Rajrappa tempal sweeper

रजरप्पा मंदिर के सफाई कर्मियों को नहीं मिल रहा है मानदेय, 10 महीनों का है बकाया

Arti Agarwal
Share on facebook
Share on twitter
Share on email
Share on pocket

रजरप्पा मंदिर परिसर की सफाई में लगी 25 सफाई कर्मियों को पिछले 10 माह से उनका मानदेय नहीं मिला है जिसकी वजह से उनके सामने रोजी-रोटी का संकट आ गया है एक तरफ मानदेय नहीं मिला तो दूसरी तरफ कोरोनावायरस के कारण उनके जीवन शैली पर काफी बुरा प्रभाव पड़ा है जिला प्रशासन भी इस ओर ध्यान नहीं दे रहा है जिसके विरोध में अपनी बातों को प्रशासन तक पहुंचाने के लिए सफाई कर्मियों ने सोमवार को कार्य को बंद कर अपना विरोध दर्ज करवाया है

Advertisement

सफाई कर्मियों में अत्यधिक संख्या महिलाओं की है सफाई कार्य बाधित होने के कारण मंदिर परिसर में आने जाने वाले श्रद्धालुओं को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा है सफाई कर्मियों का कहना है कि कोरोनावायरस के कारण पूरे देश में आर्थिक स्थिति उत्पन्न हो चुकी है परंतु इन सब के बावजूद हम कार्य कर रहे हैं लोग डाउन के दौरान भी मंदिर परिसर में सफाई का कार्य करते आ रहे हैं लेकिन झारखंड सरकार के पर्यटन विभाग के द्वारा फंड नहीं दिया जा रहा है

10 माह से बकाया है मानदेय, प्रशासन नहीं दे रहा ध्यान:

सफाई कर्मियों का कहना है कि पिछले जनवरी महीने से अब तक हमें वेतन नहीं दिया गया है वेतन नहीं मिलने के कारण हमें काफी समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है पैसे के अभाव के कारण भुखमरी की स्थिति उत्पन्न हो चुकी है लेकिन प्रशासन इस ओर जरा भी ध्यान नहीं दे रहा है सफाई कर्मियों ने चेतावनी देते हुए कहा है कि यदि हमारी मांग जल्द पूरी नहीं की जाती है तो हम आंदोलन करने के लिए बाध्य होंगे

आंदोलन कर रही महिलाओं का कहना है कि पूर्व में भी हमें काफी समस्याओं का सामना करना पड़ा है पूर्व में महिलाओं को ठेकेदारों के द्वारा वेतन दिया जाता था परंतु ठेकेदार के द्वारा समय पर वेतन नहीं दिया जाता था इसका विरोध करने के बाद पर्यटन विभाग के द्वारा अस्थाई किया गया लेकिन फंड नहीं दिया गया है जिस वजह से जनवरी महीने से अब तक हमें वेतन नहीं मिला है जिस कारण हम लोगों के समझ भुखमरी की स्थिति उत्पन्न हो चुकी है

Advertisement

Leave a Reply

Share on facebook
Share on twitter
Share on pocket
Share on whatsapp
Share on telegram

Popular Searches