Skip to content
Advertisement

CM Hemant Soren: निर्वाचन आयोग से राज्यपाल ने नहीं मांगी दूसरी राय, रमेश बैस ने बोला था झूठ

Jharkhand News: निर्वाचन आयोग ने सोमवार को झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन (CM Hemant Soren) से कहा कि राज्यपाल रमेश बैस ने उन्हें अयोग्य ठहराने के मामले में दूसरी राय नहीं मांगी है. आयोग ने मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को पत्र भेजा है, जिसमें कहा गया है कि उसे राज्यपाल की ओर से ऐसा कोई संदेश नहीं मिला है.

इससे पहले रविवार को रांची में सीएम हेमंत सोरेन ने कहा था कि उन्होंने निर्वाचन आयोग से कहा है कि वह खनन पट्टा मामले में विधायकी से अयोग्य ठहराये जाने के मामले में राज्यपाल द्वारा ‘दूसरी राय’ मांगे जाने के अनुरोध की एक प्रति उन्हें प्रदान करें. सोरेन ने राज्यपाल के 27 अक्तूबर के एक बयान की पृष्ठभूमि में यह टिप्पणी की थी. “राज्यपाल ने कहा था कि उन्होंने मामले में ‘दूसरी राय’ मांगी है. राज्यपाल रमेश बैस ने दावा किया था कि ‘झारखंड में किसी भी समय एक-आध परमाणु बम विस्फोट हो सकता है.’ उन्होंने मामले में लंबित अपने निर्णय की ओर इशारा करते हुए यह बात कही थी.”

हेमंत ने वकील के जरिये आयोग से मांगी थी जानकारी:

सीएम हेमंत सोरेन ने रविवार को कहा था, ‘मैंने लाभ के पद के मामले में अपने वकील के माध्यम से राज्यपाल रमेश बैस के ‘दूसरी राय’ के अनुरोध की एक प्रति निर्वाचन आयोग से मांगी है.’ उन्होंने कहा था, ‘वकील ने मेरी ओर से कहा है कि निर्वाचन आयोग राज्यपाल द्वारा किये गये दूसरे अनुरोध के आधार पर कोई राय देने से पहले निष्पक्ष और प्रभावी सुनवाई का अवसर प्रदान करेगा.’

बता दें कि, भाजपा ने लाभ के पद के मामले में श्री सोरेन को विधानसभा से अयोग्य ठहराने की याचिका दाखिल की थी. इसके बाद निर्वाचन आयोग ने 25 अगस्त को झारखंड के राज्यपाल को अपना फैसला भेजा था, जिससे राज्य में राजनीतिक संकट पैदा हो गया था.

Advertisement
CM Hemant Soren: निर्वाचन आयोग से राज्यपाल ने नहीं मांगी दूसरी राय, रमेश बैस ने बोला था झूठ 1