बजट पेश होने के बाद सीएम हेमंत सोरेन ने कहा- हमने शासन के रथ को झोपड़ियों की ओर मोड़ दिया है

Shah Ahmad
Share on facebook
Share on twitter
Share on email
Share on pocket

हेमंत सरकार ने अपना पहला बजट 2020-21 पेश कर दिया है. इस बजट में चुनाव के समय की गयी वादो को पूरा करने की कोशिश की गयी है तो वही कुछ ऐसे वादे है जिसे जल्द पूरा करने की बात सरकार कर रही है. बजट पेश करने के बाद वित्तमंत्री रामेश्वर उरावं और मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने प्रेस कांफ्रेंस भी किया जहाँ उन्होंने सभी विषयो पर विस्तार से जानकारी दी.

झारखंड की हेमंत सोरेन सरकार ने अपना पहला बजट पेश किया। मंगलवार को वित्त मंत्री रामेश्वर उरांव ने 86,370 करोड़ रुपए का बजट पेश करते हुए गरीबों और किसानों के लिए कई योजनाओं का ऐलान किया है। गरीबों को 100 यूनिट मुफ्त बिजली के साथ ही 100 मोहल्ला क्लिनिक खोलने की घोषणा की गई है। इसके साथ ही किसानों के लिए अल्पकालीन कृषि ऋण राहत योजना की शुरुआत की गई है और इसके लिए सरकार ने दो हजार करोड़ की राशि आवंटित की है।

Also Read: JharkhandBudget2020: बजट सत्र के दूसरे दिन भी भाजपा विधायकों का प्रदर्शन, नेता प्रतिपक्ष की मांग पर अड़े

बजट में 57 लाख परिवारों को अनुदानित दर पर खाद्यान, लुंगी और धोती मुहैया कराने का सरकार ने ऐलान किया है। इसके साथ ही ग्रामीण इलाकों में प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत घर बनवाने वालों को अतिरिक्त 50 हजार रुपए सरकार मुहैया कराएगी।

शिक्षा पर विशेष ध्यान

हेमंत सोरेन सरकार के पहले बजट में एक विशेष छात्रवृति योजना शुरू करने की घोषणा हुई है। इसके लिए अलग से 30 करोड़ रुपए का प्रावधान किया गया है। वहीं मिड डे मिल बनाने वाले रसोइयों के मानदेय में 500 रुपए की वृद्धि की गई है। अब 1500 की जगह उन्हें 2000 रुपए का मानदेय मिलेगा। इसके सात थी डिजिटल शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए मुख्यमंत्री डिजिटल प्रोप्साहन योजना शुरू की जाएगी।

Also Read: भारत में प्रत्येक उपयोगकर्ता प्रत्येक महिने 11.2GB डेटा का कन्‍जूयम करता है, जानिए पूरी रिपोर्ट

राज्य का विकास दर आठ प्रतिशत पर रखने का लक्ष्य

86,370 का बजट पेश करते हुए वित्त मंत्री रामेश्वर उरांव ने बताया कि इसमें से 73,315.94 करोड़ और पूंजीगत व्यय के लिए 13,054.06 करोड़ का प्रस्ताव रखा गया है। राज्य का विकास दर आठ प्रतिशत पर रखने का लक्ष्य तक किय गया है। पर्यटन क्षेत्र की संभावनाओं को देखते हुए सरकार ने 50 हजार रोजगार सृजित करने का लक्ष्य रखा गया है।

Also Read: अक्टूबर-दिसंबर तिमाही में भारत की जीडीपी की वृद्धि दर 4.7% रही

मुख्यमंत्री ने अपने प्रेस कांफ्रेंस के दौरान कहा की अब किसी की मौत भूख से नहीं होगी, हमारी सरकार ने आम जनो की प्राथमिकताओं को तय कर लिया है. जिन्हे राशन मिल रहा है उन्हें मिलता रहेगा। और जिन लोगो के पास राशन कार्ड नहीं जो ठीक से भोजन नहीं कर पाते है उनके लिए 377 दाल-भात केंद्र खोले जायेंगे। युवाओ के लिए सीएम ने कहा की ग्रेजुएट छात्रों को 5000 हज़ार और एमए के छात्रों को 7000 हज़ार प्रोत्शाहन राशि दी जाएगी।

Leave a Reply

In The News

नवरात्र में भी प्याज़ का भाव 80 पार, कोरोना में आम जनता पर मंहगाई की मार

भारत में सनातन धर्म को मानने वाले लोग नवरात्रि के दौरान प्याज़ का सेवन नहीं करते हैं. खरीदारी कम होने…

बसंत सोरेन के लिए प्रचार करेगे प्रदीप बालमुचू, कांग्रेस में घर वापसी की तैयारी

2019 के विधानसभा चुनाव से ठीक पहले पूर्व राज्यसभा सदस्य और कांग्रेस के नेता प्रदीप बालमूचू ने कांग्रेस को छोड़…

जेल में बंद लालू यादव की तस्वीर आई सामने, BJP प्रवक्ता प्रतुल शहदेव ने उठाये सवाल

बिहार में इन दिनों सियासी पारा हाई है, विधानसभा चुनाव के लिए जारी चुनावी सभाओं पर पार्टियों की तरफ से…

नवादा और गया जिला में चुनाव के 48 घंटे पहले से कोडरमा की शराब दुकाने रहेगी बंद

बिहार में आगामी 28 अक्टूबर को विधानसभा चुनाव के लिए पहले चरण की वोटिंग होगी चुनाव में शराब की भारी…

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने दिए ज्रेडा के तदेन निदेशक सहित अन्य दो पर लगे भ्रष्टाचार के आरोपों के जांच की स्वीकृति

मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन ने निरंजन कुमार, तदेन निदेशक, झारखंड ऊर्जा संचरण निगम लिमिटेड (अतिरिक्त प्रभार- प्रबंधन निदेशक, झारखंड ऊर्जा उत्पादन…

व्हाट्सएप कॉल पर युवक ने प्रेमिका को कही आत्महत्या करने की बात, फिर कर ली आत्महत्या

झारखण्ड के जमशेदपुर जिले के निकट आदित्यपुर थाना क्षेत्र स्थित आबर्टि कंपनी के नवनिर्मित भवन में एक 23 वर्षिय युवक…

जोहार 😊

Popular Searches