Babulal Marandi

दीपक प्रकाश पर हुए FIR पर बोले बाबूलाल मरांडी, सरकारी तंत्र का हो रहा दुरुपयोग

Shah Ahmad
Share on facebook
Share on twitter
Share on email
Share on pocket
Babulal Marandi

झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री साहब भाजपा विधायक दल के नेता बाबूलाल मरांडी ने प्रदेश कार्यालय में प्रेस वार्ता कर राज्य सरकार पर जमकर हमला किया है बाबूलाल मरांडी ने प्रदेश अध्यक्ष दीपक प्रकाश पर सत्ताधारी दलों की तरफ से दर्ज कराए गए देशद्रोह के मुकदमे पर भी राज्य सरकार को मानसिक रूप से दिवालिया करार दिया है प्रेस वार्ता के दौरान बाबूलाल मरांडी ने कहा कि जिस प्रकार से सत्ताधारी दल घबराई हुई है वह दर्शाता है कि दुमका और बेरमो भाजपा जीत रही है

Advertisement

दरअसल, भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष दीपक प्रकाश उपचुनाव के प्रचार के दौरान एक बयान दिया था जिसमें उन्होंने कहा था कि उपचुनाव के बाद राज्य की हेमंत सरकार 3 महीने के अंदर गिर जाएगी इस बयान के बाद ही दीपक प्रकाश पर कांग्रेस के जिला अध्यक्ष के नेतृत्व में सत्ताधारी दलों के नेताओं की मौजूदगी में दीपक प्रकाश पर देशद्रोह का मुकदमा दर्ज करवाया गया है.

रविवार को चुनाव प्रचार के अंतिम दिन मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने भी प्रेस वार्ता कर दीपक प्रकाश पर हुए इस एफ आई आर को जायज ठहराते हुए कहा कि जब भी चुनाव होते हैं और भाजपा हाथी भी दिखाई देती है तो अपने विरोधियों को अस्थिर करने के लिए हॉर्स ट्रेडिंग का प्रयोग करती है 2014 के बाद भाजपा की यह परंपरा रही है कि वह दूसरे दलों के विधायकों और सांसदों को पैसे के बल पर अपनी और करती है

अपने प्रेसवार्ता में बाबूलाल मरांडी ने पुलिस को भी आड़े हाथों लेते हुए कहा कि जिस प्रकार से राजनीतिक दलों के द्वारा दीपक प्रकाश पर एफ आई आर की गई है उसमें जो धारा अंकित की गई है हूबहू प्रशासन ने उसी धारा के तहत दीपक प्रकाश के खिलाफ मामला दर्ज किया है इसे देखकर साफ स्पष्ट होता है कि प्रशासन जनता की भलाई के लिए नहीं बल्कि सरकार की कठपुतली के रूप में कार्य कर रहे हैं एक लोकतांत्रिक व्यवस्था का यह हनन है.

दुमका और बेरमो विधानसभा में हो रहे उपचुनाव को लेकर सत्ता पक्ष और विपक्ष दोनों ही तरफ से एक दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप का दौर जारी है चुनावी सभाओं के मंचों से भाषा की मर्यादा को तार-तार किया जा चुका है ऐसे में देखना लाजमी होगा कि आखिरकार जीत किसकी होती है और किसका पलड़ा इस उपचुनाव में भारी होता है दुमका और बेरमो यदि महागठबंधन जीतने में सफल होती है तो एक बार फिर 2019 विधानसभा चुनाव की तरह भाजपा बैकफुट पर आ जाएगी वही दुमका और बेरमो भाजपा के खाते में आती है तो 10 महीने के भीतर ही सत्ताधारी दलों को एक करारा झटका लगेगा.

दोनों विधानसभा सीटों पर बुधवार यानी 3 नवंबर को मतदान की प्रक्रिया संपन्न होगी वही 10 नवंबर को इसका परिणाम बिहार विधानसभा चुनाव के परिणामों के साथ ही आएगा. दुमका विधानसभा सीट पर भाजपा ने पूर्व मंत्री लुईस मरांडी को अपना प्रत्याशी बनाया है तो वहीं हेमंत सोरेन के द्वारा दुमका सीट छोड़ने के बाद बसंत सोरेन को झारखंड मुक्ति मोर्चा ने अपना प्रत्याशी बनाया है. बात अगर बेरमो विधानसभा की करें तो बेरमो सीट कांग्रेस के खाते में थी लेकिन राजेंद्र सिंह की मृत्यु हो जाने के बाद यह सीट खाली हो गई. बेरमो की सीट पर भाजपा ने योगेश्वर महतो बाटुल को अपना प्रत्याशी बनाया है तो वहीं कांग्रेस ने राजेंद्र सिंह के बड़े पुत्र कुमार जय मंगल उर्फ अनुप सिंह को अपना प्रत्याशी बनाया है

Advertisement

Leave a Reply

Share on facebook
Share on twitter
Share on pocket
Share on whatsapp
Share on telegram

Related News

Popular Searches