Skip to content
EVO1mxBUMAADoga

सर्वदलीय बैठक में बोले सीएम “जो लोग रोग छुपा रहे हैं, वे मौत को दावत दे रहे हैं”

Shah Ahmad

पिछले तीन दिनों में झारखण्ड में कोरोना पॉजिटिव की संख्या में काफी तेजी आयी है. जहाँ कुछ दिनों तक राज्य भर में सिर्फ 4 कोरोना पॉजिटिव मरीज थे तो 24 घंटे में ये आंकड़ा बढ़ कर 14 तक पहुंच गया है. तो वही गिरिडीह जिला में कोरोना से मौत का मामला भी सामने आ चूका है. ऐसे में सरकार इसे रोकने के लिए क्या कदम उठा रही है इसपर सबकी निगाहे टिकी हुई है.

Advertisement

Also Read: होटवार जेल में भिड़े झारखण्ड के दो पूर्व मंत्री योगेंद्र साव और एनोस एक्का

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने सर्वदलीय बैठक की जिसमे विभिन्न राजनितिक दलों के नेता मौजूद रहे. बैठक में उन्होंने सभी दलों के नेताओं से पूछा कि इस संकट से उबरने के लिए सरकार को क्या करना चाहिए. उन्होंने सरकार की तैयारी से भी सभी दलों के नेताओं को अवगत कराया. वह राज्य के सांसदों और विधायकों के साथ भी बैठक करेंगे. बैठक में कोरोना वायरस से उत्पन्न स्थिति की समीक्षा करेंगे. इस दौरान लॉकडाउन को आगे बढ़ाने पर भी विचार हो सकता है. संकट की इस घड़ी में सरकार एक साथ कई मोर्चे पर काम कर रही है. एक ओर लोगों को स्वस्थ रखने के लिए पूरे शहर को सैनिटाइज किया जा रहा है, तो दूसरी तरफ लोगों का हक मारने वाले जन वितरण प्रणाली के दुकानदारों के खिलाफ कार्रवाई भी की जा रही है. लॉकडाउन को सफल बनाने के लिए भी सरकार और उसके तंत्र को काफी मशक्कत करनी पड़ रही है.

Also Read: गुमला: मुस्लिमों द्वारा थूककर कोरोना फैलाने की अफवाह के बाद हुई झड़प में युवक की मौत

बैठक में सीएम हेमंत सोरेन ने ये साफ़ किया की समस्या उत्पन्न करने वाले असामाजिक तत्वों पर कार्यवाही की जाएगी। लॉकडाउन खत्म होने के बाद अन्य राज्यों में फंसे तक़रीबन 7 लाख लोग झारखण्ड वापस आएंगे। ऐसे में कोरोना विकराल रूप ले सकता है. उन्होंने कहा कि जो लोग रोग छुपा रहे हैं, वे मौत को दावत दे रहे हैं. ऐसे लोग जांच करवाने के लिए आगे आयें.

Also Read: चीन ने झारखंड के लड़कों की मदद से 10 दिन में तैयार किया था अस्पताल, अब करना चाहते हैं ये भारत की मदद

कोरोना वायरस संक्रमण के बीच तबलीगी जमात के बारे में फेसबुक पर टिप्पणी करने वाले रामगढ़ के शिक्षा पदाधिकारी को कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है. उनसे सात दिन के अंदर जवाब देने के लिए कहा गया है. उनकी टिप्पणी को संप्रदायिक सौहार्द बिगाड़ने का प्रयास माना गया है. कहा गया है कि यदि तय समय के भीतर उन्होंने जवाब नहीं दिया, तो उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जायेगी.

Advertisement

Leave a Reply

Popular Searches