निर्मला सीतारमण ने कहा “टैरिफ पॉलिसी” के आधार पर बिजली उद्योग में प्राइवेटाइजेशन किया जाएगा

Share on facebook
Share on twitter
Share on email
Share on telegram
Share on reddit

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा है की बिजली कंपनियों की अक्षमता का बोझ अब ग्राहकों को नहीं उठाना पड़ेगा. निर्मला सीतारमण ने कोविड-19 आर्थिक पैकेज के चौथे हिस्से के ऐलान के दौरान टैरिफ पॉलिसी में बदलाव करने की जानकारी दी.

Also Read: वित्त मंत्री ने कहा कोयला क्षेत्र अब निजी हाथो में होगा, जानिए झारखण्ड पर क्या होगा असर

उन्होंने कहा कि बिजली कंपनियों को पर्याप्त बिजली मुहैया करानी होगी. अगर लोड शेडिंग की समस्या आती है इसके लिए उनपर पेनाल्टी लगाई जाएगी. साथ ही केंद्र शसित प्रदेशों में नई टैरिफ पॉलिसी के तहत पावर डिस्ट्रीब्युशन किया जाएगा.

वित्त मंत्री ने शनिवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा, ‘टैरिफ पॉलिसी के आधार पर बिजली उद्योग में प्राइवेटाइजेशन किया जाएगा. इसे जल्द ही पूरा किया जाएगा. बिजली कंपनियों की अक्षमताओं को बोझ अब ग्राहकों पर नहीं पड़ेगा. लोड शेडिंग जैसी कोई समस्या आती है तो इसके लिए कंपनियों पर पेनाल्टी लगाई जाएगी.’

Also Read: #आदिवासी_हिन्दू_नहीं_है के साथ उठा #AdivasiTribalCensus2021 की मांग, जानिए क्यों हो रहा है ऐसा

आगे उन्होंने कहा, ‘बिजली कं​पनियों की पर्याप्त आउटपुट को और भी बेहतर बनाने के लिए काम किया जाएगा. यह कहने की बात नहीं है कि इससे क्षमता में विस्तार होगा. सर्विस क्वालिटी पर बेहतर असर देखने को मिलेगा. वित्त मंत्री ने बताया कि पावर सेक्टर में डायरेक्ट ट्रांसफर के तहत ही सब्सिडी मुहैया कराई जाएगी. साथ ही, स्मार्ट प्रीपेड मीटर्स को भी बढ़ावा दिया जाएगा.

Also Read: प्रतुल शाहदेव ने CM सोरेन पर लगाया झूठ बोलने का आरोप, कहा 110 ट्रेनो की सूचि करे सार्वजनिक

बता दें कि पिछले सप्ताह ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लॉकडाउन की वजह से अर्थव्यवस्था को होने वाले आर्थिक नुकसान के लिए 20 लाख करोड़ रुपये के आर्थिक पैकेज का ऐलान किया था. इसके बाद बीते 4 दिन से वित्त मंत्री इस पूरे राहत पैकेज के बारे में लगातार विस्तार से जानकारी दे रही हैं. आज उन्होंने 8 सेक्टर्स के लिए कई ऐलान किया है. इसमें डिफेंस, कोल, बिजली कंपनियां, एविएशन सेक्टर आदि के बारे में बताया.

प्रेस कांफ्रेंस में सबसे बड़ा फैसला डिफेंस सेक्टर में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश को 25 फीसदी और बढ़ाने का था. साथ ही, अब को​ल माइनिंग में प्राइवेट कंपनियां भी भाग ले सकेंगी। सन् 1972 के बाद फिर एक बार कोयला खदान निजी हाथो में जाने को तैयार है.

Leave a Reply

In The News

कॉमर्शियल माइनिंग के खिलाफ 18 अगस्त को मजदूर संगठनो का हड़ताल

देशभर में कोरोना महामारी की वजह से हुए लॉकडाउन के कारण देश और राज्यों की अर्थव्यवस्था की हालत पूरी तरह…

बैंकों में चालू खाता खोलने पर रोक, क्यों RBI ने उठाया ये सख्त कदम?

रिजर्व बैंक ऑफ़ इंडिया ने 6 अगस्त को बैंकों में चालू खाता (Current account) खोलने पर रोक लगा दी है,…

Amazon और Flipkart पर कल सस्ती मिलेंगे ये चीजे, स्मार्ट फोंस पर भारी छुट

News Desk: देश में लॉकडाउन होने के बाद पहली बार इ कॉमर्स वेबसाइट पर सेल लगने वाली है, amazon और…

SpiceJet का 1+1 ऑफर, मात्र इतने रुपये की बुकिंग में पाएं एक टिकट मुफ्त

NewsDesk: SpiceJet ने अपने यात्रियों के लिए एक शानदार ऑफर लाया है. जिसमें मात्र 899 रुपये में टिकट ऑफर (Ticket…

Flipkart Quick से अब 90 मिनट में होगी ऑर्डर की डिलीवरी: फ्लिप्कार्ट

News Desk: फ्लिप्कार्ट ने अपनी नई Flipkart Quick 90 मिनट की डिलीवरी सर्विस शुरू कर रही है. कंपनी ने अपनी हाइपरलोकल सर्विस…

One Nation One Ration कार्ड योजना में शामिल हुए ये 4 राज्य

News Desk: One Nation One Ration card योजना भारत के लगभग 24 राज्यों में हो चूका है, शुक्रवार को उपभोक्ता मामलों के…

Get notified Subscribe To The News Khazana

Follow Us

Popular Topics

Trending

Related News

जोहार 😊

Popular Searches