BIT सिंदरी के तीन छात्रों ने बनाया कोरोना से संक्रमित व्यक्ति का पता लगाने वाला बैंड

Share on facebook
Share on twitter
Share on email
Share on telegram
Share on reddit

सिंदरी स्थित बिरसा इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी के तीन छात्रों ने ऐसा रिस्ट बैंड बनाया है जो कोरोना से संक्रमित व्यक्ति का इतिहास सिर्फ पांच सेकेंड में सरकार तक पहुंचा सकता है। यह उपकरण संक्रमण रोकने में कारगर साबित हो सकता है। संक्रमित किन लोगों से मिला, अभी तक तकनीक के जरिए यह पता लगाना संभव नहीं हो सका है। ऐसे इंसान से पूछताछ के आधार पर ही उसके संपर्क में आए लोगों की खोज हो सकती है। मगर, महज 450 रुपये का यह रिस्ट बैंड कोरोना चेन तोडऩे में मददगार होगा।

उपकरण बनाने वाले अनिकेत कुमार, अभिनीत मिश्रा और अमरदीप कुमार ने बताया कि इसे बनाने में सिर्फ 500 रुपये लगे। बड़े स्तर पर बनाने में 450 रुपये खर्च होंगे। दावा है कि भारत सरकार सहयोग करे तो 22 दिन में संक्रमित 75 शहरों को कवर किया जा सकेगा। अनिकेत और अमरदीप मैकेनिकल इंजीनियरिंग कर चुके हैं, अभिनीत बीटेक तृतीय वर्ष के छात्र हैं। सभी कोर ब्रांच के साथ इलेक्ट्रॉनिक्स भी पढ़ रहे हैं। अनिकेत की टीम रोवोक्वॉड ने इसका नाम द विसिनिटी बैंड रखा है। विसिनिटी का मतलब है- पास, पड़ोसी या नजदीकी।

रिस्ट बैंड ब्लू टूथ और जीपीएस की सहायता से काम करता है। इसमें टू जी, थ्री जी या फोर जी सिम लगाते हैं। हर बैंड की एक आइडी होती है। इसे जिसे पहनाया जाएगा, उसका आधार लिंक इससे जुड़ा होगा। सामने वाले की सारी जानकारी इस बैंड को ऑपरेट करने वाले सेंट्रल सर्वर यानी क्लाउड में स्टोर रहेगी। मान लीजिए कि धनबाद में यह रिस्ट बैंड सभी को दे दिया गया। इस शहर के एक व्यक्ति में कोरोना के लक्षण मिलते हैं। वह कई लोगों से मिल चुका है। वह डेढ़ मीटर या उससे कम के दायरे में जिस-जिससे मिलेगा, उसका रिस्ट आइडी से सारा डाटा क्लाउड में स्टोर हो जाएगा। रिस्ट बैंड में थर्मल सेंसर लगा होगा जो तापमान के सहारे निर्धारित दायरे में ऑब्जेक्ट के आते ही उसे पहचान लेगा। विद्युत चुंबकीय तरंगों के जरिए क्लाउड सर्वर में सारी जानकारी जमा हो जाएगी।

बैंड उतारा तो स्थानीय प्रशासन को जाएगी सूचना

कोरोना वायरस के खत्म होने के बाद ही इसे उतारा जा सकेगा। इससे पहले कलाई से उतारा या काटने की कोशिश की तो सिम के माध्यम से प्रशासन तक इसका संदेश चला जाएगा। हर बैंड की आइडी की जानकारी स्थानीय प्रशासन के पास होगी। इसे पहनकर स्नान व दिनचर्या के अन्य काम भी आसानी से कर सकते हैं।

कोरोना वायरस बहुत की संवेदनशील मुद्दा है। छात्रों ने बढिय़ा डिवाइस बनाई है। हालांकि इसका टेस्ट होना बाकी है। यह सफल होता है तो भविष्य में हर महामारी को रोका जा सकेगा।

via: DJ

Leave a Reply

In The News

रिम्स की व्यवस्था से हाईकोर्ट नाराज़ कहा, सलाना मिलने वाले 100 करोड़ का क्या किया जाता है

झारखंड हाईकोर्ट ने रिम्स की व्यवस्था को लेकर एक बार फिर सवाल पूछा है। अदालत ने रामरस में डॉक्टर और…

Oppo ने F17 और F17pro को किया है लॉन्च, जानिए कीमत, बनावट और उससे जुड़ी तमाम जानकारी

Oppo F17 स्मार्टफोन 2 सितंबर 2020 को लॉन्च किया गया है। साथ ही ओप्पो 17 pro भी लॉन्च किया गाया…

मानसून सत्र शुरू होते ही भाजपा विधायक ने हाथों में तख्ता लेकर राज्य सरकार का जताया विरोध

झारखंड विधानसभा का मानसून सत्र आज 18 सितंबर से शुरू हो गया है। कोरोना महामारी को देखते हुए पुख्ता इंतजाम…

मानसून सत्र से पहले स्पीकर का विधायको से अपील, सदन को सुचारु रूप से चलने में करे सहयोग

झारखंड विधानसभा का मानसून सत्र आज से शुरू हो रहा है। झारखंड विधानसभा का मानसून सत्र 18 सितंबर से लेकर…

BPSC Bharti 2020: 66वीं संयुक्त सिविल सेवा भर्ती परीक्षा नोटिफिकेशन, डीटेल

Bihar 66th Combined Civil Services Exam 2020 Notification: बिहार लोक सेवा आयोग (BPSC) ने 66वीं बिहार संयुक्त सिविल सेवा परीक्षा 2020…

Railway RRB NTPC: जाने स्टेटस, एग्जाम डेट

RRB NTPC Application Status 2020: RRB NTPC के विभिन्न पदों पर आवेदन करने वाले एक करोड़ से अधिक उम्मीदवार,जल्द ही…

Get notified Subscribe To The News Khazana

Follow Us

Popular Topics

Trending

Related News

जोहार 😊

Popular Searches