Skip to content

सीएम के काफिले पर हमला करने वाले मुख्य अभियुक्त भैरव सिंह ने किया सरेंडर

Arti Agarwal

झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के काफिले पर बीते दिनों हमला किया गया था जिसमें मुख्य आरोपी भैरव सिंह को बनाया गया था भैरव सिंह की गिरफ्तारी के लिए पुलिस लगातार छापेमारी कर रही थी हमले की रात उसके परिवार के कई सदस्यों को पुलिस ने उठाया था और पूछताछ की थी.

सीएम के काफिले पर हुए हमले के बाद राज्य की सियासत में एक उबाल आ गया था. सीएम के काफिले पर हुए हमले को लेकर भारतीय जनता पार्टी और झारखंड मुक्ति मोर्चा आमने-सामने हैं एक तरफ भाजपा यह आरोप लगा रही है कि उनके कार्यकर्ताओं को जानबूझकर फंसाया जा रहा है तो वही झारखंड मुक्ति मोर्चा का कहना है कि भाजपा के लोग जानबूझकर सीएम के काफिले पर व्यवधान उत्पन्न करने की कोशिश कर रहे थे.

पुलिस के द्वारा काफिले को रोकने के लिए मुख्य अभियुक्त बनाए गए भैरव सिंह ने गुरुवार की सुबह रांची के अदालत में सरेंडर कर दिया भैरव सिंह ने अभिषेक प्रसाद की अदालत में सरेंडर किया है सरेंडर करने के बाद परिसर के भीतर हंगामे की स्थिति रही प्रशासन भैरव सिंह को हिरासत में लेना चाहती थी परंतु वहां मौजूद अधिवक्ताओं का कहना था कि जब कोर्ट में सरेंडर कर दिया गया है तो पुलिस अपने साथ नहीं ले जा सकती है वहीं सरेंडर करने के दौरान भैरव सिंह ने कहा कि सीएम के काफिले पर हम लोगों ने हमला नहीं किया है हम केवल प्रदर्शन कर रहे थे पुलिस मामले को गलत ढंग से पेश कर रही है

बता दे की भैरव सिंह के सरेंडर करने से पहले सीएम के काफिले को रोकने की कोशिश करने के मामले में 26 आरोपियों को बुधवार की रात न्यायिक हिरासत लेने के बाद उन्हें न्यायिक दंडाधिकारी अभिषेक प्रसाद की अदालत में पेश किया गया था जहां से उन्हें 15 दिनों की न्यायिक हिरासत में होटवार जेल भेज दिया गया है इसके अलावा सात आरोपियों को जेल भेजा जाना है.

मालूम हो कि बीते सोमवार को रांची के किशोरगंज चौक के पास सीएम के काफिले को कुछ लोगों ने रोकने का प्रयास किया था किशोरगंज में और मांझी में सिर कटी लाश मिलने के बाद लोग आंदोलन कर रहे थे भारतीय जनता पार्टी के लोगों के द्वारा पूरे राज्य में विरोध प्रदर्शन किया जा रहा था इसी के दौरान आंदोलन कर रहे युवाओं ने सीएम के काफिले को रोकने की कोशिश की थी इस प्रयास में ट्रैफिक थाना प्रभारी नवल किशोर घायल हो गए थे इस मामले में अब तक 50 से ज्यादा लोगों को शक के आधार पर हिरासत में लिया जा चुका है

Leave a Reply