर्नाटक के दो बड़े समुदाय हैं.

Also Read: झारखंड में शराब की होम डिलीवरी पर जल्द फैसला ले सकती है राज्य सरकार

इन दोनों समुदायों का जन्म 12वीं शताब्दी के समाज सुधार आंदोलन के स्वरूप हुआ. इस आंदोलन का नेतृत्व समाज सुधारक बसवन्ना ने किया था. बसवन्ना खुद ब्राह्मण परिवार में जन्मे थे. उन्होंने ब्राह्मणों की वर्चस्ववादी व्यवस्था का विरोध किया था.

Advertisement

Leave a Reply

Popular Searches