Share on facebook
Share on twitter
Share on pinterest
Share on email
Share on print
Share on whatsapp
Share on telegram

20191229_090558_0000-01.jpegभारतीय नागरिकता कानून को लेकर देशभर में भारी विरोध प्रदर्शन हो रहे है तो कहीं शांति पूर्ण तरीके से भी विरोध दर्ज कराया जा रहा है. देश के बड़े बड़े विश्वविद्यालय सहित कई ऐसी सस्थाएँ है जो इसका विरोध कर रहे है और सरकार से इस कानून को वापस लेने को कह रहे है

कोयला नगरी के नाम से मशहूर धनबाद में भारतीय नागरिकता कानून का विरोध किया गया था. वासेपुर के लोगो द्वारा इस कानून के विरुद्ध एक प्रतिवादित मार्च निकला गया था जहाँ बड़ी संख्या में लोगो का हुजूम उमड़ पड़ा था. तिरंगे के साथ तक़रीबन 3000 से अधिक लोगो ने इस मार्च में हिस्सा लिया और अपना विरोध दर्ज करवाया। लोगो का कहना है आंचल अधिकारी के पास हमें आवेदन दिया था और हमें अनुमति भी मिली थी इसके बावजूद थाना प्रभारी ने मुकदमा दर्ज कर दिया है.

पुलिस ने दर्ज किया देशद्रोह का मुकदमा:

धनबाद पुलिस ने मार्च में भाग लेने वालो के खिलाफ देशद्रोह मुकदमा दर्ज किया है जहां पुलिस ने ये तय्थ दिया है की इस विरोध प्रदर्शन के लिए प्रसाशन से कोई अनुमति नहीं ली गयी थी. 3000 लोगो पर देशद्रोह मुकदमा दर्ज होने साथ ही 7 लोगो नामज़द किया गया है.

हेमंत सोरेन ने दिए जाँच के आदेश धनबाद पुलिस पर गिर सकती है गाज:

झारखण्ड के नवनिर्वाचित मुख्य्मंत्री हेमंत सोरेन ने मामले पर संज्ञान हुए आदेश दिया है की 3000 लोगो पर दर्ज मुकदमे वापस होंगे साथ ही धनबाद थाना प्रभारी संतोष कुमार को पत्र लिख कर स्पष्टीकरण माँगा गया है. पत्र में संतोष कुमार से 3 दिनों के अंदर जवाब माँगा गया है यदि संतोषजनक नहीं दे पते है तो उनके खिलाफ विभागीय करवाई हो सकती है और नौकरी से हाथ धोना पद सकता है. मुख्मंत्री ने जानकारी अपने फेसबुक और ट्विटर के माध्यम से लोगो को दिया है.

Leave a Reply