Skip to content

Jamshedpur: MLA सरयू राय और पूर्व CM रघुवार दास समर्थकों के बीच हिंसक झड़प, जमकर चले लाठी-डंडे

Arti Agarwal

Jamshedpur: जमशेदपुर के सिदगोड़ा सूर्य मंदिर के टाउन हॉल परिसर में शुक्रवार देर शाम पुलिस की मौजूदगी में पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास और जमशेदपुर पूर्वी के विधायक सरयू राय के समर्थकों के बीच हिंसक झड़प हो गई। इस दौरान रघुवर समर्थकों ने सरयू समर्थकों को दौड़ाकर पीटा। लाठी-डंडे, कुर्सियों और टेंट के पाइप से वार किया गया। इसमें भाजमो के जिलाध्यक्ष सुबोध श्रीवास्तव समेत एक दर्जन लोग घायल हो गए।

Advertisement

घटना के बाद दोनों पक्षों के लोग सिदगोड़ा थाना पहुंचे और एक-दूसरे के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई। घटना के बाद प्रशासन ने सिदगोड़ा टाउन हॉल परिसर के मेन गेट पर ताला लगा कार्यक्रम स्थगित करने की घोषणा कर दी। सिदगोड़ा सूर्य मंदिर परिसर में 2002 से रघुवर समर्थकों (भाजपा) का वर्चस्व रहा है। जमशेदपुर पूर्वी के विधायक सरयू राय के बनने के बाद सूर्य मंदिर कमेटी दो पक्षों में बंट गई। 

इसे भी पढ़े- Hemant Soren: भ्रष्टाचारियों को नहीं बक्शेगें CM हेमंत सोरेन, पूर्व सीओ के खिलाफ़ आय से अधिक संपत्ति का मामला दर्ज

2019 के विस चुनाव में रघुवर दास को हराने वाले सरयू राय ने मंदिर परिसर स्थित परिसंपत्तियों के रघुवर समर्थकों के व्यावसायिक इस्तेमाल की शिकायत शासन व प्रशासन से की थी। प्रशासन ने अधिकांश परिसंपत्तियों को अपने अधीन ले लिया। हाल में वहां संचालन समिति बनाई गई हैं। इसमें सरयू संरक्षक बनाये गये हैं। 

यह मेरे ऊपर हमला:

विधायक सरयू राय ने कहा कि यह हमला सुबोध श्रीवास्तव समेत अन्य पार्टी कार्यकर्ताओं पर नहीं, बल्कि मेरे ऊपर है। अभी शहर से बाहर हूं। बेंगलुरू से शनिवार को शहर पहुंचने पर जानकारी लेंगे। इसके बाद रणनीति तय होगी।

मारपीट के बाद प्रशासन ने टाउन हॉल परिसर में जड़ा ताला:

सूर्य मंदिर के टाउन हॉल परिसर में शुक्रवार देर शाम रघुवर और सरयू समर्थकों के बीच मारपीट के बाद दोनों पक्ष सिदगोड़ा थाना पहुंचे, जहां नारेबाजी हुई। भाजमो समर्थकों की संख्या कम होने के कारण वे लोग काफी देर तक थाने में भी बैठे रहे। सूचना पाकर प्रशासन की तरफ से सिटी एसपी के. विजय शंकर और एसडीओ पीयूष सिन्हा ने दोनों पक्षों की बारी-बारी से बात सुनी। इसके बाद सिटी एसपी और एसडीओ सिदगोड़ा टाउन हॉल परिसर पहुंचे, जहां मौके का मुआयना करने के बाद कार्यक्रम स्थगित करने का आदेश दिया। एसडीओ पीयूष सिन्हा ने सिदगोड़ा टाउन हॉल परिसर के मेन गेट में ताला जड़वा दिया।

इसे भी पढ़े- ऐसा जिला जो कभी नक्सल के कारण चर्चित था. हेमंत सोरेन ने कुछ ऐसा किया कि चर्चा आज विकास को लेकर है

Leave a Reply