Skip to content
BJP Jharkhand

उपचुनाव में हार के बाद भाजपा नेता के बगावती तेवर, झारखंड प्रदेश नेतृत्व पर उठाए सवाल

Arti Agarwal

झारखंड की दो विधानसभा सीट दुमका और बेरमो में हुए उपचुनाव में भाजपा को हार का सामना करना पड़ा है. दुमका से भाजपा की प्रत्याशी सह पूर्व मंत्री लुईस मरांडी चुनाव हार गई हैं तो वही बेरमो विधानसभा क्षेत्र से भाजपा के उम्मीदवार और पूर्व विधायक योगेश्वर महतो बाटुल को भी हार का सामना करना पड़ा है दोनों सीटें गंवाने के बाद भाजपा की अंदरूनी कल्हा अब खुलकर सामने आ रही है.

Advertisement

झारखंड भाजपा के वरिष्ठ नेता कृष्णा अग्रवाल जो धनबाद से ताल्लुक रखते हैं उन्होंने प्रदेश नेतृत्व पर सवाल खड़े किए हैं कृष्णा अग्रवाल ने उपचुनाव में मिली हार का जिम्मेदार प्रदेश अध्यक्ष दीपक प्रकाश और प्रदेश महामंत्री को ठहराया है कृष्णा अग्रवाल का कहना है कि भाजपा की ओर से तीन पूर्व मुख्यमंत्री दोनों सीटों पर प्रत्याशियों का प्रचार कर रहे थे बावजूद इसके पार्टी चुनाव हार गया यह दर्शाता है कि संगठन के भीतर कुछ लोग सिर्फ अपने चहेतों को ही आगे बढ़ाना चाहते हैं लेकिन वह यह भूल रहे हैं कि इससे पार्टी को भारी नुकसान का सामना करना पड़ेगा

अग्रवाल ने आगे कहा कि पार्टी में नेताओं और कार्यकर्ताओं के बीच एक खाई बनती जा रही हैं जो एक खतरे की निशानी है दोनों सीटों पर हुए हार की जिम्मेदारी लेते हुए प्रदेश अध्यक्ष और महामंत्री को इस्तीफा देना चाहिए. आने वाले समय में अगर स्थिति यही रही और केंद्रीय नेतृत्व ने भी इस ओर ध्यान नहीं दिया तो पार्टी की हालत इससे भी बुरी होगी क्योंकि कुछ लोग सिर्फ अपने चहेतों को ही आगे बढ़ाने के लिए कार्य कर रहे हैं संगठन के प्रति उनका कोई भी कार्य जमीन पर नहीं दिखता है.

मालूम हो कि दुमका और बेरमो उपचुनाव में महागठबंधन की तरफ से झारखंड मुक्ति मोर्चा के बसंत सोरेन और कांग्रेस के कुमार जय मंगल उर्फ अनूप सिंह चुनाव जीतने में सफल हुए हैं भाजपा की तरफ से पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी, पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास और वर्तमान में केंद्रीय मंत्री एवं पूर्व मुख्यमंत्री अर्जुन मुंडा भाजपा के प्रत्याशियों के प्रचार प्रसार में लगे हुए थे इन सबके बावजूद दोनों सीटों पर भाजपा को हार का सामना करना पड़ा है

Advertisement

Leave a Reply

Popular Searches