jh high court

आतंकवादी संगठन अलकायदा से जुड़ा नहीं है मौलाना का संबंध, झारखंड हाईकोर्ट से मिलीं जमानत

Arti Agarwal
Share on facebook
Share on twitter
Share on email
Share on pocket

आतंकी संगठन अलकायदा से जुड़े होने के आरोप में मौलाना कलीमुद्दीन मुजाहिद को सितंबर 2019 में गिरफ्तार किया गया था जिसके बाद से वे जेल में बंद थे. आरोप था कि वह अपने घर पर अहमद मसूद अकरम और अब्दुल रहमान जिन पर हमले के कई केस दर्ज थे उनसे मुलाकात करते थे आतंकी गतिविधियों को बढ़ावा देने के लिए गुजरात से पैसे दिए जाते थे जिसका इस्तेमाल आतंकी गतिविधियों को बढ़ाने में किया जाता था यह आरोप पुलिस ने मौलाना पर लगाते हुए यूएपीए के तहत पिछले वर्ष सितंबर महीने में जमशेदपुर के बिष्टुपुर थाना में एक मामला दर्ज किया था जिसके आधार पर कलीमुद्दीन को आरोपी बनाया गया था

Advertisement

Also Read: छठ पूजा को लेकर नया गाइडलाइन जारी अब नदी, तालाबों में कर सकते हैं छठ, मास्क और सैनीटाईजर होगा अनिवार्य

अलकायदा की गतिविधियों में शामिल होने के आरोप में मौलाना जेल में बंद थे लेकिन हाईकोर्ट ने उन्हें अब जमानत दे दी है हाईकोर्ट के जस्टिस कैलाश प्रसाद देव की अदालत ने कलीमुद्दीन की ओर से दायर जमानत याचिका पर सुनवाई करते हुए उन्हें जमानत दे दी है सुनवाई के दौरान अदालत ने कहा कि अलकायदा की गतिविधियों शामिल होने के कोई भी सबूत या फिर उसके दिए गए पैसे का कोई भी प्रमाण नहीं मिला है जिससे यह साबित हो जाए कि वह अलकायदा से जुड़ा हुआ है साथ ही अदालत ने यह भी कहा कि मौलाना कलीमुद्दीन एक मौलाना है इससे पूर्व उस पर कोई भी अपराध का मामला नहीं है साथ ही अदालत ने यह भी कहा कि पुलिस के द्वारा कोई भी ऐसा तथ्य नहीं मिला है जो यह साबित कर सके कि मौलाना कलीमुद्दीन अलकायदा जैसे संगठन से जुड़ा हुआ है

Advertisement

Leave a Reply

Share on facebook
Share on twitter
Share on pocket
Share on whatsapp
Share on telegram

Popular Searches