Skip to content
hemant soren

Hemant Soren: सीएम हेमंत सोरेन ने कहा, सत्ता से बेदखल होने के बाद भाजपा की हालत बिना पानी मछली जैसी हो गई है

shahahmadtnk

Hemant Soren:राज्य के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने सोमवार को भाजपा पर निशाना साधा. और उन्होंने बंगाल से कांग्रेस के 3 विधायकों की सरकार को अस्थिर करने के प्रयासों से संबंधित सवाल के जवाब देते हुए कहा कि भाजपा की हालत बिन पानी वाली मछली की तरह हो गई है.

Advertisement
Hemant Soren: सीएम हेमंत सोरेन ने कहा, सत्ता से बेदखल होने के बाद भाजपा की हालत बिना पानी मछली जैसी हो गई है 1

इस बात से आप समझ सकते हैं कि भाजपा सत्ता में आने के लिए कितना तड़प रही है । वह सत्ता बगैर एक पल भी जीवित नहीं रह सकती है. भाजपा की गंदी राजनीति का एक चेहरा देखने को मिला है जिसमें भाजपाइयों के द्वारा लोकतंत्र पर हमला किया जा रहा है और लोकतांत्रिक मूल्यों का गला घोट कर सत्ता पाने के लिए ललायत है. मुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि इनकी “हरकतों से हम न पहले विचलित थे और ना आज”
इनकी नापाक गतिविधियां से जुड़ी बातें आगे भी सामने आती रहेगी और हम बताते रहेंगे। नजरें बनाए रखिए. देखिए, आगे क्या-क्या षड्यंत्र होता है.

Also read: Jharkhand Old Pension Scheme: हेमंत सोरेन को घेरने के चक्कर में खुद फंसे बाबूलाल, पुरानी पेंशन योजना पर किया था सवाल

बता देगी कि हेमंत सोरेन ने कहा कि भाजपा राजनीति की नई मापदंड तय कर रही है जिसमें लोकतांत्रिक मूल्यों को ताक पर रख कर सत्ता पाने का प्रयास कर रही है और ये जो राजनीति की नई परिभाषा भाजपा लिखने का प्रयास कर रही है वह वास्तव में जनता के निर्णय के विरुद्ध होगी। जनता की अदालत में ही इसका निर्णय होगा।
भाजपा के चित्र और चरित्र की परिभाषा समझने के लिए गैर भाजपा शासित राज्यों की स्थिति का उदाहरण आपके समक्ष है। झारखंड में जिस दिन से हमारी सरकार बनी है उसी समय से यह लोग हमें अस्थिर करने में लगे हुए हैं। हर दिन, हर महीने और हर प्रकार के चुनावों में ये सरकार गिराने की बात करते हैं। भाजपा नेताओं के विभिन्न माध्यमों से आने वाली बयानों में षड्यंत्र की बदबू आती है। विगत कुछ महीनों में झारखंड में सरकार गिराने के विभिन्न गतिविधियों को जनता देख रही है और झारखंड के विधायकों पर इनका जो प्रयास रहा है उससे कहा जा सकता है कि यह लोग अपने नापाक इरादों में कामयाब नहीं हो पा रहे हैं। सारी चीजें राज्य की जनता के सामने स्पष्ट है।

विधानसभा चुनाव 2019 के परिणाम से ये लोग बौखला गए थे और तभी से भाजपा नेताओं ने सरकार को अस्थिर करने का प्रयास कर रही है इसके नेताओं के बातों को सुनने-पढने पर साफ पता चलेगा कि इसकी मानसिकता का स्तर कितना गिर गया है केंद्र में शासन करने के बाद भी इनकी राजनीतिक महत्वाकांक्षा इस तरह से सिर चढ़कर बोल रही है कि हर जगह सत्ता सुख पाने के लिए वह किसी भी हद तक गिर सकते हैं। जनता की अदालत में इन्हें समय पर जवाब मिलेगा

Advertisement

Leave a Reply