Skip to content

Sandhya Topno: दारोगा संध्या टोपनो की हत्या पर बीजेपी नेता रघुवर दास ने CBI जांच की मांग की है

News Desk

Sandhya Topno: झारखंड की राजधानी रांची के तुपुदाना थाना प्रभारी संध्या टोपनो कि पशु तस्करों ने गाड़ी से कुचल कर हत्या कर दी है. बुधवार सुबह महिला दारोगा संध्या टोपनो (Sandhya Topno) के साथ हुई निर्मम घटना को लेकर झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री और भाजपा के नेता रघुवर दास ने दुख जताते हुए राज्य सरकार पर कड़ा प्रहार किया है साथ ही उन्होंने पूरे मामले की जांच सीबीआई से कराने की मांग की है.

Advertisement

रघुवर दास ने कहा कि, राज्य में अपराधियों के हौसले बुलंद हैं. जबसे हेमंत सरकार राज्य की सत्ता में आई है गौतस्करों की हिम्मत इतनी बढ़ गई है कि पुलिसवालों को भी कुछ नहीं समझा जा रहा है. बीजेपी नेता ने यहां तक कह दिया कि, मामला सीधा वोट बैंक से जुड़ा है इसीलिए सरकार इनके खिलाफ कोई भी कार्रवाई करने से बच रही है. उन्होंने कहा कि, ”झारखंड की एक और बेटी हिम्मतवाले अपराधियों की शिकार हो गई. ये बहुत ही दुखद और शर्मनाक है. अपराधियों के हौसले इतने बुलंद हैं कि राज्य में अब पुलिसकर्मी भी सुरक्षित नहीं हैं. हेमंत सरकार के राज में गौतस्करों की हिम्मत कुछ ज्यादा ही बढ़ी हुई है. मामला वोट बैंक से जुड़ा है, इसलिए कहीं रूपा तिर्की मामले की तरह संध्या टोपनो जी की हत्या भी रहस्य बन कर ना रह जाए.”

यह भी पढ़े- Sandhya Topno: दरोगा संध्या टोपनो को पुलिस लाइन में नम आँखों से दी गई अंतिम सलामी

ड्राइवर गिरफ्तार, वैन जब्त:

बता दें कि, झारखंड पुलिस की 2018 बैच की दारोगा संध्या पुलिस टीम के साथ गाड़ियों की चेकिंग के लिए रांची-खूंटी रोड पर हुलहुंडू के पास तैनात थीं. पशुओं से लदी एक बोलेरो पिकअप वैन को उन्होंने रुकने का इशारा किया, लेकिन चालक ने तेज रफ्तार में गाड़ी चलाते हुए महिला दारोगा को रौंद डाला. रांची के एसएसपी किशोर कौशल ने बताया कि महिला दारोगा को कुचलने वाले ड्राइवर को गिरफ्तार कर लिया गया है. वैन को भी जब्त कर लिया गया है. 

झारखंड की क्या दुर्दशा हो गई है:

बाबूलाल मरांडी ने भी मामले को लेकर कहा है कि, ”झारखंड में अपराधियों की हिम्मत अपने चरम पर है. आज जिस प्रकार गौ तस्करों ने राज्य की राजधानी रांची में महिला दारोगा संध्या टोपनो की गाड़ी से कुचलकर हत्या कर दी, उससे तो यही लगता है कि प्रतिबंधों के बावजूद गौ तस्करी का बड़ा गिरोह काम कर रहा है, जिसके लिए एक पुलिस पदाधिकारी की हत्या भी कोई बड़ी बात नहीं. जब राज्य में पुलिस अधिकारी सुरक्षित नहीं है तो आम आदमी की सुरक्षा की क्या गारंटी है? भ्रष्टाचारियों को संरक्षित करने के चक्कर में आज झारखंड की क्या दुर्दशा हो गई, अब किसी से छिपी नहीं है. झारखंड पुलिस इन गिरोहों के सरगनाओं की गिरफ्तारी सुनिश्चित करें.”

Leave a Reply