Skip to content
Advertisement

Bharat Jodo Yatra: भारत जोड़ो यात्रा को मिला झामुमो का समर्थन, मंत्री मिथिलेश इंदौर में लेंगे यात्रा में भाग

Advertisement
Bharat Jodo Yatra: भारत जोड़ो यात्रा को मिला झामुमो का समर्थन, मंत्री मिथिलेश इंदौर में लेंगे यात्रा में भाग 1

Ranchi: कॉंग्रेस की भारत जोड़ो यात्रा( Bharat Jodo Yatra

Advertisement
Advertisement
) में अब झारखंड की सबसे बड़ी पार्टी झारखंड मुक्ति मोर्चा (झामुमो) ने भी भागीदारी दिखानी शुरू कर दी है. प्रदेश कांग्रेस कमिटी के अध्यक्ष राजेश ठाकुर के नेतृत्व में 50 लोगों का जत्था आज सुबह रांची के बिरसा मुंडा एयरपोर्ट से इंदौर के लिए रवाना हुआ. इसमें झामुमो नेता सह सरकार में मंत्री मिथिलेश ठाकुर भी कांग्रेसी नेताओं के साथ इंदौर रवाना हुए. जाने वाले जत्थे में कांग्रेस विधायक दल के नेता आलमगीर आलम, भारत जोड़ो यात्रा के प्रदेश संयोजक सुबोधकांत सहाय, कार्यकारी अध्यक्ष जलेश्वर महतो, शहजादा अनवर, मंत्री बन्ना गुप्ता, बादल पत्रलेख, विधायक प्रदीप यादव, कुमार जयमंगल (अनुप सिंह), अंबा प्रसाद, रामचन्द्र सिंह, शिल्पी नेहा तिर्की आदि शामिल हैं.

झारखंड के कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष राजेश ठाकुर ने कहा कि भारत जोड़ो यात्रा( Bharat Jodo Yatra) भारत कार्यक्रम को अपार जन-समर्थन प्राप्त हुआ है. इसमें किसानों, मजदूरों, युवाओं, माताओं, बहनों, छोटे व्यवसायियों, खिलाड़ियों, कलाकारों ने समय-समय पर यात्रा में अपनी भागीदारी निभायी है. उन्होंने कहा कि आज जिस प्रकार से राजनैतिक स्वार्थ पूर्ति के लिए देश के अन्दर नफरत की राजनीति को बढ़ावा दिया जा रहा है. मंहगाई और बेरोजगारी जैसे महत्वपूर्ण सवालों को गौण रखकर लोगों को गुमराह करने का प्रयास किया जा रहा है. प्रतिपक्ष की लोकतांत्रिक तरीके से चुनी हुई सरकारों को अपदस्थ करने की नीयत से संवैधानिक संस्थाओं और केन्द्रीय एजेंसियों का दुरूपयोग करने से परहेज नहीं किया जा रहा है. इससे आम जनता में काफी रोष है. यही कारण है कि देश की आम जन-मानस का अपार जनसमर्थन इस यात्रा को प्राप्त हो रहा है. इंदौर से लौटने के बाद प्रदेश कांग्रेस शुरू करेगी यात्रा का पांचवां चरण.

बता दें कि राहुल गांधी के नेतृत्व में दो महीने पूर्व भारत जोड़ो यात्रा की शुरूआत कन्याकुमारी में हुई थी. अब तक तकरीबन 2300 किमी की यात्रा तमिलनाडु, केरल, आंध्रप्रदेश, तेलंगाना, महाराष्ट्र होते हुए मध्य प्रदेश पहुंची है. यह यात्रा कुल 3570 किमी की है, जो बारह राज्यों और दो केन्द्र शासित प्रदेशों से होकर गुजरेगी.