Skip to content
Advertisement

झारखंड में वर्ल्ड ट्रेड सेंटर बनाने की तैयारी में हेमंत सोरेन सरकार, जानिए क्या होगें फायदे

Advertisement
झारखंड में वर्ल्ड ट्रेड सेंटर बनाने की तैयारी में हेमंत सोरेन सरकार, जानिए क्या होगें फायदे 1

झारखंड की हेमंत सोरेन सरकार राज्य में जल्द ही वर्ल्ड ट्रेड सेंटर बनवाने जा रही है इसके लिए उद्योग विभाग की तरफ से नगर विकास विभाग को प्रस्ताव भेजा जा चुका है साथ ही एचईसी से स्मार्ट सिटी के अंदर वर्ल्ड ट्रेड सेंटर को खोलने के लिए जमीन की मांग की गई है राज्य सरकार ने वर्ल्ड ट्रेड सेंटर को राजधानी रांची में बसाने की योजना बनाई है वर्ल्ड ट्रेड सेंटर का निर्माण 4 एकड़ के क्षेत्र में किया जाएगा वर्ल्ड ट्रेड सेंटर बनने से कारोबार से संबंधित सभी सुविधाएं एक ही बिल्डिंग में होगी ताकि लोगों को कोई भी परेशानी ना उठानी पड़े

Also Read: झारखंड सरकार ने जारी किया आदेश, राज्य में 30 नवंबर तक नहीं खुलेगी शिक्षण संस्थान और सिनेमा हॉल

झारखंड सरकार की तरफ से वर्ल्ड ट्रेड सेंटर के निर्माण को लेकर कवायद तेज हो गई है फाइल भी आगे बढ़ चुका है वर्ल्ड ट्रेड सेंटर के बनने से राज्य की राजधानी रांची में अंतरराष्ट्रीय कारोबार से जुड़ी सुविधाएं एक ही परिसर में उपलब्ध कराने की कोशिश की जा रही है विदेश व्यापार महानिदेशालय का क्षेत्रीय कार्यालय और भारतीय निर्यात परिषद से जुड़े कार्यालय भी यहां मौजूद होंगे साथ ही आयात निर्यात करने वाली कंपनियों को भी जगह उपलब्ध कराया जाएगा साथ ही सबसे अहम सुविधा करंसी एक्सचेंज और मनी ट्रांसफर के रूप में मिलेगी.

Also Read: CM हेमंत सोरेन ने नेशनल मेडिकल काउंसिल को लिखा पत्र, मेडिकल कॉलेजों में छात्रों के प्रवेश को नहीं रोकने का आग्रह

बता दें कि वर्ष 2018 में केंद्र सरकार की तरफ से वर्ल्ड ट्रेड सेंटर खोलने के लिए 9 पॉइंट 8 करोड़ रुपए स्वीकृत किए गए थे परंतु यह कार्य अब तक शुरू नहीं हुआ है. जिस वक्त केंद्र सरकार की तरफ से यह राशि उपलब्ध करवाई गई थी उस समय रघुवर दास मुख्यमंत्री थे सरकार बदलने के बाद एक बार फिर वर्ल्ड ट्रेड सेंटर को बनाने के लिए हेमंत सरकार ने अपने कदम बढ़ा दिए हैं तकरीबन 2 साल के बाद फिर से एक बार फाइल आगे बढ़ी है ऐसा कहा जा रहा है कि राजधानी रांची में वर्ल्ड ट्रेड सेंटर बनने के बाद अंतर्राष्ट्रीय कारोबार करने वाली कंपनियों को अपने उत्पादों के प्रदर्शन और प्रचार के लिए जगह दी जाएगी ताकि अंतरराष्ट्रीय व्यापार से जुड़ी सारी प्रक्रिया एक ही छत के नीचे पूरी हो सके