Share on facebook
Share on twitter
Share on pinterest
Share on email
Share on print
Share on whatsapp
Share on telegram

राज्य के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने 29 दिसंबर को मुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी. जिसके बाद से झारखण्ड भर से धीरे-धीरे लोग ट्विटर पर लोग मुख्यमंत्री को अपनी मुश्किलों को बताने लगे थे जिसके बाद शिकायत करने वाले लोगो की समस्या को मुख्यमंत्री ने गंभीरता से लेते हुए जिले के उपायुक्त और सम्बंधित विभाग को निर्देश देते नजर आये है.

एक के बाद एक जब लोगो की समस्याओ का समाधान ट्विटर के माध्यम से होने लगा तो कई लोगो ने सीएम को ट्विटर के जरिये अपनी परेशानियों को बताने लगे जिसके बाद उनकी समस्याओ का समाधान भी हो रहा है. राशन कार्ड, पेयजल, सड़क, बेहतर इलाज जैसी मुलभूत समस्याओ को जनता सीएम तक पंहुचा रहे है और मुख्यमंत्री उनका समाधान भी कर रहे है.

Also Read: रघुवर सरकार में प्रधान सचिव रहे सुनील बर्णवाल की बढ़ी मुश्किलें, कोर्ट में PIL दाखिल

ताज़ा मामला देवघर और रांची का है. ट्विटर पर एक व्यक्ति ने मुख्यमंत्री को शिकायत करते हुए कहा की वाहन चेकिंग के दौरान एक व्यक्ति के पास हेलमेट नहीं था और चेकिंग में लगे हवलदार ने उससे रिश्वत मांगी। इसका वीडियो ट्विटर पर पोस्ट की गयी जिसके बाद मुख्यमंत्री ने संज्ञान लेते हुए देवघर उपायुक्त और देवघर पुलिस को मामले की जाँच करने को कहा जीसके कुछ ही घंटो बाद देवघर उपायुक्त और देवघर पुलिस का रिप्लाई आया की मामले में दोषी पाए गए हवलदार को सस्पेंड कर दिया गया है.

तो वही दूसरा मामला रांची का है जहाँ बूँटी मोड के पास शहर में जलापूर्ति करने वाला पाइप के फट जाने से सड़क पर काफी समय से बह रह था जिसे देख किसी ने सीएम को ट्विटर पर बताया जिसके बाद मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने उपायुक्त रांची को निर्देश दिया की फटे हुए पाइप को जल्द ठीक करे. सीएम के निर्देश के कुछ ही घंटे के बाद रांची उपायुक्त ने सीएम को रिप्लाई करते हुए फटे हुए पाइप की मरम्मत कर ठीक करने की जानकारी दी

हेमंत सोरेन जिस प्रकार से ट्विटर पर जनता की समस्या को सुन रहे है और उसके समाधान कर रहे है उसे देख झारखण्ड ही नहीं बल्कि पुरे भारत में लोग मुख्यमंत्री की प्रशंसा कर रहे है.

Leave a Reply