कोडरमा कोर्ट का ऐतिहासिक फैसला, पहली बार किसी को मिली फांसी की सजा

Shah Ahmad
Share on facebook
Share on twitter
Share on email
Share on pocket

कोडरमा जिले के सतगांवा थाना अंतर्गत ग्राम डुमरी में एक ही परिवार के चार लोगों की नृशंस हत्या के एक मामले में बुधवार को सुनवाई के पश्चात कोडरमा के जिला जज चतुर्थ विश्वनाथ शुक्ला की अदालत ने दो आरोपियों को फांसी की सजा सुनाई है। कोडरमा जिले में किसी मामले में फांसी की सजा सुनाए जाने का यह पहला मामला है। घटना वर्ष 2004 का है।

Also Read: भू-राजस्व रसीदें, Voter ID, पैन कार्ड और बैंक डाक्यूमेंट्स से नागरिकता साबित नहीं होती: गुवाहाटी हाई कोर्ट

इस मामले में मृतक सेवानिवृत्त शिक्षक कपिल देव प्रसाद यादव के पुत्र सुरेश कुमार के लिखित आवेदन पर सतगांवा थाना में कांड संख्या 34/04 भादवि की धारा 396, 302 3/4 एक्सप्लोसिव एक्ट व 17 सीएलए एक्ट के तहत दर्ज किया गया था। घटना में कपिल देव यादव के अलावा उनके पुत्र अनुज कुमार, नीरज कुमार व एक अन्य रिश्तेदार सकलदेव यादव की घर में घुसकर निर्मम तरीके से हत्या कर दी गई थी। घटना के बाद सभी अभियुक्त एमसीसी जिंदाबाद के नारे लगाते हुए चले गए थे.

Also Read: “एक था जेवीएम” के बाद भाजपा कार्यालय में बाबूलाल मरांडी, बंधू तिर्की ने कहा पार्टी का असली विलय कांग्रेस में हुआ है

मामले में 16 लोगों को नामजद अभियुक्त बनाया गया था। बाद में मामले में हुई सीआइडी जांच में 8 लोगों को बरी कर दिया गया था। वहीं 8 लोगों के विरुद्ध न्यायालय में आरोप पत्र दाखिल किया गया। एक अभियुक्त सुनील यादव, जो एमसीसीआइ का एरिया कमांडर भी था, को पूर्व में आजीवन कारावास की सजा हुई थी। जबकि एक अभियुक्त दरोगी प्रसाद यादव की मामले की सुनवाई के दौरान मौत हो गई थी। वहीं दो अन्य अभियुक्त रामवृक्ष यादव व संजय यादव के खिलाफ 13 दिसंबर 2016 को आरोप पत्र गठित किया गया था।

Also Read: महिलाएं एवं पुरुषों ने रोजा(उपवास) रखकर देश मे अमन-चैन की मांगी दुआ

इन दोनों अभियुक्तों को मामले की सुनवाई के पश्चात न्यायालय ने बुधवार को फांसी की सजा सुनाई। मामले में अभियोजन पक्ष की ओर से लोक अभियोजक विनोद प्रसाद ने 11 गवाहों का परीक्षण कराया, जबकि बचाव पक्ष की ओर से अधिवक्ता वासिफ़ बख्तावर खान ने दलीलें रखी। मनोज यादव, महेश कुमार, सरस्वती देवी, दयानंद प्रसाद यादव व सुरेश कुमार घटना के प्रत्यक्षदर्शी थे। गवाहों के बयान व अभिलेख पर उपस्थित साक्ष्यों के आधार पर न्यायालय ने मामले को रेयर ऑफ द रेयरेस्ट मानते हुए फांसी की सजा मुकर्रर की। कांड के अभियुक्त फरार हैं।

 

Source: Dainik Jagran

Leave a Reply

In The News

BJP का राज्य सरकार पर हमला, सोरेन के CM बनने के बाद अपराधिक घटनाएं बढ़ी

झारखंड बीजेपी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन पर गंभीर आरोप लगाए हैं प्रेस कॉन्फ्रेंस में भाजपा…

मां छिन्नमस्तिके के दरबार पहुँचे कृषि मंत्री, शिक्षा मंत्री के बेहतर स्वास्थ्य के लिए किया गया पूजा अर्चना

झारखंड में 8 अक्टूबर से सभी धार्मिक स्थलों को शर्तो के साथ खोल दिया गया है जिसके बाद झारखंड के…

लालू प्रसाद यादव की जमानत याचिका पर आज हाईकोर्ट में होगी सुनवाई, चारा घोटाला मामले में दोषी है लालू यादव

बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री व राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव चारा घोटाला मामले में सजायाफ्ता है स्वास्थ्य कारणों की वजह…

भीमा कोरेगांव मामले में NIA ने सामाजिक कार्यकर्ता फादर स्टेन स्वामी को हिरासत में लेकर कर रही है पूछताछ

मुंबई के पुणे में वर्ष 2018 के जनवरी महीने में भीमा कोरेगांव में एक हिंसा भड़की थी हिंसा भड़काने के…

दिवंगत मंत्री हाजी हुसैन के अंतिम दर्शन करने पहुंचे CM सोरेन, पुष्प अर्पित कर दी श्रद्धांजलि

Ranchi: मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन ने अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री हाजी हुसैन अंसारी जी के मधुपुर स्थित पैतृक गांव पिपरा में उनके…

झारखंड में कल रहेगी सरकारी छुट्टी, कल होने वाली कई परीक्षाएँ भी की गई रद्द

झारखंड सरकार में अल्पसंख्यक मामलों के मंत्री हाजी हुसैन अंसारी का शनिवार को रांची के मेदांता अस्पताल में निधन हो…

जोहार 😊

Popular Searches