Skip to content

Jharkhand: बोकारो में कार्तिक पूर्णिमा पर होने वाले लुगुबुरू मेले को प्रशासन ने किया स्थगित, धारा 144 लागू

Arti Agarwal

Bokaro: अंतरराष्ट्रीय धर्म स्थल पर इस बार स्थानीय लोग ही पूजा कर सकेंगे आपको बता दें कि कार्तिक पूर्णिमा करीना आदिवासियों के धर्म स्थल पर मेले का आयोजन किया जाता है इसे स्थगित किया गया और स्थानीय लोगों को ही पूजा करने की अनुमति दी गई जिला प्रशासन को लेकर आयोजन समिति के साथ बैठक की और इसके आसपास के इलाकों में धारा 144 लगा दी गई है. एसडीओ ने कहा कि कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए लाल पनिया में आयोजित होने वाले मेले को स्थगित कर दिया गया है.

साल में एक बार संथाली आदिवासी समाज जुटता है. जुटान होता है लुगू पहाड़ पर लाल पनिया संथाली का पवित्र शक्तिपीठ लुगूबुरु घंटाबाड़ी है. इस स्थान की महत्ता का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि यहां उनके पूर्वजों ने लुगुबाबा के गौरवशाली संविधान और संस्कृति की रचना की थी आज तक संथाली आदिवासी समाज के लोग मानते हैं. कार्तिक पूर्णिमा के मौके पर यहां देश-विदेश से हजारों की संख्या में संथाली समाज के लोग जुटते हैं

लुगुबुरू घंटाबाड़ी आदिवासी समाज का एक पवित्र धर्मस्थल है जंगल झाड़ में रहने वाले संथाली आदिवासी प्रकृति के उपासक हैं इस स्थान की महत्ता इतनी है कि यहां के छरछरिया नाले का पानी कभी नहीं सूखता है. पूरे वर्ष इसमें पानी भरा हुआ रहता है हर वर्ष कार्तिक पूर्णिमा के दिन झारखंड समय देश-विदेश के लाखों श्रद्धालु गंज अपने अपने परिवार के साथ लुगुबाबा के दरबार में पहुंचकर आदिवासी परंपरा के अनुसार पूजा अर्चना कर अपने-अपने परिवारों की सुख शांति समृद्धि और उन्नति की मंगल कामनाएं करते हैं

Leave a Reply