Skip to content
bond paper

1 रूपये में जमीन की रजिस्ट्री बंद, हेमंत सरकार ने वापस लिया फैसला, जानिए आखिर क्यों हुआ ऐसा

tnkstaff

झारखण्ड की पूर्व की भाजपा सरकार या यूँ कहे रघुवर सरकार ने जो 1 रूपये में महिलाओं के नाम रजिस्ट्री का जो कानून लाया था उसे निरस्त कर दिया गया है. रघुवर सरकार ने झारखंड में एक रुपये में महिलाओं के नाम पर 50 लाख तक की अचल संपत्ति की रजिस्ट्री होने का कानून बनाया था. लेकिन तत्कालीन हेमंत सरकर ने इसे वापस ले लिया है. अब एक रुपये में महिलाओं के नाम पर 50 लाख तक की अचल संपत्ति की रजिस्ट्री नहीं होगी।

Advertisement

Also Read: प्रवासी श्रमिकों को हवाई जहाज से लाने के लिए गृह मंत्रालय से मांगी गयी अनुमति- हेमंत सोरेन

इसलिए लिया गया फैसला:

कोरोना के कारण पैदा हुए आर्थिक संकट के कारण सरकार ने यह फैसला लिया है. सरकार ने निबंधन कार्यालयों में एक दिन में अधिकतम 40 रजिस्ट्रेशन की सीमा निर्धारित की है. इससे जुड़ी अधिसूचना जारी कर दी गई है.

Also Read: हेमंत सरकार कोरोना से लड़ने के लिए नई रणनीति बना रही है, 56 ट्रेनों से घर आएंगे प्रवासी

अधिसूचना में कहा गया है कि 19 जून 2017 को भू-राजस्व विभाग ने दो आदेश जारी किये थे. इन आदेश के मुताबिक 50 लाख की संपत्ति महिलाओं के नाम पर लेने से मात्र एक रुपया शुल्क देना पड़ता था. राज्य सरकार 15 मई 2020 को जारी आदेश से इसे वापस ले रही है. अब महिलाओं के नाम पर भी संपत्ति लेने पर रजिस्ट्रेशन के लिए पूरा भुगतान करना पड़ेगा.

Also Read: दिल्ली में सभी राज्यों के भवन फिर भी दर-दर की ठोकरे खा रहे मजदूर और गरीब- अज़ीज़-ए-मुबारकी

बता दें कि पिछली रघुवर सराकर के बड़े फैसलों में से यह एक था. इसे वापस लिये जाने पर पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा कि महिला सशक्तिकरण विरोधी हेमंत सरकार ने एक रुपये में रजिस्ट्री योजना बंद करने का जो निर्णय लिया है, यह निंदनीय है. महिलाओं को आर्थिक और सामाजिक रूप से सशक्त करने के लिए 50 लाख रुपये तक की संपत्ति के निबंधन पर एक रुपये का शुल्क निर्धारित किया गया था. वर्तमान सरकार ने इसे बंद कर अपना महिला सशक्तिकरण विरोधी चरित्र उजागर किया है. यह सरकार जनविरोधी नीतियों के लिए जानी जायेगी.

Also Read: झारखंड में हुआ IAS अधिकारियो का तबादला, जानिए किस IAS अधिकारी को मिला कौन सा विभाग

रघुवर दास ने ट्वीट कर कहा की राजस्व वसूली के और भी कई उपाय हो सकते हैं. किसान विरोधी इस सरकार ने कृषि आशीर्वाद योजना भी बंद कर दी है. आखिर किसान, महिला समेत आम लोगों के साथ ऐसा सलूक क्यों?

Advertisement

Leave a Reply

Popular Searches