Categories
झारखंड

आदिवासी संगठनों के द्वारा सरना धर्म कोड की मांग को लेकर, केंद्र सरकार के खिलाफ आज करेंगे रेल-रोड चक्का जाम

झारखंड एक आदिवासी बाहुल्य राज्य है जिस वजह से यहां लगातार जनगणना में अलग धर्म कोड की मांग को लेकर आवाजें उठती रही है. झारखंड में कई सरकारें आई और गई परंतु इस तरफ किसी का भी रुख नहीं रहा. साल 2019 में हेमंत सोरेन की सरकार बनने के बाद आदिवासी संगठनों के द्वारा लगातार दबाव बनाया गया.

Advertisement

आदिवासी संगठनों के द्वारा लगातार बनाए गए दबाव को देखते हुए झारखंड कि हेमंत सोरेन सरकार ने विधानसभा का विशेष सत्र बुलाकर विधानसभा से सरना आदिवासी धर्म कोर्ट के प्रस्ताव को पारित करके केंद्र सरकार के पास भेज दिया गया है. राज्य सरकार की तरफ से प्रस्ताव भेजने के बाद उस पर अंतिम फैसला केंद्र सरकार को लेना है. परंतु फैसला लेने में हो रही देरी को देखते हुए झारखंड के आदिवासी संगठनों के द्वारा केंद्र सरकार से अपनी मांग मनवाने के लिए समय-समय पर आंदोलन किए जा रहे हैं.

Also Read: CM हेमन्त सोरेन ने बनहोरा में टाना भगत अतिथि गृह का किया उद्घाटन, प्रत्येक वर्ष वस्त्र के लिये दो हजार रुपये सरकार देगी

 सरना कोड की मांग को लेकर रविवार 31 जनवरी को आदिवासी संगठनों के द्वारा रेल-रोड चक्का जाम किया जाएगा. इसको लेकर विभिन्न आदिवासी संगठनों के द्वारा शनिवार 30 जनवरी को राजधानी रांची में मशाल जुलूस अल्बर्ट एक्का चौक में निकाला गया. जिसमें अखिल भारतीय आदिवासी विकास परिषद, आदिवासी सेंगेल अभियान और केंद्रीय सरना समिति के लोग शामिल थे. समिति के अध्यक्ष फूलचंद तिर्की का कहना है कि हर हाल में आदिवासी 2021 में जनगणना में सरना धर्म कोड चाहते हैं. परंतु केंद्र सरकार आदिवासियों को धर्म कोड देना नहीं चाहती है इसलिए यह चक्का जाम किया जाएगा. 

Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *