Jharkhand assembly foundation day

सादगी के साथ मनाया गया झारखंड विधानसभा का स्थापना दिवस, शहीदों के परिजनों को किया गया सम्मानित

Shah Ahmad
Share on facebook
Share on twitter
Share on email
Share on pocket

रविवार 22 नवंबर को झारखंड विधानसभा का 20 वां स्थापना दिवस मनाया गया स्थापना दिवस कार्यक्रम नहीं विधानसभा के सभागार में सादगी के साथ संपन्न हुआ कार्यक्रम के दौरान 2020 के लिए झारखंड उत्कृष्ट विधायक के रुप में शिकारीपाड़ा से लगातार सातवीं बार जीत दर्ज करके विधानसभा पहुंचे नलिन सोरेन को सम्मानित किया गया साथ ही कोरोनावायरस के दौरान अपनी जान की परवाह किए बगैर जनता की सेवा में लगे रहे कोरोनावायरस को भी सम्मानित किया गया

Advertisement

कार्यक्रम के दौरान सुबह के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन प्रदेश की राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू विधानसभा अध्यक्ष रविंद्र नाथ महतो सहित सुबह के तमाम मंत्री मौजूद रहे उनकी मौजूदगी में शहीदों के परिजनों मैट्रिक और इंटर की परीक्षा में अव्वल आने वाले छात्र-छात्राओं को सम्मानित किया गया इस बार का विधान सभा स्थापना दिवस एक और खास चीज के लिए अंकित किया गया इस वर्ष का स्थापना दिवस बिना नेता प्रतिपक्ष के ही मनाया गया है दरअसल नेता प्रतिपक्ष को विधानसभा अध्यक्ष की तरफ से मान्यता नहीं दी गई है इसलिए इस कार्यक्रम में मुख्य विपक्षी दल भाजपा की तरफ से बोकारो विधायक बिरंचि नारायण को मुख्य सचेतक के रूप में बुलाया गया था कार्यक्रम के दौरान बिरंचि नरायण ने कहा कि यदि इस कार्यक्रम में नेता प्रतिपक्ष रहे थे तो कार्यक्रम और भव्य हो जाता

बता दें कि विधानसभा चुनाव संपन्न होने के कुछ दिनों के बाद झारखंड विकास मोर्चा के टिकट पर जीत कर आए बाबूलाल मरांडी प्रदीप यादव और बंधु तिर्की अब दूसरे दलों में हैं बाबूलाल मरांडी झाविमो के सुप्रीमो थे उन्होंने अपनी पार्टी का विलय भाजपा में कर दिया लेकिन विधानसभा कि समिति बाबूलाल मरांडी को भाजपा का विधायक ना मानते हुए नेता प्रतिपक्ष की कुर्सी से अभी तक दूर रखे हुए हैं

विधानसभा स्थापना दिवस के मौके पर मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने कहा कि विधानसभा का 20 वां स्थापना दिवस मना रहे हैं यह हमारे लिए खुशियों का मौका है राज्य गठन के बाद 20 वर्ष हो चुके हैं और इस 20 वर्षों में हमने कई उतार-चढ़ाव देखे हैं विधानसभा में उतार-चढ़ाव और कई चुनौतियों का ग वा भी रहा है हम 81 विधायक मिलकर इस राज्य को दिशा देने में लगातार प्रयासरत हैं और आगे भी रहेंगे साथ ही मुख्यमंत्री ने कहा कि देश का सबसे पिछड़ा राज्य होने के बावजूद भी कोरोनावायरस से निपटने में झारखंड ने देश को एक उदाहरण के रूप में खुद को पेश किया है राज्य के भीतर हमने कोरोना के कारण ना भय का माहौल बनने दिया और ना ही किसी को भूखा मरने दिया हमारे राज्य में रिकवरी रेट 90% से ऊपर बनी हुई है लेकिन कई राज्यों में भयवाह स्थिति बनी हुई है यह दर्शाता है कि हम अपने लोगों के लिए कितनी संवेदनशील है.

आगे मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य के भीतर कई ऐसे संसाधन है जिनके माध्यम से हम झारखंड को विश्व स्तर पर पहचान दिला सकते हैं राज्य की आंतरिक व्यवस्था को अब अवसर में बदलने की जरूरत है इन सबके लिए जरूरी है अनुशासित और शांतिप्रिय व्यवस्था कायम करने की तभी राज्य के प्रति लोगों का आकर्षण बढ़ेगा और सपने को साकार करने में मदद भी मिल पाएगी

विधानसभा स्थापना दिवस के मौके पर विधानसभा अध्यक्ष रविंद्र नाथ महतो ने कहा कि विधानसभा में समितियों का बन जाना ही केवल कार्य नहीं है बल्कि उसे ठीक ढंग से संचालित भी किया जाना चाहिए समितियां तो बहुत बनी लेकिन उनके संचालन के लिए अभी तक कोई नियमावली नहीं थी इस वजह से कई समितियां कार्य नहीं कर पाती थी इस बात को ध्यान में रखते हुए प्रारूप समिति का गठन किया गया जिन्होंने समितियों के लिए विशिष्ट नियमावली तैयार किया है कार्यक्रम के दौरान विधानसभा की तरफ से तैयार की गई विशेष स्मारिका का लोकार्पण भी किया गया इसमें संसदीय इतिहास की जानकारी दी गई

Advertisement

Leave a Reply

Share on facebook
Share on twitter
Share on pocket
Share on whatsapp
Share on telegram

Popular Searches