Skip to content
20201024_154831

झारखंड का एक ऐसा मंदिर जहाँ नाक रगड़ कर वरदान में मांगी जाती है बेटी, पढ़े पूरी खबर

Arti Agarwal

भारत में आस्था का महत्व काफी ज्यादा है अनेकों धारण जाति और विभिन्न समुदाय होने के कारण भारत अपने आप में एक बेहद ही खूबसूरत देश है धार्मिक मान्यताओं के आधार पर भी भारत अन्य देशों की तुलना में काफी बेहतर माना जाता है क्योंकि यहां अलग-अलग धर्म समुदाय के लोग पाए जाते हैं और सभी को अपनी धार्मिक इच्छाओं और भावनाओं को प्रकट करने की अनुमति दी गई है.

Advertisement

भारत में अक्सर बेटियों पर हो रहे अत्याचार सहित कई अन्य ऐसी सामाजिक समस्याएं सामने आती है जिसकी वजह से ऐसा लगता है कि स्त्री समुदाय में जन्म लेना एक अभिशाप है रूढ़िवादी धारणाओं के कारण पूर्व में कई प्रकार की बाधाएं प्रचलित थी जिनकी वजह से महिलाओं और बेटियों को प्रताड़ना सहनी पड़ती थी परंतु वर्तमान समय में सामाजिक बदलाव के साथ लोगों की सोच भी बदली है एक तरफ भारत रूस प्रधान देश माना जाता है परंतु दूसरी तरफ भारत में महिलाओं और बेटियों को पुरुषों की बराबरी पर लाकर खड़ा करने की कवायद चल रही है ऐसे में विभिन्न क्षेत्रों में महिलाएं अपने हुनर का जोहर भी दिखा रही है

झारखंड राज्य के बोकारो जिला में एक ऐसा मंदिर है जहां लोग लंबी लाइन में लगकर माता के दर्शन करते हैं। देवी मां के दरबार मेें माथा टेकते हैं और कुछ नाक तक रगड़ते हैं और उनसे बेटी का वरदान मांगते हैं। यह मंदिर बोकारो जिला के चास प्रखंड के चाकुलिया गांव में स्थित है। यहाँ दुर्गा माता का 170 साल पुराना मंदिर है यह मंदिर गर्व और विश्वास का स्थान रखता है। सैकड़ों लोग यहां पूजा-अर्चना करने के बाद बेटी का दान मांगते हैं। प्रत्येक वर्ष गांव में दुर्गा पूजा की शुरुआत 150 साल पुराने तांबे के लोटे में घट स्थापना से होती है। एक स्थानीय निवासी ने कहा, ‘यहां सालभर लोगों की भीड़ रहता है लेकिन नवरात्रों के दौरान यहां पैर रखने तक की जगह नहीं होती है। लोग सिद्धिदात्री दुर्गा की पूजा करके उनसे बेटी मांगते हैं।’

कोरोना महामारी होने की वजह से इस बार यहां की दुर्गा पूजा पर महामारी का प्रभाव पड़ा है। हमारे संवाददाता से बात करते हुए एक भक्त ने कहा, ‘हमारा एक बेटा है परन्तु हमें लगा कि बेटी के बिना परिवार अधूरा है। यहां पूजा करने और माथा टेककर, नाक रगड़ी इसके कुछ साल बाद ही हमारे घर बेटी का जन्म हुआ है। मेरा परिवार हर साल दुर्गा पूजा के समय मंदिर आता है ताकि देवी का आभार प्रकट किया जा सके।’

वहीं गांव की एक अन्य व्यक्ति ने कहा, ‘माता की कृपा से बेटी मिलने के बाद मैंने उसका नाम भवानी रखा है। मेरी तरह बहुत से लोग, यहां तक की गर्भवती महिलाएं जिन्हें बेटी चाहिए वो यहां आकर माता का आशीर्वाद लेती हैं। मैं अपनी बेटी को सौभाग्यशाली मानती हूं।’

Advertisement

Leave a Reply

Popular Searches