Skip to content
Advertisement

JBVNL: झारखंड में बिजली नेटवर्क विस्तार की तैयारी तेज, 24 जिलों में 3132 करोड़ किया जायेगा खर्च

Advertisement
JBVNL: झारखंड में बिजली नेटवर्क विस्तार की तैयारी तेज, 24 जिलों में 3132 करोड़ किया जायेगा खर्च 1

JBVNL: झारखंड बिजली वितरण निगम (जेबीवीएनएल) की ओर से राज्य में बिजली नेटवर्क के विस्तार की तैयारी तेज कर दी गई है। केंद्र सरकार की योजना रिवैम्प डिस्ट्रीब्यूशन सेक्टर स्कीम (आरडीएसएस) के तहत 3132 करोड़ रुपये बिजली नेटवर्क को मजबूत करने पर खर्च किए जाएंगे। इस कार्य को शुरू करने के लिए जेबीवीएनएल के विभिन्न एरिया बोर्ड के माध्यम से निविदा जारी कर दी गई है।

जेबीवीएनएल का राज्य में सात एरिया बोर्ड है जिसका विस्तार सभी 24 जिलों है। राज्य में बिजली नेटवर्क का विस्तार करने के लिए भारत सरकार ने आरडीएसएस योजना के तहत 4200 करोड़ रुपये की योजना मंजूर की है। इस योजना से निगम अपना घाटा कम करने के लिए संशाधनों का विकास कर सकेगा और तकनीक का उपयोग करते हुए नियंत्रण प्रणाली को मजूबत बनाएगा।

Advertisement
Advertisement

गांव से शहर तक बिजली का बेहतर नेटवर्क स्थापित करके गुणवत्तापूर्ण आपूर्ति सुनिश्चित की जाएगी। हर घर बिजली पहुंचाने के बाद जेबीवीएनएल के पास गुणवत्तापूर्ण आपूर्ति एक चुनौती बनी हुई है। इस योजना के तहत नए फीडर, अंडर ग्राउंड केबिल, एबी केबिल, ट्रांसफार्मर, उपभोक्ताओं के घर स्मार्ट प्री-पेड मीटर आदि के क्षेत्र में बड़े स्तर पर काम होगा।

Also Read: Jharkhand B.Ed Counselling 2022: बीएड में एडमिशन लेने का आखरी मौका, तीसरे राउंड की काउंसलिंग आज से, 6000 सीटें अभी भी खाली

5395 नए ट्रांसफार्मर लगेंगे योजना के तहत लंबे फीडर छोटे किए जाएंगे। फीडर लंबे होने के कारण वोल्टेज उतार-चढ़ाव की समस्या रहती है। लाइन लॉस भी होता है। लाइन लॉस 15 प्रतिशत तक लाने के लिए लंबे फीडर को छोटे किए जाएंगे। ओवर लोडिंग कम करने के लिए 5395 नए ट्रांसफार्मर लगाए जाएंगे। इसी प्रकार 2200 सर्किट किमी फीडर के लिए तार लगाए जाएंगे।

JBVNL: 24 जिलों में 13.41 लाख स्मार्ट मीटर लगाये जाएंगे, ग्रामीण क्षेत्रों में बिजली आपूर्ति के लिए 72 फीडर बनेगा

जेबीवीएनएल से मिली जानकारी के अनुसार योजना के तहत 24 जिलों में 13.41 लाख स्मार्ट प्रीपेड मीटर लगाए जाएंगे। हर जिले का अलग लक्ष्य निर्धारित किया गया है। ग्रामीण क्षेत्रों में किसानों को बेहतर बिजली आपूर्ति के लिए 72 नए कृषि फीडर बनाए जाएंगे।