Skip to content

Jharkhand News: झारखंड के स्कूलों में टाइम टेबल में हुआ बड़ा बदलाव, जानें नया टाइम टेबल!

Ranchi: झारखंड के सरकारी के साथ-साथ निजी स्कूलों के टाइम टेबल में बड़ा बदलाव हुआ है। अब राज्य के सभी सरकारी और निजी स्कूलों की कक्षाएं 1 अप्रैल

से अगले तीन महीने (30जून) तक मॉर्निंग शिफ्ट में संचालित किए जाएंगे। मॉर्निंग क्लास में सभी सरकारी स्कूल सुबह के 7 बजे ही शुरू हो जाएगी जो दोपहर के 1 बजे तक चलेगी। बता दें कि आने वाले महीनों पड़ने वाले भीषण गर्मी के मद्देनजर राज्य सरकार ने यह फैसला लिया है।

आपको बता दें कि मॉर्निंग शिफ्ट में क्लास शुरू होने से पहले सरकारी स्कूलों में डे शिफ्ट कक्षाएं संचालित होती थी। डे शिफ्ट में स्कूलों की कक्षाएं सुबह 9 बजे शुरू होती थी और दोपहर के 3 बजे तक संचालित होती थी। अब राज्य के सभी सरकारी स्कूल दो घंटे पहले ही खुलेंगे, जबकि निजी स्कूल एक से दो घंटे पहले ही खुलेंगे। अब स्कूलों के मॉर्निंग शिफ्ट होने की स्थिति में शिक्षकों को सुबह 6.45 बजे ही स्कूल पहुंचना होगा। सात बजे से 7.15 तक सुबह की प्रार्थना सभा होगी। राज्य सरकार ने सरकारी स्कूलों के टाइम टेबल में बदलाव को लेकर आश्वासन भी दे दिया है।

Jharkhand News: ये है नया टाइम टेबल

सुबह की प्रार्थना के बाद शिक्षकों द्वारा बच्चों की अटेंडेंस ली जाएगी। उसके बाद पहली घंटी 7.25 मिनट में पहली घंटी बजेगी। पहली दो घंटिया 45-45 मिनट की होगी जिसके बाद 5 मिनट का ब्रेक होगा। इसके बाद लगातार तीसरी, चौथी और पांचवी घंटी 40-40 मिनट की होगी. वहीं सुबह 11 बजे से 11.30 बजे तक का समय मध्याहन भोजन के लिए निर्धारित किया गया है। इसके बाद छठी घंटी 40 मिनट की होगी। उसके बाद 5 मिनट का ब्रेक होगा और फिर सातवीं घंटी 35 मिनट की होगी। इसके बाद स्कूलों में एक घंटे तक इंडोर और आउटडोर गेम्स हो सकते है।

Jharkhand News: खेलों को लेकर बनी असमंजस की स्थिति

शिक्षा विभाग के निर्देशानुसार सुबह की पाली की कक्षाओं के बाद इंडोर और आउटडोर खेलों का आयोजन किया जाएगा. ऐसे में अभी भी असमंजस की स्थिति बनी हुई है कि गर्मी में दोपहर 1 बजे तक बच्चे खुले मैदान में कैसे खेलेंगे. इसको लेकर शिक्षक संगठनों के साथ ही झारखंड विधानसभा में विधायकों ने भी आवाज उठाई गई, लेकिन आज तक इसमें बदलाव नहीं किया गया है.

Also read: Jharkhand News: मुख्यमंत्री के आदेश को पहनाया अमलीजामा, अंकित की पढ़ाई और परिवार के जीविकोपार्जन में आ रही अड़चने हुईं दूर