रांची मेयर के आठ वर्षो के कार्यकाल के दौरान खर्च किये गए एक-एक पाई का हिसाब लिया जाएगी- सुप्रियो भट्टाचार्य

Share on facebook
Share on twitter
Share on email
Share on telegram
Share on reddit

रांची नगर निगम की मेयर आशा लकड़ा इन दिनों काफी सुर्खियों में है. ऐसा इसलिए क्यूंकि वो लगातार राज्य की हेमंत सरकार पर वैश्विक महामारी के समय रांची नगर निगम को सहायता नहीं करने का आरोप लगा रही है. मेयर का कहना है की कोरोना से लड़ने के लिए तथा पयेजल संकट को दूर करने के लिए निगम द्वारा राज्य सरकार से 19.77 करोड़ रुपए की मांग की गयी है जो अभी तक नहीं मिला है.

Also Read: बाहर फंसे छात्रों और मजदूरों को लाने के लिए 15 IAS अफसरों को हेमंत सोरेन ने दी है जिम्मेदारी,जानिए किसे मिला है कौन सा राज्य

इस पर अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए झामुमो प्रवक्ता सुप्रियो भट्टाचार्य ने कहा है की रांची की मेयर आशा लकड़ा के द्वारा जिस प्रकार वर्तमान हेमन्त सोरेन सरकार के विरुद्ध आधारहीन एवं झूठ से लदे वक्तव्य दिए जा रहे हैं, उसकी जितनी भी निंदा की जाय, वह कम होगा। रांची नगर निगम ने गत वित्तीय वर्ष में पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास से 19.77 करोड़ रुपये का मांग रखा था, जिसके एवज में उन्हें कुछ भी नहीं मिला और चूंकि वो भाजपा की सरकार थी, इसलिए मेयर अपना दायित्व नही समझी और कोई बयान नही दिया।

Also Read: RIMS निदेशक डीके सिंह को हटाने की अनुशंसा पर बवाल, भाजपा प्रवक्ता ने अविवेकपूर्ण निर्णय बताया

अब चूकि राज्य में हेमन्त सोरेन की सरकार है और उन्होंने रांची नगर निगम को 11.80 करोड़ रुपए दिए, उसको मेयर द्वारा सार्वजनिक न कर उल्टा सरकार पर आरोप मढ़ रही हैं कि उन्हें केवल 44.50 लाख रुपए मिले। मेयर द्वारा इस प्रकार की बयानबाजी लोगों के बीच मे भ्रम पैदा कर रही है।

Also Read: नहीं रहे मशहूर अभिनेता ऋषि कपूर, कैंसर से थे पीड़ित, 67 साल की उम्र में हुआ निधन

सुप्रियो भट्टाचार्य ने आगे कहा की रांची नगर निगम के विगत आठ वर्षों की विस्तृत कार्यों की गहन समीक्षा करने का समय आ गया है और उनसे हर योजना के एक-एक पाई की हिसाब भी ली जाएगी। मेयर के साम्प्रदायिक वक्तव्य, उनके द्वारा लोगों के बीच नफरत के संदेश दिए जा रहे हैं। जबकि वो एक संवैधानिक पद पर बैठी हुई हैं। इस संकट की घडी में राजनीती छोड़ राज्य सरकार के साथ मिलकर उन्हें जनता के लिए काम करना चाहिए।

Leave a Reply

In The News

झारखण्ड में 3126 मिडिल स्कूलों में होगी 3000 प्रधानाध्यापकों की नियुक्ति

झारखंड के मिडिल स्कूलों में करीब 3000 प्रधानाध्यापकों की नियुक्ति होगी। आधे पदों पर जहां सीधी नियुक्ति की जाएगी वही आधे…

पुलिस और सहायक पुलिसकर्मियों के बीच झड़प के बाद दर्ज हुई FIR, जानिए क्यूँ कर रहे है आंदोलन

रांची के मोहराबदी मैदान में 12 सितंबर से राज्य भर के सहायक पुलिसकर्मी आंदोलन कर रहे है. उनका कहना है…

राँची: मोहराबादी मैदान में आंदोलन कर रहे सहायक पुलिसकर्मीयों पर लाठी चार्ज, जानिए ऐसा क्यों हुआ

झारखंड के सभी जिलो के अंतर्गत कार्य करने वाले सहायक पुलिसकर्मी पिछले कुछ दिनों से राजधानी राँची के मोहराबादी मैदान…

रिम्स की व्यवस्था से हाईकोर्ट नाराज़ कहा, सलाना मिलने वाले 100 करोड़ का क्या किया जाता है

झारखंड हाईकोर्ट ने रिम्स की व्यवस्था को लेकर एक बार फिर सवाल पूछा है। अदालत ने रामरस में डॉक्टर और…

मानसून सत्र शुरू होते ही भाजपा विधायक ने हाथों में तख्ता लेकर राज्य सरकार का जताया विरोध

झारखंड विधानसभा का मानसून सत्र आज 18 सितंबर से शुरू हो गया है। कोरोना महामारी को देखते हुए पुख्ता इंतजाम…

मानसून सत्र से पहले स्पीकर का विधायको से अपील, सदन को सुचारु रूप से चलने में करे सहयोग

झारखंड विधानसभा का मानसून सत्र आज से शुरू हो रहा है। झारखंड विधानसभा का मानसून सत्र 18 सितंबर से लेकर…

Get notified Subscribe To The News Khazana

Follow Us

Popular Topics

Trending

Related News

जोहार 😊

Popular Searches