Share on facebook
Share on twitter
Share on pinterest
Share on email
Share on print
Share on whatsapp
Share on telegram

रघुवर दास के शासन कल में सीएम के प्रधानसचिव रहे सुनील बर्णवाल की मुश्किलें बढ़ने वाली है. हालांकि सुनील बर्णवाल अब प्रधानसचिव के पद पर नहीं है. सुनील बर्णवाल के खिलाफ कोर्ट में शाही नमक किसी व्यक्ति ने पीआईएल दाखिल किया है जिसमें ये आरोप लगा गया है की प्रधानसचिव और खनन सचिव रहते सुनील बर्णवाल ने अपने पद का गलत इस्तेमाल किया है

पीआईएल दाखिल करने वाले ने सुनील बर्णवाल पर आरोप लगाया है की प्रधानसचिव रहते हुए सुनील बर्णवाल ने अपनी पत्नी ऋचा संचिता, ससुर और रिश्तेदारो को सरकारी पदों पर रखा था. सुनील बर्णवाल पर पत्नी ऋचा संचिता को सरकारी वकील बनाने का आरोप है. तो वही खनन मामलो में जुड़े कई निजी कंपनियों में रिश्तेदारों को सलाहकार के पद पर रखने का आरोप है, तो वही एक सरकारी आवास पर एक निजी कार्यालय खोलने का आरोप है.

Also Read: सरयू राय ने सीएम हेमंत सोरेन को दी सलाह झारखण्ड का बकाया पैसा वसूलने को कहा

दाखिल पीआईएल में कहा गया है की खनन सचिव रहते सुनील बर्णवाल ने अपने प्रभाव से ससुर त्रिपुरारी प्रसाद बर्णवाल को जेएसपीसी का चेयरमैन बनाने का आरोप है. इन्हे सब आरोप को लेकर पूर्व प्रधानसचिव सुनील बर्णवाल के खिलाफ कोर्ट में जनहित याचिका दाखिल की गयी है.

Also Read: बाबूलाल मरांडी से जुडी बड़ी खबर, जानिए किस दिन भाजपा के हो सकते है बाबूलाल मरांडी

मामूल हो की हेमंत सोरेन की सरकार बनने के बाद कई अधिकारियो का तबादला एक विभाग से दूसरे विभाग में कर दिया गया है तो वही सुनील बर्णवाल जैसे भ्रष्टाचार के आरोपों में अधिकारियो पर गाज गिरने वाली है जिसके लिए सरकार की और से कड़े कदम भी उठाये जा सकते है

Leave a Reply