pratul sahdeo

छात्रवृत्ति फर्जीवाड़े पर प्रतुल शहदेव ने रखा पक्ष कहा, पिछली सरकार में भ्रष्टाचार के प्रति जीरो टॉलरेंस था

Shah Ahmad
Share on facebook
Share on twitter
Share on email
Share on pocket

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने दुमका उपचुनाव में चुनाव प्रचार के आखिरी दिन प्रेस कॉन्फ्रेंस कर पूर्व की रघुवर सरकार के दौरान छात्रवृत्ति में वह घोटाले को लेकर पूर्व मंत्री लुईस मरांडी पर बड़ा आरोप लगाया था मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने अपने प्रेस कॉन्फ्रेंस में एक बड़े फर्जीवाड़े को लेकर पूर्व की रघुवर सरकार पर आरोपों की झड़ी लगा दी थी इसी कड़ी में भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता प्रतुल शाहदेव ने बुधवार को प्रदेश कार्यालय में प्रेस कॉन्फ्रेंस कर पूर्व की रघुवर सरकार के पक्ष में बातें रखी है प्रतुल शाहदेव ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा कि पूर्व की रघुवर सरकार में भ्रष्टाचार के विरुद्ध जीरो टॉलरेंस की नीति पर काम किया गया है जिस फर्जीवाड़े के बारे में मुख्यमंत्री भाजपा पर आरोप लगा रहे हैं उसकी जानकारी मिलने के बाद उस वक्त के तत्कालीन मुख्यमंत्री रघुवर दास के दिशा निर्देश पर मामले की जांच भी करवाई गई थी.

Advertisement

प्रतुल ने अपने इस कांफ्रेंस में कहा कि राज्य के भीतर फर्जीवाड़े की जानकारी मिलने के बाद नोडल पदाधिकारियों के साथ मिलकर विभाग ने मामले की गहन जांच की जिसमें 46000 संस्थाओं में से 3100 संस्थाओं को ही योग्य मानते हुए उन्हें भुगतान किया गया था. प्रतुल शाहदेव ने मुख्यमंत्री द्वारा लगाया गया बयान पर कहा कि सीएम ने जानबूझकर चुनाव के 1 दिन पूर्व इस मुद्दे को उठाया ताकि उनको राजनीतिक लाभ मिल पाए परंतु पूर्व की सरकार नहीं इसे रोकने का कार्य किया गया था उन्होंने कहा कि हेमंत सोरेन को यह भी बताना चाहिए कि उनके 10 महीने के कार्यकाल में इस फर्जीवाड़े को रोकने के लिए क्या कदम उठाए गए हैं.

क्या है डीबीटी छात्रवृत्ति फर्जीवाड़ा:

डीबीटी के माध्यम से अल्पसंख्यक छात्रों को प्री मैट्रिक पोस्ट मैट्रिक के आधार पर छात्रवृत्ति का भुगतान किया जाता है केंद्र सरकार के अल्पसंख्यक मंत्रालय की आधिकारिक वेबसाइट पर इसे लेकर फॉर्म भी भरे जाते हैं लेकिन संस्थाओं के द्वारा इस छात्रवृत्ति को प्राप्त करने में भारी फर्जीवाड़ा किया जाता है छात्रवृत्ति की रकम आवेदक के पास पहुंचने के बाद कई संस्थाओं के द्वारा उनसे आधी रकम वसूली जाती है छात्रवृत्ति 10700 रुपए आती है जिसमें से आधा पैसा बिचौलिए ले लेते हैं इस प्रकार से भ्रष्टाचार को बढ़ावा छात्रवृत्ति के रूप में दिया जा रहा

Advertisement

Leave a Reply

Share on facebook
Share on twitter
Share on pocket
Share on whatsapp
Share on telegram

Related News

Popular Searches