Share on facebook
Share on twitter
Share on pinterest
Share on email
Share on print
Share on whatsapp
Share on telegram

झारखंड के युवा मुख्यमंत्री के तौर पर हेमंत सोरेन आज रांची के मोरहाबादी मैदान में शपथ लेंगे, झारखंड में 30 नवंबर से 20 दिसंबर तक पांच चरणों में हुए विधानसभा चुनावों में झारखंड मुक्ति मोर्चा (JMM) के नेतृत्व वाले विपक्षी जेएमएम-कांग्रेस-आरजेडी गठबंधन ने विधानसभा की 81 सीटों में से 47 सीटें जीतकर स्पष्ट बहुमत हासिल किया था, चुनाव में जेएमएम को 30 सीटें मिली थीं वहीं, कांग्रेस के हिस्से 16 सीटें और राजेडी के हिस्से केवल 1 सीट आई थी |

यह भी पढ़ें: विकास का नाम भूल गयी है भाजपा, धर्म के नाम पर वोट मांग रहे है भाजपा के लोग

कौन-कौन बनेगा मंत्री?

झारखंड में कुल 12 विधायकों को मंत्री बनाया जा सकता है, सूत्रों का कहना है कि जेएमएम की ओर से जहां 6 मंत्री होंगे, वहीं कांग्रेस को चार से पांच मंत्री और एक विधानसभा अध्यक्ष का पद मिल सकता है, जेएमएम की ओर से अनुभवी स्टीफन मरांडी, चंपई सोरेन और बैद्यनाथ राम का नाम तय माना जा रहा है. कहा जा रहा है कि कांग्रेस में मंत्री के नाम दिल्ली से ही तय होंगे.

एक्शन में दिख रहे हैं हेमंत सोरेन

चुनाव जीतने के बाद से ही हेमंत सोरेन एक्शन में दिख रहे हैं, लोगों से मिलने से लेकर पब्लिक लाइब्रेरी बनवाने की बात सोरेन कर रहे हैं, एनआरसी और नागरिकता कानून को लेकर हेमंत सोरेन अपना स्टैंड पहले ही साफ कर चुके हैं,

यह भी पढ़ें: हेमंत सोरेन ने कहा भाजपा और आजसू पार्टी जनता को देती है धोखा झामुमो को वोट देकर सिखाये सबक

परिणाम से पहले सोरेन ने कहा था कि चुनाव जीतने के बाद वो CAA और NRC का मूल्यांकन करेंगे, और अगर झारखंड में इसे लागू करने पर हिंसा होने का डर रहेगा, तो वो राज्य में इसे नहीं लागू किया जाएगा, उन्होंने कहा है कि उनकी सरकार की प्राथमिकता शिक्षा और स्वास्थ्य रहेगी| (the quint)

Leave a Reply