झारखंड में बंद हुए 11 पान-मसाले के स्टॉक को दूसरे राज्य भेजने की मिली छूट, जानिए क्या है आदेश

Share on facebook
Share on twitter
Share on email
Share on telegram
Share on reddit

झारखंड सरकार ने 11 पान-मसलो पर प्रतिबन्ध लगा दिया है. जिसकी वजह से व्यापारियों के पास इसका स्टॉक बड़ी मात्रा में है. व्यापारी असमंजस में है की बचे हुए पान-मसलो के स्टॉक का क्या होगा। ऐसे में उन्हें राहत देने वाली खबर आयी है.

Also Read: रोजगार की तलाश में झारखंड के बाहर गये दो युवाओ की घर लौटते वक्त मौत

राज्य सरकार ने तय किया है है की पान-मसाले के जो स्टॉक बचे है. व्यापारी उन्हें दूसरे राज्य भेज सकते है. 31 मई के बाद यदि पान-मसाला मिलता है तो सख्त कार्रवाई की जाएगी। स्टॉक को दूसरे राज्य भेजने के लिए सम्बंधित जिला के एसडीओ से आदेश लेना होगा। स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव सह खाद्य संरक्षा आयुक्त डॉक्टर नितिन कुलकर्णी ने बुधवार को इससे संबंधित एक आदेश जारी कर दिया है।

Also Read: लॉकडाउन में ट्रेन से करने वाले है सफर, तो ध्यान में रखे ये बात……..

व्यापारियों को अपने गोदाम में पान-मसाले के बचे स्टॉक को राज्य से बाहर भेजने की आदेश जारी हो गया है. व्यापारियों को 2 सप्ताह का वक्त मिला है. इस बिच उन्हें अपने गोदाम से पान-मसाले के स्टॉक को हर हाल में हटा लेना है. इस बिच किसी भी प्रतिबंधित पान मसाला की थोक या खुदरा बिक्री नहीं होगी, छूट सिर्फ दूसरे राज्यों में भेजने हेतु दी गई है।

Also Read: झारखंड में मनरेगा की मजदूरी 194 रूपये, जबकि अन्य छोटे राज्यों में 225 से अधिक

कुलकर्णी ने बताया कि सभी थोक विक्रेता अपने अधीनस्थ खुदरा विक्रेताओं से बचे हुए स्टॉक अपने गोदामों में एकत्र कर उसकी सूची बनाकर संबंधित अनुमंडल पदाधिकारी सह खाद्य संरक्षा के अभिहित पदाधिकारी एवं खाद्य संरक्षा पदाधिकारी को उपलब्ध करवाएंगे एवं उनकी निगरानी में बचा हुआ माल झारखंड राज्य की सीमा के बाहर भेजना सुनिश्चित करेंगे।

Also Read: नीलांबर-पीतांबर जल समृद्धि योजना के तहत पांच वर्षो में 1200 करोड़ खर्च करने की तैयारी में सरकार

बता दें कि आठ मई को राज्य में पान पराग, रजनीगंधा, विमल समेत 11 ब्रांड के पान मसालों की बिक्री पर अगले एक साल के लिए प्रतिबंध लगा दिया गया था। इस संबंध में स्वास्थ्य सचिव सह राज्य के खाद्य संरक्षा आयुक्त डॉक्टर नितिन कुलकर्णी की ओर से आदेश जारी किया था। पिछले साल राज्य में इन पान मसालों के 41 सैंपल जांचे गए थे। जांच में अधिकांश पान मसालों में खतरनाक मैग्निशियम कार्बोनेट रसायन मिले थे।

Leave a Reply

In The News

Jharkhand: BJP विधायक पर भड़के स्पीकर रविन्द्रनाथ महतो कहा, सदन में गुंडागर्दी नहीं चलेगी

झारखंड विधानसभा का मानसून सत्र 18 सितंबर से शुरू होकर 22 सितंबर को खत्म हो गया. कोरोना काल के बीच…

Sarna Dharam Code: सरना धर्म कोड को मान्यता देने के लिए हेमंत सरकार सदन में आज ला सकती है प्रस्ताव

आदिवासी हिन्दू नहीं है यह बात कहते हुए आपने कई आदिवासियों को सुना होगा. अपनी अलग पहचान बताते हुए आदिवासी…

Jharkhand Monsoon Session: विधानसभा का मानसून सत्र आज हंगामेदार रहने के असार, सरकार को घेरने की तैयारी में विपक्ष

झारखंड विधानसभा का मानसून सत्र आज एक बार फिर शुरू हो रहा है. शुक्रवार को शुरू हुए मानसून सत्र में…

सरना धर्म कोड लागू करने कि फिर उठी मांग, आदिवासी संगठनों ने सड़को पर उतर बनाया मानव श्रंखला

सरना धर्म कोड लागू करने कि मांग लंबे समय से आदिवासी संगठनो द्वारा किया जा रहा है. झारखंड जैसे आदिवासी…

Land Mutation Bill 2020: लैंड म्युटेशन बिल के खिलाफ राज्यभर में BJP का विरोध प्रदर्शन, बिल कि प्रति जलाकर करेंगे विरोध

झारखंड में एक बार फिर लैंड म्युटेशन बिल को लेकर सियासत गर्मा गई है. राज्य कि हेमंत सरकार के द्वारा…

राज्य सरकार की सौगात, आपके पास नहीं है लाल-पीला कार्ड तो बनेगा हरा कार्ड, प्रत्येक माह मिलेगा इतना राशन

झारखंड की हेमंत सरकार राज्य की जनता को एक बार फिर नई सौगात देने जा रही है। सरकारी राशन के…

Get notified Subscribe To The News Khazana

Follow Us

Popular Topics

Trending

Related News

जोहार 😊

Popular Searches