Skip to content
babulal

मानसून सत्र में खाली रहेगी नेता प्रतिपक्ष की कुर्सी, दलबदल मांगा गया है जवाब

News Desk

झारखंड कि राजनीति में दलबदल का खेल कई सालो से चलता आ रहा है. उसी कड़ी में एक बार फिर बाबूलाल मरांडी और उनके साथी रहे प्रदीप यादव व बंधू तिर्की को पर दलबदल करने का आरोप लगा है. झाविमो कि टिकट पर 2019 के विधानसभा चुनाव में जीत कर तीनो विधानसभा पहुंचे लेकिन पार्टी के सुप्रीमो बाबूलाल मरांडी ने बीजेपी में घर वापसी करने का फैसला किया परन्तु प्रदीप यादव व बधू तिर्की उनके फैसले को मानने से इंकार कर दिया और बाबूलाल के बीजेपी में घर वापसी करने के बाद दोनों ने कांग्रेस का दामन थाम लिया.

Advertisement

बीजेपी में शामिल होने के बाद बाबूलाल मरांडी को पार्टी कि तरफ से विधायक दल का नेता चुना गया और सदन में नेता प्रतिपक्ष बनाने के लिए दावा पेश किया गया लेकिन स्पीकर ने दलबदल कानून के तहत सदन में नेता प्रतिपक्ष कि अनुमति नहीं दी, जबकि निर्वाचन आयोग बाबूलाल मरांडी को बीजेपी विधायक के रूप में मान्यता दे चूका है. जबकि प्रदीप यादव और बधू तिर्की कांग्रेस का विधायक न मानते हुए निर्दलीय विधायक के रूप में मान्यता दिया है.

झारखंड सचिवालय कि तरफ से बाबूलाल मरांडी, प्रदीप यादव व बंधू तिर्की से नोटिस जारी कर 17 सितंबर तक दलबदल करने को लेकर जवाब मांगा गया था, तीनो नेताओ ने अपने जवाब देने के लिए वक्त कि मांग कि है. प्रदीप यादव व बंधू तिर्की ने जवाब देने के लिए एक सप्ताह का वक्त मांगा है तो वही बाबूलाल मरांडी ने दो सप्ताह का वक्ता मांगा है. विधानसभा सचिवालय कि तरफ से तीनो विधायको को निर्दलीय विधायक के रूप में फ़िलहाल मान्यता दी है. बाबूलाल मरांडी कि तरफ से भी विधानसभा सचिवालय को एक पत्र भेजकर नेता प्रतिपक्ष मामले में कि गई अब तक कि कारवाई का जवाब मांगा है.

बता दें कि हेमंत सरकार के पहले बजट सत्र में भी सदन के अंदर नेता प्रतिपक्ष कि कुर्सी खाली रह गई थी, वही इस बार भी मानसून सत्र के दौरान झारखंड विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष कि कुर्सी खाली रह जाएगी. बीजेपी बाबूलाल मरांडी को नेता प्रतिपक्ष बनाने के लिए लगातार हेमंत सरकार पर हमले कर रही है. वही बीजेपी कि तरफ से नेता प्रतिपक्ष के मामले को लेकर राज्यपाल को भी पत्र सौपा गया है.

Advertisement

Leave a Reply

Popular Searches