20201004_091149

Jharkhand News: मंत्री हाजी हुसैन अंसारी के निधन से राज्य में शोक का महौल, दो दिवसीय अवकाश घोषित

News Desk
Share on facebook
Share on twitter
Share on email
Share on pocket

झारखंड के अल्पसंख्यक मामलों के मंत्री हाजी हुसैन अंसारी शनिवार को निधन हो गया कुछ दिनों पहले वह कोरोना पॉजिटिव पाया गए थे इसके बाद उन्हें रांची के मेदांता अस्पताल में भर्ती करवाया गया था परंतु निधन होने 1 दिन पूर्व ही उनकी रिपोर्ट नेगेटिव आई थी। 73 साल के हाजी हुसैन अंसारी कुरौना को मात देने के बाद जिंदगी की जंग हार गए शनिवार को तकरीबन 3:40 पर उन्होंने अंतिम सांस ली। मंत्री हाजी हुसैन का अंतिम संस्कार उनके पैतृक गांव मधुपुर के पिपरा में किया जाएगा जहां राज्य के मुख्यमंत्री पहुंचेंगे। जानकारी के अनुसार मंत्री हाजी हुसैन अंसारी 22 सितंबर को कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे जिसके बाद उन्हें 23 सितंबर को राज्य के मेदांता अस्पताल में भर्ती करवाया गया था लेकिन शनिवार को कार्डियक अरेस्ट होने के कारण उनका निधन हो गया उनके निधन की खबर सुन पूरा राज्य शोक में डूब चुका है हेमंत सोरेन ने भी इस बात को लेकर काफी दुख जाहिर किया है।

Advertisement

दो दिनो का अवकाश:

मंत्री हाजी हुसैन अंसारी के निधन के बाद राज्य की हेमंत सरकार ने यह फैसला लिया है कि उनके सम्मान में दो दिवसीय राजकीय अवकाश रहेगी जहां 5 अक्टूबर को राज्य के सभी सरकारी कार्यालयों में ध्वज आधे झुके रहेंगे और सरकारी कार्यालय पूर्ण रूप से बंद रहेंगे।

अल्पसंख्यक समाज में खासा प्रभाव रखते थे हाजी हुसैन अंसारी:

मंत्री हाजी हुसैन अंसारी आपसंख्यक समाज में काफी हाथ से पकड़ रखते थे यही वजह है कि वह झामुमो में इकलौते ऐसे अल्पसंख्यक नेता थे जिन्हें कभी भी विवादों में नहीं देखा गया था हाजी हुसैन अंसारी की झामुमो में एंट्री कब होगी जब पार्टी में अल्पसंख्यक समाज से कोई भी बड़ा चेहरा नहीं था मंत्री हाजी हुसैन अंसारी ने 1980 के दशक में झामुमो का दामन थामा था जिसके बाद उन्हें मधुपुर से विधानसभा का टिकट दिया गया था परंतु अपने पहले ही चुनाव में वह कांग्रेस के प्रत्याशी से चुनाव हार गए जिसके बाद दोबारा उन्हें 1990 में टिकट दिया गया और उन्होंने इस बार जीत कर अपना परचम लहराया। हाजी हुसैन अंसारी राजनीति में आने से पहले लकड़ी और छोटे-मोटे ठेकेदारी किया करते थे लेकिन उनके समाज में जिस तरह से इनकी पकड़ थी उसे देखते हुए ही इन्हें झारखंड मुक्ति मोर्चा में शामिल करवाया गया था।

झामुमो अध्यक्ष शिबू सोरेना और मुख्यमंत्री ने जताया दुख:

झारखंड मुक्ति मोर्चा के केंद्रीय अध्यक्ष और राज्यसभा सांसद विश्व गुरु शिबू सोरेन ने हाजिर हुसैन के निधन पर शोक जताया है उन्होंने कहा कि हमने एक जन नेता को खो दिया है हाजी हुसैन अंसारी बहुत ही सुलझे हुए और शांत स्वभाव के इंसान थे उनका इस दुनिया से चले जाना मेरे व्यक्तिगत क्षति के साथ ही संगठन के लिए भी एक बहुत बड़ी क्षति है जिसे कभी भी पूरा नहीं किया जा सकता है वही झारखंड के मुख्यमंत्री और झामुमो के कार्यकारी अध्यक्ष हेमंत सोरेन ने भी मंत्री हाजी हुसैन अंसारी के निधन पर शोक प्रकट किया है उन्होंने कहा कि हाजी हुसैन अंसारी साहब पार्टी सहित राज्य के ऐसे नेता थे जो सभी के दिलों में बसते थे झारखंड आंदोलन में भी उन्होंने आखिरी भूमिका निभाई थी उनके जाने से हमें काफी क्षति पहुंची हैं ईश्वर उन्हें जन्नत में जगह दें।

Advertisement

Leave a Reply

Share on facebook
Share on twitter
Share on pocket
Share on whatsapp
Share on telegram

Popular Searches