कोडरमा पॉलिटेक्निक के छात्रों का सीएम हेमंत सोरेन से फरियाद, हमारी नियुक्ति करवा दीजिए सरकार

Shah Ahmad
Share on facebook
Share on twitter
Share on email
Share on pocket

WhatsApp Image 2020-02-01 at 2.20.59 PMकोडरमा जिला किसी पहचान का मोहताज नहीं है. अभ्रक नगरी के नाम से मशहूर कोडरमा पुरे देश सहित विश्व भर में अपने अभ्रक उत्पादन के लिए जाना जाता है. इसी शहर में सरकार के द्वारा चल रहा पॉलिटेक्निक महाविद्यालय है जहाँ काई विद्यार्थी तकनिकी शिक्षा प्राप्त करते है. विडंबना ऐसी है की कई छात्र तकनिकी शिक्षा प्राप्त तो कर रहे है लेकिन रोजगार का कोई साधन सरकार उपलब्ध नहीं करवा रही है.

Also Read: जानिए क्यों 1932 का खतियान झारखण्ड वासियों के लिए जरुरी

राजकीय पॉलिटेक्निक कोडरमा का शाखा ड्रिलिंग टेक्नोलॉजी के छात्रों का कहना है की राजकीय पॉलिटेक्निक कोडरमा पुरे झारखण्ड में एकमात्र ऐसा महाविद्यालय है जहाँ ड्रिलिंग टेक्नोलॉजी की पढ़ी होती थी जिसे पूर्व की रघुवर सरकार के द्वारा बंद करवा दिया गाया है साथ ही पिछले 19 सालो से राज्य सरकार के द्वारा हमारे लिए कोई नियुक्ति नहीं निकली गयी है. पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास और पूर्व के कई मंत्रियो के पास बार-बार फरियाद लगाने के बाद भी हमारी समस्या को गंभीरता से नहीं लिया गया.

WhatsApp Image 2020-02-01 at 2.21.01 PM

छात्रों ने कहा की हमें केंद्रीय भूमि जल बोर्ड,रांची से भी प्रशिक्षण प्राप्त है बावजूद इसके जल संसाधन में निकाली गयी नियुक्तिओं को पूर्व की रघुवर सरकार ने बाहरी लोगो को इन पदों पर नियुक्त किया है जिनका ड्रिलिंग से कोई सम्बन्ध नहीं है.

Also Read: अपने प्रमुख चुनावी वादे को पूरा करने के लिए हेमंत सोरेन ने बढ़ा दिए है कदम

छात्रों ने सीएम हेमंत सोरेन से की नियुक्ति प्रक्रिया को शुरू करने की मांग:

राजकीय पॉलिटेक्निक कोडरमा ड्रिलिंग शाखा के छात्रों ने 9 जनवरी को मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन से मिलकर नियुक्ति प्रक्रिया को चालू करने और स्थानीय छात्रों को प्राथमिकता देने की गुहार लगायी है. छात्रों का एक प्रतिनिधि ने मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन से मुलाकात कर कहा की हमारे जैसे लगभग 1200 छात्र है जो ड्रिलिंग की पढ़ाई करने के बाद भी बेरोजगार है. रोजगार की तलाश में हमें पलायन करना पड़ता है जहाँ दूसरे राज्यों में हमें मजदूरों की तरहा 3500 रुपये महीने के वेतन पर काम करवाया जाता है. जबकि राजस्थान की कुछ कंपनियों में 7200 वेतन दिया जाता है.

Also Read: हेमंत सरकार ने छ: आइएएस अधिकारियो को ले किया बड़ा उलटफेर – जानिये किसको कहाँ भेजा गया

IMG-20200201-WA0002-01.jpeg

छात्रों ने आगे कहा की झारखण्ड में पीएचडी, डीएमजी तथा अन्य विभागों में जो नियुक्तियां निकलती है उनमे ड्रिलिंग के छात्रों की जगह सिविल मैकेनिकल के छात्रों नियुक्त किया जाता है. इस कारण से हम रोजगार से दूर है और हमारा भविष्य अंधकार की और है. युवाओ के लिए हेमंत सरकार जिस प्रकार से ढृढ़ संकल्प हो कर निर्णय लेने की बात कर रही है उससे हमें एक उम्मीद की किरण नजर आयी है. छात्रों ने मुख्यमंत्री को एक आवेदन पत्र सौपते हुए कहा की हमें आशा है की मुख्यमंत्री जी इस पर पहल करेंगे और जल ही कोई निर्णय लेंगे छात्रों ने यह भी मांग किया की पीएचडी जैसे विभागों में जल नियुक्ति निकल कर रिक्त पदों को भरा जाये और उसमें ड्रिलिंग के छात्रों को स्वीकार करने की सरतो के साथ निकला जाये।

Also Read: एसएससी ( SSC ) ने छात्रों को दिया झटका, घटा दी गयी वैकेंसी की संख्या

Leave a Reply

In The News

CM ने कहा राज्य में फैक्ट्री लगाने वाले 75% नौकरी स्थानीय लोगों को देगे- जल्द आयेगा कानून

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन एक बड़ा बयान दिया है उन्होंने कहा है कि आने वाले विधानसभा सत्र में एक कानून लेकर…

रांची में रोजगार मेला का आयोजन, जल्दी करे रजिस्ट्रेशन- Ranchi news

कोरोना महामारी के बीच रोजगार की तलाश कर रहे युवाओं के लिए रांची जिला प्रशासन की तरफ से रोजगार मेले…

DGP एमवी राव ने की प्रेसवार्ता कहा- 300 थानों में बनेगा महिला हेल्प डेस्क

झारखंड में आए दिन महिलाओं के साथ हो रहे अत्याचार की खबरें सामने आ रही है बीते कुछ दिनों में…

Bihar Election: अगले 48 घंटे के लिए झारखंड के इन तीन जिलों में बंद हुई शराब की दुकानें

बिहार विधानसभा चुनाव के लिए अगले 24 घंटे में पहले चरण का मतदान होना है. ऐसे में झारखंड के वो…

आपसी विवाद में छोटे भाई ने की बड़े भाई हत्या, पत्थर से कुचकर ले ली जान

झारखंड के गुमला जिले अंतर्गत सदर थाना क्षेत्र के मधुबन गांव में छोटे भाई ने अपने बड़े भाई की पत्थर…

झारखंड में ठंड ने दी दस्तक, गिरने लगा है पारा

झारखंड में ठंड ने अपनी दस्तक दे दी है. मौसम विभाग के अनुसार राज्य में मानसून पूरी तरह से समाप्त…

जोहार 😊

Popular Searches