NRC, NPR के खिलाफ तथा सरना धर्म कोड को लेकर विधानसभा में प्रस्ताव लाने की तैयारी में है हेमंत सरकार

Share on facebook
Share on twitter
Share on email
Share on telegram
Share on reddit

झारखंड की हेमंत सरकार एनपीआर और एनआरसी के खिलाफ इसी बजट सत्र के दौरान ही प्रस्ताव पास कराने की तैयारी में है। इसके साथ ही जनगणना से पहले आदिवासी समाज की बहुप्रतीक्षित मांग ‘सरना धर्म कोड’ को लेकर प्रस्ताव भी इसी मौजूदा सत्र में लाया जा सकता है। सरकार दोनों ही बिंदुओं पर गंभीरता से काम कर रही है। सूत्रों के अनुसार एनपीआर और एनआरसी के खिलाफ बिहार और तमिलनाडु में एनडीए सरकार के द्वारा प्रस्ताव पास कराये जाने से हेमंत सरकार को इस मसले पर मजबूती मिली है। साथ ही हेमंत सरकार ने बीते साल वनाधिकार अधिनियम के तहत जंगलो से बेघर हुए आदिवासियों की समस्याओ का अध्ययन कर एनपीआर और एनआरसी के खिलाफ प्रस्ताव पास करने का निर्णय लिया है। बताते चले की बीते साल झारखंड समेत देश के जंगलो में रहने वाले लाखो आदिवासियों को जंगलो से बेदखल करने का फरमान सुनाया गया था।

NRC CAA
Image: TheHindu

इन आदिवासियों के पास जरुरी कागजात नहीं होने की वजह से सुप्रीम कोर्ट द्वारा इन्हे जंगलो से बेदखल करने का फैसला सुनाया गया था। सरकार को इस बात की चिंता है की सूबे में बड़ी संख्या में आदिवासी और दलित समाज के गरीबो के पास एनआरसी को लेकर जरुरी कागजात नहीं होने की स्थिति में उन्हें दिक्कते झेलनी पड़ सकती है। इसके अलावा देश में एक बड़ी आबादी एनआरसी और एनपीआर के खिलाफ आन्दोलनरत्त है। जिसे देखते हुए सरकार एनआरसी और एनपीआर के खिलाफ मौजूदा सत्र में ही प्रस्ताव पास करा सकती है। इसके अलावा एनपीआर को 2010 के प्रारूप के अनुसार ही राज्य में लागू करने को लेकर प्रत्साव पास किया जायेगा। बताते चले की देश के ग्यारह राज्यों ने अबतक एनपीआर और एनआरसी के खिलाफ सर्वसम्मति से प्रस्ताव पास कर केंद्र को भेजा है, जिसमे बीजेपी शासित बिहार और तमिलनाडु में बीजेपी की सहयोगी अन्नाद्रमुक भी शामिल है।

गृह मंत्री अमित शाह के बयान से संशय की स्थिति :

उल्लेखनीय है की बीते साल टाइम्स नाउ को दिए अपने इंटरव्यू में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने एनआरसी के संदर्भ में कहा था की एनआरसी में आधार कार्ड या वोटर आईडी कार्ड से नागरिकता साबित नहीं होती। इसके बाद से ही देशभर में इसे लेकर विरोध शुरू हो गया था की आखिर एनआरसी में नागरिकता साबित करने का पैमाना क्या होगा। हालांकि प्राप्त जानकारी के अनुसार सरकार द्वारा जारी किये गए जन्म प्रमाण पत्र के आधार पर ही एनआरसी में नागरिकता साबित हो सकेगी, ऐसे में जाहिर है की देश की एक बड़ी आबादी, जिनमे आदिवासी और दलित शामिल है, उन्हें नागरिकता साबित करने में दिक्कते आएंगी।

Leave a Reply

In The News

राज्य सरकार की सौगात, आपके पास नहीं है लाल-पीला कार्ड तो बनेगा हरा कार्ड, प्रत्येक माह मिलेगा इतना राशन

झारखंड की हेमंत सरकार राज्य की जनता को एक बार फिर नई सौगात देने जा रही है। सरकारी राशन के…

झारखण्ड में 3126 मिडिल स्कूलों में होगी 3000 प्रधानाध्यापकों की नियुक्ति

झारखंड के मिडिल स्कूलों में करीब 3000 प्रधानाध्यापकों की नियुक्ति होगी। आधे पदों पर जहां सीधी नियुक्ति की जाएगी वही आधे…

पुलिस और सहायक पुलिसकर्मियों के बीच झड़प के बाद दर्ज हुई FIR, जानिए क्यूँ कर रहे है आंदोलन

रांची के मोहराबदी मैदान में 12 सितंबर से राज्य भर के सहायक पुलिसकर्मी आंदोलन कर रहे है. उनका कहना है…

राँची: मोहराबादी मैदान में आंदोलन कर रहे सहायक पुलिसकर्मीयों पर लाठी चार्ज, जानिए ऐसा क्यों हुआ

झारखंड के सभी जिलो के अंतर्गत कार्य करने वाले सहायक पुलिसकर्मी पिछले कुछ दिनों से राजधानी राँची के मोहराबादी मैदान…

रिम्स की व्यवस्था से हाईकोर्ट नाराज़ कहा, सलाना मिलने वाले 100 करोड़ का क्या किया जाता है

झारखंड हाईकोर्ट ने रिम्स की व्यवस्था को लेकर एक बार फिर सवाल पूछा है। अदालत ने रामरस में डॉक्टर और…

मानसून सत्र शुरू होते ही भाजपा विधायक ने हाथों में तख्ता लेकर राज्य सरकार का जताया विरोध

झारखंड विधानसभा का मानसून सत्र आज 18 सितंबर से शुरू हो गया है। कोरोना महामारी को देखते हुए पुख्ता इंतजाम…

Get notified Subscribe To The News Khazana

Follow Us

Popular Topics

Trending

Related News

जोहार 😊

Popular Searches