Skip to content
EVT0eeHUwAAo0yn

पीएम के साथ बैठक में बोले हेमंत सोरेन मनरेगा के तहत मजदूरी दर बढ़ाकर न्यूनतम 300 रुपये प्रतिदिन किया जाए

Shah Ahmad

लॉकडाउन की स्थिति को जानने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सभी राज्यों के मुख्यमंत्रीयो के साथ वीडियो कांफ्रेंस कर हालात का जायजा लिया साथ ही लॉकडाउन की अवधि को बढ़ाने पर भी विचार-विमर्श हुआ. इस वीडियो कांफ्रेंस में झारखण्ड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन भी मौजूद रहे. हेमंत सोरेन ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से झारखण्ड की स्थिति को बताते हुए उन्होंने कहा की लॉकडाउन से काफी परेशानी हो रही है.

Advertisement

Also Read: सीएम हेमंत सोरेन ने उपायुक्तों से कहा जन वितरण प्रणाली की दुकानों का औचक निरीक्षण करें

लॉकडाउन की वजह से राजस्‍व के तमाम स्त्रोत बंद हैं इसलिए केंद्र सरकार से हमारी मांग है की राज्य को हज़ारो करोड़ जो बकाया है उसे दिया जाये साथ ही मनरेगा के तहत मजदूरी दर बढ़ाकर न्यूनतम 300 रुपये प्रतिदिन किया जाए.

Also Read: कोडरमा में मिले कोरोना पॉजिटिव का क्या है कोडरमा-गिरिडीह कनेक्शन, जानिए पूरी खबर

पीएम मोदी के साथ वीडियो कांफ्रेंसिंग में सीएम हेमंत ने कहा कि झारखंड प्रदेश आदिवासी दलित बहुल प्रदेश है। लगभग चालीस प्रतिशत लोग इन्हीं वर्ग से हैं। इसे लेकर झारखंड में हमेशा आर्थिक दबाव बना रहा है। अभी लॉकडाउन में राजस्व स्त्रोत बंद हैं। केंद्र से वांछित मद में राशि अभी प्राप्त नहीं हो पाई है। झारखंड में बड़े पैमाने पर भारत सरकार के उपक्रम कार्यरत हैं। चाहे वह सेल हो या सीसीएल हो या कोई अन्‍य उपक्रम। इनके पास हमारी बड़ी राशि बड़े पैमाने पर बकाया है। उस राशि का भुगतान नहीं किया जा रहा है। इसके अलावा जीएसटी की राशि भी अभी तक उपलब्ध नहीं हुई है। सीएम ने कहा कि यह अगर कराया जाए तो हमें कोरोना के खिलाफ जंग लड़ने में बहुत सहूलियत होगी।

Also Read: सर्वदलीय बैठक में बोले सीएम “जो लोग रोग छुपा रहे हैं, वे मौत को दावत दे रहे हैं”

साथ ही मुख्यमंत्री ने कहा की लॉकडाउन की वजह से लोगो के पास रोजगार नहीं है ऐसे में उनके सामने भुखमरी की समस्या न उत्पन्न हो जाये इसे ध्यान में रखते हुए राज्यवासियो के लिए आर्थिक मदद की जरुरत है ताकि हमे कोरोना जैसी महामारी से लड़ने में मदद मिल सके.

Advertisement

Leave a Reply

Popular Searches