cbi jharkhand

Jharkhand: यूरेनियम कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया में घोटाला, CBI ने दायर किया आरोप पत्र

Shah Ahmad
Share on facebook
Share on twitter
Share on email
Share on pocket

यूरेनियम कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया में टीए और ओवरटाइम घोटाले की पुष्टि हुई है. सीबीआई रांची के द्वारा मामले की जांच पूरी करने के बाद विशेष न्यायाधीश की अदालत में आरोप पत्र दायर की गई है इस मामले में अकाउंटेंट मैनेजर संजीव कुमार शर्मा, क्लर्क गोपीनाथ दास एवं चपरासी नृपेंद्र कुमार सिंह को सीबीआई ने आरोपी बनाया है

Advertisement

सीपीआई के द्वारा दायर की गई आरोप पत्र में कहा गया है कि इन तीनों ने मिलकर छप्पन लाख रुपए की गड़बड़ी की है फर्जी है जो की यात्रा भत्ता के लिए मिलती है उस पैसे में से मैनेजर और क्लर्क ने हिस्सा लिया है आरोप पत्र में यह भी कहा गया है कि यूसील जादूगोड़ा के इन तीनों कर्मचारियों ने सोची समझी साजिश के तहत घोटाले को अंजाम दिया है चपरासी नृपेंद्र कुमार सिंह ने कुल 505 फर्जी पिए बिल बनाएं फर्जी बिल को जांच के लिए कलर के पास भेजा जाता था और इन तीनों की मिलीभगत के कारण कलर इसकी जांच करने के बाद अकाउंटेंट मैनेजर के पास भेज देता था बिल पास करने के लिए राशि चपरासी के खाते में ट्रांसफर कर दी जाती थी फर्जी बिल के जरिए चपरासी के खाते में वर्ष 2014 से लेकर 2019 तक की अवधि में 22.54 लाक ट्रांसफर किए गए थे

सीबीआई के द्वारा दायर की गई आरोप पत्र में यह कहा गया है कि बायोमैट्रिक अटेंडेंस की जांच में यह पाया गया कि यह चपरासी एक ही समय में ड्यूटी पर भी रहता था और उस समय का टीए बिल भी बनाता था फर्जी तरीके से टीए बिल पाने के लिए रांची टैक्सी स्टैंड और स्टेशन रोड स्थित होटल के फर्जी बिल का भी सहारा लिया जाता था जांच में सभी होटल के बिलों पर एक जैसे लिखावट मिली फर्जी ओवरटाइम की जांच के दौरान पाया गया कि कलर गोपीनाथ दास ऑनलाइन फाइनेंशियल सिस्टम के सहारे कामगारों के पेरोल मैं ओवरटाइम का ब्यौरा भरता था इसके बाद अपनी आईडी से इसे पास करता था

Advertisement

Leave a Reply

Share on facebook
Share on twitter
Share on pocket
Share on whatsapp
Share on telegram

Related News

Popular Searches