Skip to content
WhatsApp Image 2020-05-24 at 10.17.59 AM

ईद की तैयारी नहीं बल्कि प्रवासियों की मदद कर रहे है, कोडरमा के मुस्लिम युवा

tnkstaff

मुसलमानों का सबसे बड़ा त्योहार ईद कोरोना महामारी की वजह से फीका पड़ गया है. देश में आई विपदा और केंद्र सरकार के निर्देश के बाद कोडरमा के मुस्लिम समुदाय ने फैसला किया है की अपने घरो में ही ईद की नमाज़ पढ़ी जाएगी।

Advertisement

Also Read: गिरिडीह की छह वर्षीय बच्ची से हुए दुष्कर्म मामले को लेकर जनता में रोष, कड़ी सजा की कर रहे मांग

देश में जारी लॉकडाउन के कारण प्रवासी मजदूरों का राष्ट्रीय राजमार्ग पर लगातार आना लगा है. ऐसे में कोडरमा के मुस्लिम युवा प्रवासी मजदूरों की सेवा में दिन-रात एक करके जुटे हुए है. मुस्लिम युवाओ का कहना है की इस महामारी के समय ईद की तैयारी के बजाए हमलोग प्रवासियों की मदद करने में जुटे है. प्रत्येक दिन प्रवासियों के लिए खाद्य सामग्री का पैकेट तैयार किया जाता है और उन्हें दिया जाता है. इतने बड़े स्तर पर लोगो की मदद करने का मौका मिला है ईद में इससे बड़ा उपहार और कुछ नहीं हो सकता है.

ईद की तैयारी नहीं बल्कि प्रवासियों की मदद कर रहे है, कोडरमा के मुस्लिम युवा 1

Also Read: रेड जोन मुक्त हुई राजधानी राँची, जानिए झारखंड का कौन सा जिला है किस ग्रुप में शामिल

प्रवासियों के बीच राशन किट बाट रहे लोग रोज़े में होते है और सेहरी के बाद वो इस काम में लग जाते है. सेहरी के बाद लोग राशन किट बना कर हाईवे पर आ जाते है और NH-31 से गुजरने वाले बस, ट्रक और बाइक सवार प्रवासियों और जरूरतमंद लोगो को राशन किट देते है ताकि उनकी भूख कुछ हद तक मिट सके.

Also Read: जैक को 10वीं और 12वीं के कॉपियों के मूल्यांकन की मिली अनुमति, जानिए कब आएगा रिजल्ट

अब्दुल कलम सेवा समिति के सदस्यो का कहना है की भूखे और जरुरतमंद लोगो की मदद करना और उन्हें खाना-पानी देने कई गुणा सबाब का काम है. सेवा समिति के लोग ईद की तैयारी न करके प्रवासी मजदूरी की देवा में जुटे है. खाना और पानी का किट बना कर NH-31 से गुजरने वाले लोगो को दे रहे है.

Advertisement

Leave a Reply

Popular Searches