Skip to content
hemant soren

CM हेमंत सोरेन ने कहा- नवनियुक्त पदाधिकारी स्थानीय भाषा का ज्ञान रखें, बिचौलिए हावी न हो ध्यान रखें

tnkstaff

गांव को सशक्त करना राज्य सरकार की प्राथमिकता है। गांव सशक्त होगा तभी पंचायत, प्रखंड, जिला और राज्य मजबूत होगा। राज्य के मुखिया ने कहा कि राज्य के सभी पदाधिकारी राज्य के जड़ों में कार्य करने वाले लोग हैं। सरकार की सभी योजनाओं को विकास के मार्ग में अंतिम पायदान पर खड़े व्यक्ति तक पहुंचाना आप सभी की नैतिक जिम्मेदारी है। गांव को सशक्त करना राज्य सरकार की प्राथमिकता है। आप जहां काम करें वहां अपने कार्य के बदौलत अपना विशेष छाप छोड़े ताकि आपकी कार्यशैली से किसी का अहित न हो इसका पूरा ध्यान रखें। 

Advertisement
CM हेमंत सोरेन ने कहा- नवनियुक्त पदाधिकारी स्थानीय भाषा का ज्ञान रखें, बिचौलिए हावी न हो ध्यान रखें 1

आप सभी पदाधिकारी सरकार के विशेष और अभिन्न अंग हैं। आप हमारे आंख, कान और नाक बनकर काम करते हैं। राज्य के सर्वांगीण विकास में आपकी भूमिका महत्वपूर्ण है। ग्रामीणों का मन और विश्वास जीतकर ही सभी योजनाओं का सफल संचालन कर सकेंगे। उक्त बातें मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन ने आज झारखंड मंत्रालय के सभागार में कार्मिक, प्रशासनिक सुधार तथा राजभाषा विभाग द्वारा आयोजित प्रशासनिक क्षमता विकास पर संगोष्ठी कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहीं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि झारखंड राज्य भारत के अन्य राज्यों से काफी अलग है। हमारे राज्य में 5 प्रमंडल हैं। पांचों प्रमंडलों में कुछ ना कुछ विविधताएं हैं। झारखंड आदिवासी, दलित, पिछड़ा एवं अल्पसंख्यक बहुल राज्य है। राज्य के विभिन्न प्रकार के अलग-अलग भौगोलिक वातावरण , संस्कृति तथा भाषा के अनुसार व्यवस्थाओं को सुदृढ़ करते हुए आगे बढ़ने की आवश्यकता है। मुख्यमंत्री ने कहा कि आप सभी पदाधिकारी यहां की स्थानीय भाषा की जानकारी रखें। भाषा की जानकारी के अभाव में बिचौलिया हावी न हो इसका ख्याल रखें।

मुख्यमंत्री ने कहा कि सर्वजन पेंशन योजना का लाभ पात्रता रखने वाले समाज के प्रत्येक तबका के प्रत्येक लोगों को मिलना सुनिश्चित करना हमारी सरकार की जिम्मेदारी है और आप सभी पदाधिकारी गण इस राज्य की सरकार के हाथ और पैर हैं मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारी सरकार गरीब ,किसान और असहाय लोगों के प्रति संवेदनशील है इन सभी लोगों को इससे जुड़े सरकारी योजनाओं का लाभ अवश्य रूप से मिलने की सुनिश्चितता करना आप सभी पदाधिकारियों की नैतिक जिम्मेदारी है। योजनाओं के लाभ से उनका जीवन सुदृढ़ और खुशहाल हो पाएगा तभी हमारे सपनों का झारखंड बन पाएगा।

बता दें कि मुख्यमंत्री ने अपने संभाषण में कहा कि हमारे राज्य के नौजवानों में अपार योग्यता और इच्छा शक्ति है यही कारण है कि विभिन्न क्षेत्रों में यहां के नौजवान संसाधनों के अभाव में भी राज्य का नाम रोशन कर रहे हैं आज खेल के क्षेत्र में यहां के बच्चे देश-विदेश के बड़े-बड़े स्टेडियम में अपना परचम लहरा रहे हैं तीरंदाजी, हॉकी और क्रिकेट में अपने आप को लोहा मनवाने का काम झारखंड खिलाड़ियां ने किया हैं।
बता दें कि इस बार यूपीएससी की फाइनल परीक्षा में झारखंड के 25 नौजवानों ने सफलता प्राप्त किया और शिक्षा के क्षेत्र में भी नया कीर्तिमान गढ़ने का काम कर रहा है

झारखंड राज्य में 42% खनिज संपदा मौजूद है साथ ही साथ यहां के नौजवान और लोग मेहनती हैं। हमारे पास सौंदर्य प्राकृतिक वातावरण है इन सभी अपार पहलुओं से हम समन्वय स्थापित कर राज्य को पूरे देश और दुनिया के मानस पटल पर अव्वल दर्जा पर स्थापित करें सकते हैं बशर्ते हमारे नीति कार योजना जन भावनाओं के अनुरूप होना अनिवार्य होना चाहिए। इन 20 वर्षों में झारखंड ने पहली बार नीति नियम और कानून को सुदृढ़ रूप से जनता के बीच में लाया है जो यहां के लोगों के निर्माण में मदद कर रही है।


मुख्यमंत्री ने कहा 2020 के वैश्विक महामारी करोना संक्रमण में बड़ी ही सूझबूझ के साथ सीमित संसाधनों के बावजूद हमने शरीफ संभालने का सफल प्रयास किया अपने और प्रदेश के लोगों को उनके घरों तक सुरक्षित पहुंचाने का काम किया। जैसे-जैसे परिस्थितियों अनुकूल हो रहा है वैसे -वैसे सरकारी नियुक्तियों में तेज गति आ रही है। 32 साल बाद कृषि पदाधिकारी और राज्य गठन होने के बाद पहली बार विधि विज्ञान प्रयोगशाला में सहायक निदेशक/वरीय वैज्ञानिक एवं वैज्ञानिक सहायकों की नियुक्ति हुई है। हमारी सरकार निरंतर सरकारी रिक्तियों को भरने की तैयारी कर रही है और बहुत जल्द नियुक्तियों कार्य करेगी। हम ऐसा कोई कारण नहीं छोड़ना चाहते हैं ताकि हमारा राज्य पीछे रहे ।
ग्रामीण विकास मंत्री आलमगीर आलम ने इस अवसर पर उपस्थित पदाधिकारियों को बधाई शुभकामनाएं देते हुए कहा कि उन्होंने कोरोना संक्रमण काल के दौरान वर्ष 2020 में नियुक्त इन सभी पदाधिकारियों द्वारा किए गए विकास कार्यों एवं त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव को शांतिपूर्ण तरीके से संपन्न कराने की कार्यशैली को सराहना किया। मंत्री श् आलमगीर आलम ने सभी पदाधिकारियों से कहा कि आप सभी लोग अपने-अपने प्रखंड एवं कार्यक्षेत्र में ही मजदूर तथा जरूरतमंदों को रोजगार देना सुनिश्चित करें। राज्य से मजदूरों का पलायन न हो इसका ख्याल रखें। उन्होंने कहा कि आप सभी पदाधिकारी ऐसा काम करें कि आम जनता आपको याद रखें आपके कामों की तारीफ करे। 

इस अवसर पर मुख्य सचिव सुखदेव सिंह ने सभागार में उपस्थित सभी पदाधिकारियों से अपने अनुभव साझा किए। उन्होंने कहा कि आप सभी पर ईश्वर का वरदान है कि आप जन सेवा के कार्यों के लिए नियुक्त हुए हैं। ईश्वरीय वरदान का अपमान न हो इसका ध्यान रखें। अपने पद का उपयोग कर दूसरे को परेशान कतई न करें। आम जनता के लिए 24 घंटे उपलब्ध रहें। आप ऐसा काम करें कि भविष्य में आम जनता से आपकी तारीफ सुनकर हमारा सीना गर्व से चौड़ा हो। उन्होंने कहा कि पद को स्वयं से अलग रखें। उन्होंने सभी पदाधिकारियों को उज्जवल भविष्य की शुभकामनाएं और बधाई दीं।

इस अवसर पर मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन के समक्ष वर्ष 2020 में नियुक्त हुए झारखंड प्रशासनिक सेवा के अधिकारियों ने अपने कार्य अनुभव साझा किए। मौके पर प्रखंड विकास पदाधिकारी (डुमरी प्रखंड) सुश्री एकता वर्मा, प्रखंड विकास पदाधिकारी (गुड़ाबांधा प्रखंड) सुश्री स्मिता नगेशिया, प्रखंड विकास पदाधिकारी (बरही प्रखंड) सुश्री क्रिस्टीना रिचा इंदवार, कार्यपालक दंडाधिकारी (गढ़वा) श्री अशोक कुमार भारती ने अपने-अपने प्रखंड क्षेत्र में कोरोना संक्रमण के प्रभाव के समय परिस्थितियों के बावजूद आम जनता को जागरुक करते हुए किए  गए विकास कार्य, अनुभव एवं सुझाव से मुख्यमंत्री को अवगत कराया।

इस अवसर पर ग्रामीण विकास मंत्री आलमगीर आलम, मुख्य सचिव सुखदेव सिंह, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव राजीव अरुण एक्का, कार्मिक, प्रशासनिक सुधार तथा राजभाषा विभाग की प्रधान सचिव वंदना डाडेल, मुख्यमंत्री के सचिव विनय कुमार चौबे, ग्रामीण विकास विभाग के सचिव डॉ मनीष रंजन, वर्ष 2020 में नियुक्त झारखंड प्रशासनिक सेवा के सभी पदाधिकारी सहित अन्य उपस्थित थे।

Advertisement

Leave a Reply